सकल सन्नादी विरूपण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

किसी आवर्ती संकेत (पेरिऑडिक सिग्नल) का सकल संनादी विरूपण (total harmonic distortion, या THD) बताता है कि वह संकेत पूर्णतः साइनाकारी संकेत की तुलना में कितना 'विरूपित' है। इसकी परिभाषा निम्नलिखित है-

जहाँ Vn, nवें हार्मोनिक (सन्नादी) का RMS वोल्टता है, तथा n = 1 मूल आवृत्ति (fundamental frequency) है।

उदाहरण[संपादित करें]

उपरोक्त परिभाषा के अनुसार, बहुत से मानक संकेतों के लिये सकल सन्नादी विरूपण का मान सीधे निकाला जा सकता है।[1] उदाहरण के लिये, शुद्ध [[वर्गाकार तरंग (square wave) के लिये THDF का मान यह होगा-

इसी तरह, आरादन्त संकेत (sawtooth signal) के लिये,

The pure symmetrical triangle wave has THDF of

For the rectangular pulse train with the duty cycle μ (called sometimes the cyclic ratio), the THDF has the form

ध्यान दें कि जब संकेत सममित (symmetrical) हो जायेगा, अर्थात् μ=0.5, तब इस संकेत का THD न्यूनतम (≈0.483) होगा।

उपयोग[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; iaroslav_04 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।