संज्ञाहरण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

संज्ञाहरण (एनेस्थेशिया) या संज्ञाहीनता (वर्तनी में अंतर देखें; ग्रीक के αν- से व्युत्पन्न, an- , "बिना"; और αἴσθησις, aisthēsis , "संवेदन"), का पारंपरिक अर्थ है संवेदनशीलता (दर्द महसूस करने सहित) महसूस करने की स्थिति का अवरोधन अथवा अस्थायी रूप से हरण. यह औषधीय प्रेरित होती है और शब्दस्मृतिलोप, पीड़ाशून्यता, सजगता की हानि, कंकालीय मांसपेशी प्रतिक्रिया या कम तनाव प्रतिक्रिया या सभी के साथ अनुवर्ती हैं. यह रोगियों को तनाव तथा दर्द महसूस किये बिना शल्यक्रिया से गुजरने की अनुमति देती है. एक वैकल्पिक परिभाषा है "प्रतिवर्ती जागरूकता की कमी" जिसमें जागरूकता का पूर्ण रूप से अभाव होता है (उदाहरण स्वरूप एक सामान्य चेतनाशून्य करने वाली औषधी), या शरीर के किसी एक भाग में चेतना का अभाव है जैसे रीढ़ में चेतनालोप. एनेस्थेसिया शब्द का गठन, वर्ष 1846 में ऑलिवर वेंडेल होम्स, सीनियर ने किया था. [1]

संज्ञाहरण के प्रकारों में स्थानीय संज्ञाहरण, क्षेत्रीय संज्ञाहरण, सामान्य संज्ञाहरण, और अलग करनेवाली संज्ञाहरण शामिल हैं. स्थानीय संज्ञाहरण शरीर के एक विशिष्ट स्थान के भीतर संवेदना बोध को रोकता है जैसे दांत या मूत्राशय. शरीर के एक भाग और रीढ़ की हड्डी के बीच तंत्रिका आवेगों के संचारण को अवरूद्ध करने के द्वारा क्षेत्रीय संज्ञाहरण शरीर के एक बड़े क्षेत्र को घेरे में लेता है. क्षेत्रीय संज्ञाहरण के दो अक्सर प्रयुक्त होने वाले प्रकार हैं रीढ़ संज्ञाहरण और एपीड्यूरल संज्ञाहरण. सामान्य संज्ञाहरण मस्तिष्क के स्तर पर संवेदन, मोटर और तंत्रिका संचरण को रोकते हैं जिसके परिणामस्वरूप बेहोशी और संवेदन का अभाव होता है. [2] अलग करनेवाला संज्ञाहरण एजेंट का प्रयोग करता है जो कि दिमाग के उच्च केन्द्र (जैसे मस्तिष्क प्रांतस्था के रूप में) और निम्न केन्द्र जैसे लिम्बिक प्रणाली के भीतर पाया जाता है, के बीच तंत्रिका आवेगों के संचरण को रोकता है.

इतिहास[संपादित करें]

पौधे के तत्त्व[संपादित करें]

सारे यूरोप, एशिया एवं अमेरिका में, सोलानम प्रजाति जिनमें शक्तिशाली किस्म के ट्रोपाना क्षारामों का उपयोग किया गया था, जैसे मेंड्रेक, हेन्बेन, दातुरा धातु, और दातुरा आइनॉक्सिया. प्राचीन ग्रीक और रोमन चिकित्सा शास्त्रों में हिप्पोक्रेट्स, थेयोफ्रेस्टस, आउलुस कॉर्नेलियस सेल्सस, पेडानिअस डयोस्कोराइड्स तथा प्लिनी द एल्डर द्वारा अफीम एवं सोलानम प्रजातियों के इस्तेमाल की चर्चा मिलती है. 13वीं सदी की इटली में थिओडोरिक बोर्गोगनेनी ने अफीमयुक्त मादक द्रव्य के साथ ठीक इसी प्रकार के मिश्रण का इस्तेमाल बेहोशी लाने के लिए किया था, और क्षाराम के संयोग उपचार से उन्नीसवीं सदी तक संज्ञाहरण को एकमात्र आधार के रूप में बरकरार किया. खोपड़ी में छेद करने की शल्यक्रिया से पहले अमेरिका कोका का इस्तेमाल भी संज्ञाहरण के लिए महत्वपूर्ण था. ईन्कैन शैमंस कोका की पत्तियों को चबाते थे और खोपड़ी पर शल्य क्रिया के दौरान बनाए गए घावों पर इसलिए थूकते थे कि सिर का वह विशेष क्षेत्र चेतनाशून्य हो जाय.[कृपया उद्धरण जोड़ें] शराब का इस्तेमाल भी रक्त-वांहिका-विस्फारक गुणों के अज्ञात कारणों से होता रहा. संज्ञाहरण की प्राचीन वनऔषधियों (जड़ी-बूटियों) को विभिन्न प्रकार से निद्राजनक, पीड़ानाशक एवं मादक माना जाता रहा है, जो इस बात पर निर्भर करता है कि यह अचेतनावस्था को जन्म देता है, या दर्द से छुटकारा दिलाता है.

