सकल सन्नादी विरूपण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

किसी आवर्ती संकेत (पेरिऑडिक सिग्नल) का सकल संनादी विरूपण (total harmonic distortion, या THD) बताता है कि वह संकेत पूर्णतः साइन-आकारी संकेत की तुलना में कितना 'विरूपित' है। इसकी परिभाषा निम्नलिखित है-[1]

जहाँ Vn, nवें हार्मोनिक (सन्नादी) का RMS वोल्टता है, तथा n = 1 मूल आवृत्ति (fundamental frequency) है।

उदाहरण[संपादित करें]

Waveforms.svg

उपरोक्त परिभाषा के अनुसार, बहुत से मानक संकेतों के लिये सकल सन्नादी विरूपण का मान सीधे निकाला जा सकता है। उदाहरण के लिये,

(१) शुद्ध वर्गाकार तरंग (square wave) के लिये THDF का मान यह होगा-

(२) इसी तरह, आरादन्त संकेत (sawtooth signal) के लिये,

(३) पूर्णतः सममित त्रिभुजाकार तरंग (pure symmetrical triangle wave) का THDF निम्नलिखित होगा-

(४) किसी आयताकार पल्स-शृंखला, जिसकी ड्यूटी सायकिल μ हो, (rectangular pulse train with the duty cycle μ) इसकी THDF निम्नलिखित होगी-

ध्यान दें कि जब संकेत सममित (symmetrical) हो जायेगा, अर्थात् μ=0.5, तब इस संकेत का THD न्यूनतम (≈0.483) होगा।

उपयोग[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Iaroslav Blagouchine and Eric Moreau. Analytic Method for the Computation of the Total Harmonic Distortion by the Cauchy Method of Residues. IEEE Transactions on Communications, vol. 59, no. 9, pp. 2478–2491, September 2011". मूल से 9 जून 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 अप्रैल 2020.
  2. "Recommended Practice and Requirements for Harmonic Control in Electric Power Systems". मूल से 16 अप्रैल 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 अप्रैल 2020.

सन्दर्भ[संपादित करें]