संवृत तंत्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

संवृत तंत्र या बन्द तंत्र (closed system) ऐसे भौतिक तंत्र को कहते हैं जिसमें बाहर से कोई पदार्थ न अन्दर आ सकता है और न अन्दर से बाहर जा सकता है। कुछ अन्य सन्दर्भों में (जैसे भौतिकी, रसायन और इंजीनियरी में) संवृत तंत्र उस तंत्र को कहा जाता है जिसमें ऊर्जा न बाहर से अन्दर आ सकती है न अन्दर से बाहर जा सकती हो।

विभिन्न क्षेत्रों में 'संवृत तंत्र'[संपादित करें]

चिरसम्मत यांत्रिकी में[संपादित करें]

ऊष्मागतिकी में[संपादित करें]

ऊष्मागतिकी के क्षेत्र में विलगित, बन्द और खुला तन्त्र

ऊष्मागतिकी में, बन्द तंत्र उसे कहते हैं जिसकी सीमा के आर-पार ऊर्जा/कार्य का आदान-प्रदान हो सकता है किन्तु पदार्थ का नहीं। विलतित तंत्र (isolated system) की सीमा के आर-पार ऊष्मा, कार्य या पदार्थ का आदान-प्रदान नहीं हो सकता। खुले तंत्र में सीमा के आर-पार ऊर्जा और पदार्थ दोनों का ही आदान-प्रदान होता है।

क्वाण्टम भौतिकी में=[संपादित करें]

रसायन विज्ञान में[संपादित करें]

इंजीनियरी में[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]