आज की तुलना में वनऔषधियों से संज्ञाहरण (हर्बल एनेस्थेशिया) के उपयोग में एक बहुत ही महत्वपूर्ण खामी थी - जैसा कि फैलोपियस ने खेद जताते हुए कहा है, "जब निद्राजनक दुर्बल होता है, इनका इस्तेमाल बेकार जाता है, और जब कड़ा होता है तो मौत का कारण बन जाता है." इस पर काबू पाने के लिए, उत्पाद को, उन उत्पादों के साथ जो विशिष्ट रूप से विख्यात अंचलों से आते थे (जैसे कि प्राचीन मिस्र के थेब्स क्षेत्र से मिलने वाली अफीम) विशिष्ट रूप से यथासंभव मानकीकृत कर दिया गया. संज्ञाहरण करने वाली औषधियां कभी-कभी स्पोंजिया सोम्नीफेरा को एक सपौंज में बड़ी मात्रा में औषाधि कों पहले सूखने दिया जाता था, जिससे पूरी तरह संतृप्त घोल को रोगी की नाक में बूंद-बूंद निचोड़कर डाला जाता था. कम से कम हाल फिलहाल की शताब्दियों में, उदाहरणार्थ अफीम को सुखाकर उन्नत मान के बक्शों में पैकिंग करने को अक्सर मानकीकृत किया गया. 19वीं सदी में, अनेक प्रजातियों की अलग किस्म की एकोनिटम अल्कोलौइड्स को ग्याना सुअरों पर परिक्षण कर मानकीकृत किया गया. तुरूप यह विधि अफ़ीम की खोज थी, एक शुद्ध उपक्षार को अन्तर्त्वचीय सुई से एक स्थायी मात्रा में इंजेक्शन किया जा सकता है. अफ़ीम का उत्साहपूर्ण स्वीकृति आधुनिक दवा उद्योग का नेतृत्व करने का आधार है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]कोकेन सबसे पहला प्रभावी स्थानीय संज्ञाहारी (एनेस्थेटिक्स) था. सन् 1859 में इसे पृथक किया गया और इसका पहली बार उपयोग सिगमंड फ्रायड की सलाह पर सन् 1884 में नेत्र कि शल्य चिकित्सा में कार्ल कोल्लर द्वारा किया गया. [1] जर्मन सर्जन अगस्त बिएर (1861-1949) ऐसे पहले व्यक्ति थे जिन्होंने 1898 में अंतः मस्तिष्कावरणीय संज्ञाहरण के लिए कोकीन का उपयोग किया था. [3] रोमानियाई सर्जन निकोले रेकोवीसिएनु-पायटेस्टी (1860-1942) ऐसे पहले व्यक्ति थे जिन्होंने अंतः मस्तिष्कावरणीय पीड़ानाशक के लिए ओपिएड का इस्तेमाल किया; उन्होंने 1901 में पेरिस में अपने अनुभव को प्रस्तुत किया. [3] अनेक नए स्थानीय संवेदनाहारी एजेंट जिसमें कई कोकीन से व्युत्पन्न हैं, उन्हें 20वीं सदी में संश्लेषित किया गया, जिसमें यूकैने (1900), अम्य्लोकेन (1904), प्रोकैन (1905), और लिडोकैन (1943) शामिल हैं.

प्रारम्भिक अन्तःश्वसन चेतनाहारी[संपादित करें]

संज्ञाहरण के अगुआ करौफोर्ड डब्ल्यू. लांग
सौथ्वार्ड और हॉस के द्वारा मॉर्टन के समकालीन पुनः नियम 16 अक्टूबर 1846, इथर ऑपरेशन और डागेर्रोटाइप

16 अक्टूबर, 1846 को विलियम थॉमस ग्रीन मोर्टन जो कि एक बोस्टन के दंत चिकित्सक थे, उन्हें मैसाचुसेट्स जनरल अस्पताल में दर्दरहित शल्यक्रिया के लिए उनके नई तकनीक के बारे में बताने के लिए आमंत्रित किया गया था. मॉर्टन के डिएथिल ईथर को सांस लेने के द्वारा प्रेरित करने के बाद सर्जन जॉन कोलिन्स वॉरेन ने एडवर्ड गिल्बर्ट एबोट के गले से एक ट्यूमर निकाला. ऑपरेशन थियेटर में ईथर एनेस्थेसिया (ईथर से चेतना शून्यता) का यह प्रथम सार्वजनिक सर्जिकल को वर्तमान में "ईथर डोम" के नाम से जाना जाता है. पहले से ही संशयवादी डॉ. वॉरेन काफी प्रभावित हो गए थे और उन्होंने कहा "सज्जनों, यह कोई पाखंड नहीं है." कुछ ही समय बाद मॉर्टन को लिखे अपने एक पत्र में चिकित्सक और लेखक ओलिवर वेंडेल होम्स सीनियर ने राज्य उत्पादक का नाम "एनेस्थेसिया" तथा (चेतनाशून्य) करने की प्रक्रिया का नामकरण "एनेस्थेटिक" करने का प्रस्ताव रखा. [4]

