सदस्य:Anitta joseph/sandbox

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

'मार्गियड इवांस'

मार्गियड इवांस

परीचय[संपादित करें]

मार्गियड इवांस बहुत प्रतिपा शाली लेखिका थी। वो कविता ,लघु कथाएँ,उपन्यास जैसी अनेक मेघला में प्रतिपाशाली थी। मध्यबीसवीं सदी के की सबसे उल्लेखनीय महिला लेखकों में एक है मार्गियड इवांस। मार्गियड इवांस वेल्श बॉर्डरलैंड के एक उत्कृष्ट लेखक थे, जिनका काम उनके जीवनकाल के दौरान व्यापक रूप से प्रशंसत था वो एक प्रदीपा शाली लेखिका थी।

जीवनी[संपादित करें]

इवांस का जन्म १७ मार्च १९०९ में पैग्जी व्हिस्लर उक्सब्रिज, मिडलसेक्स में हुआ था। गॉडफ्रे जेम्स विसिलेर था उसकै पिता का नाम । उसकी पिता एक बीमा क्लर्क थे। वह १९३० और १९४० के प्रसीथ काव्यत्रि थे। उसने उपन्यास, लघु कथाएँ, कविता आदि लिखि हे और महान मौलिकता और सूक्ष्मता के आत्मकथात्मक कामों के बारे में भी लिखी है। अपने क्रिती "बॉर्डर लिस्टिंग" और "कंट्री डांन्स" (१९३२) के लिए वो सबसे अच्छी जानी जाती थी। जो क्लासिक्स की 'लाइब्रेरी ऑफ वेल्स' श्रृंखला में विशेष है। “ए रे ऑफ़ डार्कनेस "(१९५२) और “आत्मकथा” (१९४३, द्वितीय संस्करण,१९५२) उसकी अन्य प्रसिद्ध काम हैं।

लेख[संपादित करें]

मार्गियड इवांस की सबसे महत्वपूरण काम में एक कंट्री डांन्स है । "कंट्री डांन्स" को वेल्श वेदरिंग हाइट्स कहा जाथा है। पूरी तरह से कृषि समुदाय के बारे में एक उपन्यास लिखने के लिए प्रकृति के विवरण की बात करना तो "कंट्री डांन्स" आश्चर्यजनक रूप से विरल है। "कंट्री डांन्स" को एक दशक से भी अधिक समय में वेल्स में लिखा गया था, जिसे २००६ में बीबीसी रेडियो ४ की बेस्टटाइम में लोकप्रिय पुस्तक पर क्रमबद्ध किया गया था। हियरफोर्डशायर के ग्रामीण इलाकों के लिए उनका स्नेह ओर प्यार बढने के कारन १९१८ में “रॉस-ऑन-वाये “ में एक चाची के लिए भुगतान करने लगी थि मार्गियड इवांस। परिवार के सात १९२१ में ब्रदस्टो रहने केलिये चले गए। वह “रॉस और हायरफोर्ड स्कूल ऑफ आर्ट” में अपना पडायी पुरी की थी। मार्गियड इवांस नाम अपने पिता की मां से यानीकी अपनी दादी के नाम से लिया जो इवांस था, जो उसका कलम नाम था। २८ अक्टूबर १९४० को व्हिस्लर ने जओर्ज माइकल मेंडस विलियम्स से शादी की,उसके बात वे रॉस के पास ललांगरॉन के एक खेत में रहने के लिए गए, जहां उनके पति ने काम किया था। उस्की पांचवें उपन्यास को अपनी आत्मकथा के रुप में वो छोड़ दिया गया था। उसने “ अंधकार (१९४७) और एक कहानियों की मात्रा” नामक पुस्तक इस सामाय में प्रकाश किया।


जब उनकी पति सेना में काम कर रहे थे मार्गियड इवांस ने “द ओल्ड एंड द यंग” (१९४८)नामक पुस्तक भी प्रकाशित की। वे १९५० में एल्कस्टोन -ग्लूकस्टर के पास में वो गए, जहां उनके पति एक शिक्षक बनने के लिए प्रशिक्षण दे रहे थे। उसकी खोज कि वह मिर्गी थीं, एक और आत्मकथात्मक का खाता उसने वहा से गोला “ रे ऑफ़ डार्कनेस (१९५२)”था उसका नाम । १९५१ मे मार्गियड ने एक बेटी को जनम दीया उसका नाम कयासंद्रा था। इस जोड़ी ने १९५३ में ससेक्स की हार्टफील्ड में अपनी बेटी कयासंद्रा के साथ स्थानांतरित गया, जहां उसकी पति ने शिक्षण शुरू किया। धीरे धीरे इवांस के स्वास्थ्य में गिरावट आई और वे होमसीकनस (घर के बाहर रहने से खिन्न) से पीड़ित हो गए। वो अपने घर को ,परिवार को और अपने गाव को छाहने लगी। कुछ समय बात मार्गियड इवांस मस्तिष्क ट्यूमर से पिडीत हुअ। उस समय उसने "थी नैटआनगिमल सैलेनसीइट (१९५४) नामक कविता लिखी। कविता का दूसरा खंड, य् कैंडल एहड (१९५६), कला परिषद् की वेल्श समिति से एक पुरस्कार जीता। बिमारी के हालत में भी वो अपना लिखना नही छोडा। वो मस्तिष्क ट्यूमर को भी अपना कलम से हारा देने की कोशीश की मागर १७ मार्च १९५८ को ट्यूनब्रिज वेल्स, केंट में उनका मर्तयु हो गया। मार्गियैड इवांस के काम पर ब्याज, विशेष रूप से वेल्स में पुनर्जीवित किया गया है। मार्गियड इवांस की स्र्र्श्टी में जान थी। एसी पुसतक जो अपना दिल को चु लेने वाले, मार्गियड इवांस सब केलिए प्रेरण हे।

प्रकाशित ग्रन्थ[संपादित करें]

टर्फ और स्टोन

दी वूडेन डोकटर

कंट्री डांन्स

दी ओलड आड यंनग

संदर्भ[संपादित करें]

[1] [2] [3]

[4]

  1. https://en.wikipedia.org/wiki/Margiad_Evans
  2. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/19884046
  3. library-of-wales-country-dance
  4. http://press.uchicago.edu/ucp/books/book/distributed/R/bo15483130.html