संरचनात्मक जीवविज्ञान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

संरचनात्मक जीवविज्ञान (structural biology) आणविक जीवविज्ञान, जीवरसायन और जैवभौतिकी की एक शाखा है जिसमें प्रोटीन जैसे वृहदणुओं के ढांचों का अध्ययन करा जाता है। इसमें इन ढांचों की उत्पत्ति का कारणों और ढांचों में परिवर्तन से उन अणुओं की क्रियाओं पर प्रभाव का अध्ययन करा जाता है। जीवविज्ञान में यह वृहदणु बहुत महत्व रखते हैं क्योंकि कोशिकाओं के अधिकतर कार्य वही करते हैं और इन कार्यों के लिए उनका विशेष आकारों व ढांचों को अपना लेना अत्यंत ज़रूरी होता है।[1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Banaszak, Leonard J. (2000). Foundations of Structural Biology. Burlington: Elsevier. ISBN 9780080521848.