पहले-पहले तो मॉर्टन ने अपने संज्ञाहरण करने वाले पदार्थ की वास्तविक स्वरूप को छिपाने की कोशिश की, यह जिक्र करते हुए कि यह लेथिऑन है. अपने कार्य के लिए उन्होंने अमेरिकी पेटेंट तो प्राप्त कर लिया, किन्तु सन् 1846 के उतर्राध में सफल संज्ञाहरण तेजी से प्रकाश में आई. यूरोप में कई माननीय सर्जनों ने तेजी से एथर के साथ कई ऑपरेशन किए इनमें लिस्टोन, जेफेनबैक, पिरोगोव, और साइमे शामिल हैं. अमेरिका में जन्मे एक चिकित्सक बुट्ट ने लंदन के दंत चिकित्सक जेम्स रॉबिन्सन को मिस लोन्सडेल की दंत प्रक्रिया के लिए प्रोत्साहित किया. एक ऑपरेटर एनेस्थेटीस्ट का पहला केस था. उसी दिन 19 दिसंबर 1846 को स्कॉटलैंड की डमफ्रीज़ रॉयल इन्फर्मरी में डॉ. स्मार्ट ने शल्यक्रिया की एक प्रक्रिया के लिए ईथर का इस्तेमाल किया.[कृपया उद्धरण जोड़ें] उसी वर्ष दक्षिणी गोलार्द्ध में एनेस्थेसिया (संज्ञाहरण) का पहली बार प्रयोग लाऊंसटन, तस्मानिया में हुआ. ईथर की अपनी खामियां भी है जैसे कि अत्यधिक उल्टी एवं इसकी ज्वलनशीलता, इसीलिए इंग्लैण्ड में क्लोरोफॉर्म ने इसकी जगह ले ली.

1831 में आविष्कृत, संज्ञाहरण में क्लोरोफॉर्म के इस्तेमाल को आमतौर पर जेम्स यंग सिम्पसन के नाम से जोड़ा जाता है, जिन्होंने कार्बोनिक यौगिकों का व्यापक स्तर पर अध्ययन करने पर 4 नवंबर 1847 को क्लोरोफॉर्म की प्रभावकारिता को प्राप्त किया. इसका उपयोग तेजी से फैलने लगा और सन् 1853 में इसे राज्यकीय मान्यता मिली जब जॉन स्नो ने राजकुमार लियोपोल्ड के जन्म के समय महारानी विक्टोरिया को इसे दिया. दर्भाग्यवश, क्लोरोफॉर्म, ईथर जितना सुरक्षित नहीं है, खासकर इसे जब अप्रशिक्षित चिकित्सक द्वारा इसका इस्तेमाल किया जाता था (मेडिकल छात्रों, नर्सो एवं समय-समय पर जनसाधारण से सदस्यों पर अक्सर इस समय एनेस्थेटिक्स देने के लिए दबाव डाला जाता था). इस कारण क्लोरोफॉर्म का इस्तेमाल कई लोगों की मौत की वजह बन गया (पश्च दृष्टि के साथ) जो निवारणीय हो सकता था. क्लोरोफॉर्म संज्ञाहरण से उत्पन्न पहले संकट को 28 जनवरी 1848 को दर्ज किया गया जब हन्न ग्रीनर की मृत्यु हुई.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

लंदन के जॉन स्नो ने लंदन मेडिकल गेजेट में "ऑन नार्कोरिज़म बाई द इन्हेलेशन ऑफ वेपर्स" (नींद लाने वाली औषधि से होने वाली बेहोशी पर) मई 1848 के बाद से रचनाएं प्रकाशित की. प्रेरित संज्ञाहरण की प्रक्रिया के लिए जरूरत के उपकरणों के उत्पादन में स्नॉ ने स्वयं को शामिल किया.

गैर औषधीय प्रणाली[संपादित करें]

संवेदनाहारी तकनीक के रूप में सम्मोहन के उपयोग का एक लंबा इतिहास है. द्रुतशीतन ऊतक (नमक और बर्फ का एक मिश्रण या डिथाइस एथर या एथिल क्लोराइड का स्प्रे) संवेदना के लिए तंत्रिका फाइबर (अक्षतंतु) की क्षमता को अस्थायी रूप से बाधित कर सकती है. अल्पकैप्नियता जो कि अतिवातायनता के परिणामस्वरूप होता है, वे दर्द सहित संवेदी उत्तेजनाओं के होश धारणा को अस्थायी रूप से बाधित कर सकते हैं (लेमेज़ तकनीक को देंखे). इन तकनीकोक्ष को शायद ही कभी आधुनिक संवेदनाहारी व्यवहार में अपनाया जाता है.

