सदस्य:Aishwarya Joji Mathew/प्रयोगपृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
तिरुवातिरा

तिरुवातिरा दक्षिण भारतीय (केरल और तमिलनाडु) राज्यों में मनाया जाने वाला एक हिन्दु त्यौहार है | तमिल में तिरुवातिरा का मतलब है "पवित्र बड़ी लहर "जिसके उपयोग से भगवान शिव ने करीब १३२ वर्ष पहले इस ब्रमांड की सृस्टि की थी | तमिलनाडु में चिदंबरम ,इस तिथि पर हरिद्वार मंदिर का वार्षिक त्यौहार मनाया जाता है |

इतिहास[संपादित करें]

यह उत्सव केरल राज्य के कोल्लम जिला में , माकूर के महीने में, तिरुवातिमकोर देवस्वोम बोर्ड के स्वामित्व में , तिरुवातिरा सितारा मटिर पैदिका देवी के मंदिर में मनाया जाता है | तिरुवातिरा का भगवान चन्द्रमा के साथ सम्बन्ध है | यह तमिल महीने, मरजाईजी के पूर्णिमा की रात को जगह लेता है और यह साल की सबसी लम्बी रात है |पत्थर के शिलालेख राज्यों के रूप में साहित्य और इतिहास यह साक्ष्य देते है कि यह त्यौहार इस दिन १५०० से भी अधिक वर्षो के लिए मनाया गया है | कई नामो से तमिल में भगवान शिव की प्रशंसा की जाती है उनमे से एक तिरुवथिरै से "अथिरैन" है |तमिल भजन जैसे माणिकवासागर, तिरुवासागम मंदिरों में गाये जाते है | तिरुवथिरै के दिन में नटराज की मूर्तिया और उनकी पत्नी शिवकामी को भव्य जुलूस के लिए मंदिरों के बाहर लाया जाता है | तमिलनाडु के लगभग सभी शिव मंदिरों में यह एक प्रमुख घटना है | तिरुवथिरै पाथीगाम के नाम पर अपार ने तेवराम में एक अलग पाथीगाम लिखा था जो तिरुवथिरै के महत्त्व और उत्सव का वर्णन करता है |

नृत्य रूप[संपादित करें]

तिरुवातिराकली एक नृत्य है, अनंत वैवाहिक आनद प्राप्त करने के लिए, मलयालम महीने के" दानू" के तिरुवातिरा दिन पर महिलाओ के द्वारा प्रदर्शित किया जाता है |यह नृत्य वैवाहिक निष्ठा और महिला ऊर्जा का उत्सव है जो कामदेव को जीवन मे वापस लाया ,जब वह भगवान शिव की आग से राख में घटा दिया गया था | एक निळविलुक्कु के चारो और नृत्कियो के समूह के द्वारा किया गया नृत्य स्त्री के अनुग्रह का वर्णन करती है | यह नृत्य, गाना और हाथो की थालियों के साथ एक परिपत्र पैटर्न का पालन करती है |यह सब मौसम के लिए एक लोकप्रिय नृत्य प्रपत्र बन गया है | यह अनिवार्य रूप से एक शावावादी उत्सव है और भगवान शिव का कास्मिक नृत्य को मनाते है, जो नटराज रूप में दर्शाया गया है | अरुद्रा स्वर्ण लाल लो का प्रतीक है और भगवान शिव उसपर अपनी प्रस्तुति देते है |

विवरण[संपादित करें]

सूर्य दर्शन दिवस के दौरान भगवान शिव को भगवान नटराज के रूप में पुनर्जन्म माना जाता है | दुनिया भर के अधिकांश मंदिर भगवान शिव और नटराज के साथ देवता के रूप में अरुद्रा दर्शन का प्रदर्शन करते है | "नैवेद्यम" भगवान नटराज के लिए बनाया गया, उस दिन को तिरुवातिरै कली कहते है | केरल में यह त्यौहार भगवान शिव के जन्म दिन के रूप में मनाया जाता है | भगवान शिव के मलयालम केलिन्डर के अनुसार तिरुवातिरा एक तारा है | दूसरा विशवास यह है कि यह त्यौहार कामदेव की मरण का स्मरण कराता है |जो कामुक इच्छा के हिन्दु भगवान है |

संस्कृति और परंपरा[संपादित करें]

यह विश्वास किया जाता है कि इस दिन में देवी पार्वती उसकी लम्बी तपस्या के बाद आखिरकार भगवान शिव से मिली और भगवान शिव उसे सहधर्मा चारिणी के रूप में उसे स्वीकार कर लिया | वे दोनों ही दर्शको के लिए अर्दनारीश्वर के रूप में भक्तो के आदर्श है | अन्य लोकप्रिय त्यौहार जैसे ओणम और विशु के सामान तिरुवातिरा केरल का एक महत्वपूर्ण एवं पारम्परिक त्यौहार है | पहले दिनों में यह त्यौहार केरल समुदाय द्वारा जैसे नम्बूदीरी,क्षत्रिय और नायर लोगो के द्वारा मनाया जाता था | यह त्यौहार मोटे तौर पर महिलाओ के लिए है, जिसमे अविवाहित महिलाये उस दिन अच्छे पति की कामना के लिए उपवास रखती है और विवाहित महिलाये पिछले और उस दिन ,अपनी पति और परिवार के लिए उपवास रखती है | नवविवाहित महिलाओ का पहला तिरुवातिरा पुतिरुवातिरा है | यह उपवास अनिवार्य रूप से चावल आधारित भोजन को शामिल करता है| तिरुवातिरा पाठ देवी पार्वती और भगवान शिव दोनों की प्रेम कहानियो को वर्णित करती है |

वेशभूषा[संपादित करें]

तिरुवातिरा कली एक नृत्य रूप है जो महिलाओ के समुदाय द्वारा प्रस्तुत किया जाता है जिसमे सरल ,मोहने वाले कदम शामिल है | पुराने जन्म में महिलाये उत्सवों एवं कार्यो के समय नृत्य की प्रस्तुति अपने घर में देते थे जिसे कैकोट कली कहते है | इस त्यौहार के अवसर पर महिलाओ का वेशभूषा केरल के अंदाज में मुंड एवं नेरियातू और अपने बालो को चमेली के फूलो से सजाकर प्रस्तुति और आकर्षमय बनाते है | कैकोट कली खुशी का सन्देश एवं विवाहित महिलाये अपने प्यार के प्रति और अविवाहित महिलाये अपने प्यार के लिए, अपनी भावनाओ को दिखाते है | तिरुवातिरा का केरल के स्वयं के संस्करण,करवाचौथ के रूप में भी जाना जाता है | यह त्यौहार परस्पर प्रेम, सदभाव एवं आनन्दप्रदायक का प्रतिक है ||

सन्दर्भ[संपादित करें]

1.https://en.wikipedia.org/wiki/Thiruvathira 2.https://www.webindia123.com/kerala/festivals/festival1.htm