संवेदनहीनता प्रदाता[संपादित करें]

पेरियोपेरेटीव देखभाल के विशेषज्ञ चिकित्सक एक संवेदनाहारी योजना के विकास और संज्ञाहरण की संचालन को संयुक्स राज्य में संज्ञाहरणविज्ञानी और ब्रिटेन और कनाडा में एनेस्थेटिस्ट या एनेस्थेजियोलॉजिस्ट के रूप में जाना जाता है. ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, हांगकांग और जापान में सभी एनेस्थेटिक्स चिकित्सकों द्वारा संचालित हैं. नर्स एनेस्थेटीस्टस भी लगभग 109 देशों में संज्ञाहरण का प्रयोग करती है. [5] अमेरिका में 35% एनेस्थेटिक्स, चिकित्सकों द्वारा एकल व्यवहार में प्रदान की जाती हैं, 55% एनेस्थेसिया केयर टीन (एसीटी) द्वारा संज्ञाहरणविज्ञानी चिकित्सकीय सहायकों के द्वारा प्रदान की जाती हैं या प्रमाणित पंजीकृत एनेस्थेटिस्ट नर्स (CRNAs) द्वारा, और लगभग 10% एकल व्यवहार में सीआरएनए द्वारा प्रदान की जाती हैं. [6] [7] [8] [9] [10]

चिकित्सक[संपादित करें]

एक रोगी सिम्युलेटर के साथ संज्ञाहरण छात्रों का प्रशिक्षण.

शाब्दिक अर्थ में, एनेस्थेटिस्ट शब्द, संज्ञाहरण को संचालित करने वाले किसी भी व्यक्ति को संदर्भित करता है. हालांकि, अमेरिका में सबसे अधिक उन नर्सों के लिए किया जाता है जो सर्टिफायड रजिस्ट्रड नर्स एनेस्थेटिस्ट (CRNAs) बनने के लिए संज्ञाहरण में विशेष शिक्षा और प्रशिक्षण पूरा करती हैं. कनाडा और अमेरिका में चिकित्सा डॉक्टर जो संज्ञाहरणविज्ञान में विशेषज्ञता हासिल करते हैं उन्हें संज्ञाहरणविज्ञानी कहा जाता है. यूनाईटेड किंगडम (यूके), ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में ऐसे चिकित्सकों को एनेस्थेटिस्ट या एनेस्थेजियोलॉजिस्ट कहा जाता है

अमेरिका में, एक एनेस्थिसियोलॉजी में विशेषज्ञता प्राप्त चिकित्सक को आमतौर पर कॉलेज में 4 साल, मेडिकल स्कूल में 4 साल, स्नातकोत्तर चिकित्सा प्रशिक्षण या रेसीडेंसी में 4 साल की पढ़ाई पूरी करनी होती है [11] अमेरिकन सोसायटी ऑफ एनेस्थिजियोलॉजिस्ट के अनुसार, 40 मिलियन एनेस्थेटिक्स के 90 प्रतिशत से भी अधिक संज्ञाहरणविज्ञानी प्रतिवर्ष प्रदान करती है या हिस्सा लेती है. [12] यूनाइटेड किंगडम (ब्रिटेन) में, यह प्रशिक्षण मेडिकल डिग्री (चिकित्सकीय उपाधि) पाने तथा 2 वर्षों के मूल आवासीय प्रशिक्षण के बाद कम से कम सात वर्षों तक चलता है, और रॉयल कॉलेज ऑफ एनेस्थेटिक्स के पर्यवेक्षण में परिचालित होता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में मेडिकल डिग्री प्राप्त करने एवं 2 वर्षों की बेसिक रेसीडेंसी के पश्चात, यह प्रशिक्षण पांच वर्षों तक ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड कॉलेज ऑफ एनेस्थेटीस्ट के पर्यवेक्षण में चलता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] अन्य देशों में भी इसी तरह की प्रणालियां है, जिनमें आयरलैंड (द फैकल्टी ऑफ एनेस्थेटिस्ट्स ऑफ द रॉयल कॉलेज ऑफ सर्जन्स इन आयरर्लैंड्स), कनाडा और दक्षिण अफ्रीका (द कॉलेज ऑफ एनेस्थेटिस्ट्स ऑफ साऊथ अफ्रीका) शामिल है.

अमेरिका में, बोर्ड के लिखित और मौखिक परीक्षाओं को संतोषजनक पूरा करने से एक एनेस्थिसियोलॉजिस्ट को अमेरिकी बोर्ड ऑफ एनेस्थेजियोलॉजी (या ओस्टियोपेथिक चिकित्सकों के लिए अमेरिकन ओस्टियोपेथिक बोर्ड ऑफ एनेस्थिसियोलॉजी) के "डिप्लोमेट्" बुलाने की अनुमति देती है. इसे बोलचाल की भाषा में अक्सर "बोर्ड प्रमाणित" के रूप में कहा जाता है. ब्रिटेन में रॉयल कॉलेज की मौखिक और लीखित परीक्षा के भागों को पूरा करने के पश्चात ही फेलोशिप ऑफ द रॉयल कॉलेज ऑफ एनेस्थेटिस्ट्स (FRCA) की उपाधि प्रदान की जाती है.

एनेस्थेसियोलॉजिस्ट की भूमिका खुद संचालन तक सीमित नहीं है- कई एनेस्थेसियोलॉजिस्ट चिकित्सक समस्थिति चिकित्सक के रूप में कार्यरत हैं, और सर्वोत्कृष्ट पीड़ाशून्यता को सुनिश्चित कर रहे हैं और शस्त्रकर्मपूर्व, इंट्राऑपरेटीव और पोस्टऑपरेटीव अवधि के दौरान शरीर क्रिया विज्ञान संबंधी समस्थितिका रखरखाव करते हैं. एनेस्थेसियोलॉजिस्ट एक विशेष प्रकार की सर्जरी (कार्डियोथोरेसिस, ओब्सटेट्रिकल, न्युरोसर्जिकल, पिडिएट्रिक) के लिए संज्ञाहरण, क्षेत्रीय संज्ञाहरण, तीव्र या पुराना दर्द की दवा और गहन देखभाल चिकित्सा में उप-विशेषज्ञता का चुनाव कर सकते हैं.

संज्ञाहरण प्रदाता अक्सर पूरे पैमाने पर मानव सिमुलेटर्स इस्तेमाल करने में प्रशिक्षित होते हैं. यह क्षेत्र पहले इस तकनीक के एडॉप्टर के लिए था एवं इसका उपयोग छात्रों और चिकित्सकों को प्रशिक्षित करने के लिए पिछले कई दशकों तक किया जाता रहा है. संयुक्त राज्य अमेरिका में उल्लेखनीय केंद्रों को जॉन्स हॉपकिंस मेडिसिन सिमुलेशन सेंटर पर पाया जा सकता है, [13] हार्वर्ड सेंटर फॉर मेडिकल सिमुलेशन, [14] स्टैनफोर्ड, [15] द माउंट सिनाई स्कूल ऑफ मेडिसिन एचईएलपीएस सेंटर इन न्यूयॉर्क, [16] और ड्यूक विश्वविद्यालय. [17]

नर्स एनेस्थेटिस्ट्स[संपादित करें]

संयुक्त राज्य अमेरिका में, संज्ञाहरण संरक्षण के प्रावधान में अनुशीलन करने वाली अग्रिम विशेषज्ञ नर्सों को सर्टिफायड रजिस्टर्ड नर्स एनेस्थेटिस्ट (CRNAs) के रूप में जाना जाता है. अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ नर्स एनेस्थेटिस्ट के अनुसार, अमेरिका में CRNAs 39,000 प्रतिवर्ष लगभग 30 मिलियन संज्ञाहरण की पढ़ाई में भाग लेती है, जो कि अमेरिका के कुल का लगभग दो तिहाई है. [18] 50,000 से कम समुदायों में 34% नर्स एनेस्थेटिसिट का अभ्यास करती हैं. CRNAs स्कूल की शुरुआत स्नातक की डिग्री और कम से कम 1 वर्ष की सजग समग्र देखभाल के नर्सिंग अनुभव के साथ होता है, [19] और अनिवार्य प्रमाणन परीक्षा में उत्तीर्ण होने से पहले नर्स को संज्ञाहरण में स्नातकोत्तर की डिग्री प्राप्त करनी होती है. स्नातकोत्तर स्तर के CRNA प्रशिक्षण कार्यक्रम की समय-सीमा 24 से 36 महीने लंबी होती है.

CRNAs, पोडियाट्रिस्ट्स, दंत चिकित्सकों, अनेस्थेसिओलोजिस्ट्स, शल्य चिकित्सकों, प्रसूति-विशेषज्ञों, और अन्य पेशेवरों को जिनको उनकी सेवाओं की आवश्यकता होती है, के साथ काम कर सकते हैं. सीआरएनए शल्य चिकित्सा के सभी प्रकार के मामलों में संज्ञाहरण का प्रबंध करती हैं, और वे चेतनाशून्य करनेवाली सभी स्वीकृत तकनीकों को लागू करने में सक्षम हैं- सामान्य, क्षेत्रीय, स्थानीय, या बेहोश करने की क्रिया. कई राज्य इस पेशे पर प्रतिबंध लगाते हैं, और अस्पताल अक्सर CRNAs एवं अन्य मध्यस्तरीय प्रदाता स्थानीय कानून पर आधारित क्या कर सकते हैं या क्या नहीं कर सकते हैं, प्रदाता के प्रशिक्षण और अनुभव, तथा अस्पताल और चिकित्सक की प्राथमिकताएं को विनियमित करते हैं. [20]

अमेरिका में, सेंटर फॉर मेडिकेयर एंड मेडिकेड सर्विसेस (सीएमएस), यूनाइटेड स्टेट्स डिपार्टमेंट ऑफ हेल्थ एंड ह्यूमन सर्विसेस के भीतर एक संघीय एजेंसी, मेडिकेयर, मेडिकेड और स्टेट चिल्ड्रेन्स हेल्थ इनसुरांस प्रोग्राम (SCHIP) के तहत सभी संज्ञाहरण निर्धारित सेवाएं के भुगतान की सभी शर्तें प्रदान की जाती हैं. एनेस्थिसियोलॉजी की सेवाओं के भुगतान के प्रयोजनों के लिए, सीएमएस एक संज्ञाहरण चिकित्सक को एक चिकित्सक के रूप में पारिभाषित करता है जो अकेले संज्ञाहरण सेवा प्रदान करता है, जबकि सीआरएनए चिकित्सकीय रूप से निर्देशित नहीं है या सीआरएनए या एए जो चिकित्सीय निर्देशित है. [21] आपरिवर्तक के तहत QZ अनेस्थेसिया का दावा है, चिकित्सक के बिना चिकित्सीय निर्देशन के द्वारा इस प्रोग्राम के अधीन एक सीआरएनए एनेस्थिसियोलॉजी सेवाओं के लिए सीएमएस भूगतान की अनुमति देती है. [21] इसके अलावा, सीएमएस के नियमों के तहत, संज्ञाहरण का संचालन केवल निम्नलिखितों के द्वारा होनी चाहिए:

  • मेडिसिन, या ओस्टियोपेथिक मेडिसिन, दंत चिकित्सक, ओरल सर्जन, या पोडियाट्रिस्ट का एक योग्य चिकित्सक.;
  • एक छूटप्राप्त सीआरएनए जो ऑपरेटिंग चिकित्सक या एनेसथेसियोलॉजिस्ट की देखरेख में हो;
  • एक संज्ञाहरणविज्ञानी का सहायक जो कि किसी संज्ञाहरणविज्ञानी के पर्यवेक्षण के अधीन हो. [22]

उपर्युक्त लिखित CRNAs के लिए छूट स्टेट एकजेम्शन है ("ऑप्ट आउट" के रूप में भी निर्दिष्ट है). राज्य छूट के तहत, यदि वह राज्य जहां अस्पताल स्थित है CMS को एक पत्र लिखता है और CRNAs के चिकित्सक पर्यवेक्षण से छूट का अनुरोध करता है, और वह पत्र उस राज्य के राज्यपाल द्वारा हस्ताक्षरित है, तो उस राज्य में स्थित अस्पतालों को CRNAs के चिकित्सक पर्यवेक्षण की आवश्यकता से छूट मिल सकती है. [22] 2001 में, सीएमएस ने सीएमएस को गवर्नर के लिखित अनुरोध द्वारा चिकित्सक देखरेख की आवश्यकता से सीआरएनए के लिए इस छूट को स्थापित किया और इस छूट की प्रक्रिया को राज्य के नागरिकों के लिए सर्वोत्तम हित करार दिया. [23] जुलाई 2009 तक पन्द्रह राज्यों (कैलिफोर्निया, आयोवा, नेब्रास्का, इदाहो, मिनेसोटा, न्यू हैम्पशायर, न्यू मैक्सिको, कैनसस, उत्तरी डकोटा, वॉशिंगटन, अलास्का, ओरेगन, दक्षिण डकोटा, विस्कॉन्सिन और मोंटाना) को सीआरएनए चिकित्सक पर्यवेक्षण विनियमन के ऑप्ट-आउट के लिए चुना है. [23]

संज्ञाहरणविज्ञानी सहायक[संपादित करें]

संयुक्त राज्य अमेरिका में, संज्ञाहरणविज्ञानी सहायक (AAs) स्नातक स्तर के प्रशिक्षित विशेषज्ञ हैं जिन्होंने संज्ञाहरणविज्ञानी के निर्देशन के अंतर्गत संज्ञाहरण में संरक्षण प्रदान करने की विशेष शिक्षा और प्रशिक्षण प्राप्त किया है. एएएस (ऐनेस्थेसिओलोजिस्ट अस्सिस्टेंट्स) आम तौर पर मास्टर डिग्री धारक होते हैं और संज्ञाहरणविज्ञानी के पर्यवेक्षण में लाइसेंस, प्रमाण-पत्र या चिकित्सक प्रतिनिधिमंडल के माध्यम से 18 राज्यों में चिकित्सकीय पेशा करते हैं. [24]

ब्रिटेन में, ऐसे सहायकों के दल का हाल-फिलहाल मूल्यांकन किया गया है. उन्हें "चिकित्सक सहायक" (संज्ञाहरण) के रूप में निर्दिष्ट किया गया है. उनकी पृष्ठभूमि नर्सिंग विभाग, अभ्यास विभाग संचालन, अन्य व्यवसायों से संबद्ध चिकित्सा, या प्राकृतिक विज्ञान की कोई भी शाखा हो सकती है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] प्रशिक्षण, डिप्लोमा स्नातकोत्तर का एक रूप है और इसे पूरा करने में 27 महीने लगते हैं.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

ऑपरेटिंग विभाग के चिकित्सक[संपादित करें]

ब्रिटेन में, ऑपरेटिंग विभाग के चिकित्सक संज्ञाहारक या संज्ञाहरणविज्ञानी के लिए सहायता और समर्थन प्रदान करते हैं. वे शल्यचिकित्सा की प्रक्रियाओं के साथ सर्जन की सहायता कर सकते हैं और संज्ञाहरण से उभरे रोगियों को पश्चात की देखभाल प्रदान करते हैं. परिचालन विभाग, दुर्घटना तथा आपातकालीन विभाग, गहन चिकित्सा इकाई, उच्च निर्भरता इकाई और रेडियोलोजी, कार्डियोलॉजी और एंडोस्कोपी दायरे में ODPs पाए जा सकते हैं जो कि संज्ञाहरण की सहायता में आवश्यक होता है. वे अंग प्रत्यारोपण टीम के साथ भी काम कर सकते हैं साथ ही चिकित्सा पूर्व पीड़ितों की देखभाल करते हैं. वे ब्रिटेन में राज्य-पंजीकृत है. ODP एक पेरीऑपरेटीव दवा का मध्य-स्तरीय चिकित्सा है. ODP, कार्डियोपल्मोनरी पुनरुत्थान में लेक्चर्स और प्रशिक्षण के रूप में कार्य करते हैं और संचालन विभाग में प्रबंधन स्थान में काम करते हैं

पशुचिकित्सा संज्ञाहारक/संज्ञाहारकविज्ञानी[संपादित करें]

पशु चिकित्सा संज्ञाहारक द्वारा इस्तेमाल अधिकांश उपकरण और दवा, मानव रोगियों के लिए उपयोग किए जाने वाले दवा के समवर्ती या समरूप होते हैं. विभिन्न जानवर प्रजातियों के शरीर क्रिया विज्ञान में विशाल अंतर है, जो कि विविध प्रकार के जीवों (उदाहरण के लिए) वृत्ताकारी कीड़ों से लेकर हाथियों तक में चेतनाहारी एजेंटों और प्रसूति प्रणाली के विकल्पों को प्रभावित कर सकती है. कई जंगली जानवरों के लिए चेतनाशून्य करनेवाली औषधियों को एक दूरी से अक्सर दूरस्थ प्रोजेक्टर सिस्टम ("डार्ट गंस" से) के माध्यम से दिया जाना चाहिए इससे पहले कि जानवर से संपर्क किया जा सके. बड़े घरेलू पशुओं को अक्सर शल्य चिकित्सा के कुछ प्रकारों के लिए खड़ी रहने की स्थिति में केवल स्थानीय संज्ञाहरण और शामक दवाओं का उपयोग कर के असंवेदनता उत्पन्न किया जा सकता है. जबकि अधिकांश नैदानिक पशु चिकित्सकों और पशु तकनीशियन नियमित रूप से अपने पेशेवर कर्तव्यों के दौरान ऐनेस्थेटिस्ट्स के रूप में कार्य करते हैं, परन्तु अमेरिका में पशुचिकित्सक ऐनेस्थेसिओलोजिस्ट्स वे पशुचिकित्सक हैं जो कि संज्ञाहरण में दो साल का आवासीय पाठ्यक्रम पूरा किया हो और अमेरिकी कॉलेज ऑफ़ वेटेरिनरी ऐनेस्थेसिओलोजिस्ट्स द्वारा योग्यता प्रमाणीकरण प्राप्त किया हो.

अन्य कार्मिक[संपादित करें]

संज्ञाहरण तकनीशियन विशेष रूप से जैव चिकित्सा तकनीशियन से प्रशिक्षित होते हैं. वे संज्ञाहरण का संचालन नहीं करते लेकिन जिस प्रकार स्क्रब तकनीशियन, सर्जन की सहायता करते हैं इसी तरह ये भी संज्ञाहरण प्रदाताओं की सहायता करते हैं. आमतौर पर इन सेवाओं को सामूहिक रूप से पेरिओपरेटिव सेवा कहते हैं, और इस प्रकार पेरिओपरेटिव सेवा तकनीशियन (पीएसटी) शब्दावली का प्रयोग विनिमेयता के अनुसार ऐनेस्थेसिया तकनीशियन के साथ किया जाता है. संयुक्त राज्य अमेरिका में, एक संज्ञाहरण तकनीशियन एक प्रमाणित संज्ञाहरण तकनीशियन बन सकता है (Cer.A.T.), और उसके बाद प्रमाणित संज्ञाहरण टेक्नोलॉजिस्ट बनने के लिए (Cer.A.T.T.). अमेरिकन सोसायटी ऑफ एनेस्थेसिया टेक्नोलॉजिस्ट एंड टेकनिशियन (ASATT) के माध्यम से. [25] न्यूजीलैंड में, एक एनेस्थेटिक तकनीशियन को न्यूजीलैंड एनेस्थेटिक तकनीशियन सोसायटी द्वारा मान्यता प्राप्त [26] एक पाठ्यक्रम का अध्ययन पूरा करना पड़ता है.

संज्ञाहारी एजेंट[संपादित करें]

संज्ञाहारी (ऐनेस्थेटिक) एजेंट वह औषधि है जो संज्ञाहरण की एक अवस्था लाती है. व्यापक विविध औषधियां आधुनिक संवेदनाहारी पेशे में व्यवहृत होती है. कई संवेदनहीनता के बाहर शायद ही कभी इस्तेमाल की जाती हैं, हालांकि दूसरों को आमतौर पर चिकित्सा के सभी क्षेत्रों में इस्तेमाल किया जाता है. ऐनेस्थेटिक्स(संज्ञाहारियों) को दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है: सामान्य संज्ञाहरण की प्रतिवर्ती हानि का कारण बनता है (सामान्य संज्ञाहारी), जबकि स्थानीय संज्ञाहरण करनेवाली औषधि स्थानीय संज्ञाहरण और नशीली उत्प्रेरणा नोसिसेप्शन की प्रतिवर्ती हानि का कारण बनता है.

संज्ञाहारी उपकरण[संपादित करें]

आधुनिक संज्ञाहरण में, चिकित्सा उपकरणों की एक व्यापक विविधता बाहर कहीं भी आवश्यकता के आधार पर पोर्टेबल (वहनीय) उपयोग के लिए वांछनीय है, चाहे शल्यक्रिया में हो या गहन संरक्षण में सहायता करनी हो. संज्ञाहारी चिकित्सकों को विभिन्न चिकित्सा गैसों, संवेदनाहारी एजेंटों और वाष्पों (वेपर्स), चिकित्सा श्वास सर्किट और विविध प्रकार की संज्ञाहारी मशीन (वाष्पित्र (वेपोराइज़र्स), कृत्रिम सांस-संवातक और प्रेशर गाज सहित और उनकी तदनुसार सुरक्षा सुविधाएं, खतरे और सुरक्षा के दृष्टिकोण से उपकरण के प्रत्येक टुकड़े की परिसीमा, नैदानिक क्षमता और दैनंदिन चिकित्सा में व्यावहारिक अनुप्रयोग के लिए उत्पादन एवं उपयोग में विषद और जटिल ज्ञान का होना आवश्यक है. संवेदनाहारी उपकरणों के द्वारा संक्रमण का संचरण, जोखिम संज्ञाहरण की शुरुआत के बाद से एक समस्या रही है. यद्यपि अधिकांश उपकरण जो मरीजों के संपर्क में आता है वह डिस्पोजेबल (उपयोग के बाद फ़ेंक देने लायक है) होता है, फिर भी स्वयं संवेदनाहारी मशीन से संक्रमण का जोखिम बना ही रहता है [27] या फिर सुरक्षात्मक फिल्टर के माध्यम से जीवाणु के प्रवेश-पथ के कारण. [28]

ऐनेस्थेटिक मोनिटरिंग[संपादित करें]

सामान्य संज्ञाहरण के तहत मरीजों को लगातार शारीरिक सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए निगरानी करानी होगी. अमेरिका में, अमेरिकन सोसायटी ऑफ एनेस्थेसियोजिस्ट ने समान्य संज्ञाहरण, क्षेत्रीय संज्ञाहरण, या बेहोश करने की क्रिया को प्राप्त करने वाले रोगियों के लिए न्यूनतम निर्देश निगरानी की स्थापना की है. इसमें विद्युतहृदलेख (ईसीजी), हृदय गति, रक्त चाप, प्रेरित और समय सीमा समाप्त होने वाले गैस, रक्त की ऑक्सीजन संतृप्ति (नाड़ी ओक्जीमीटर), और तापमान शामिल है. [29] ब्रिटेन में एसोसिएशन ऑफ़ ऐनेस्थेटिस्ट्स (AAGBI) ने सामान्य और क्षेत्रीय ऐनेस्थेसिया में निगरानी के लिए न्यूनतम दिशानिर्देश निर्धारित किए हैं. लघु शल्य चिकित्सा के लिए, आम तौर पर इसमें दिल का दर, ऑक्सीजन संतृप्ति, रक्त दबाव और प्रेरित और समाप्त हुई सांद्रता के लिए ऑक्सीजन, कार्बन डाइऑक्साइड और अंतःश्वसन संवेदनाहारी एजेंटों की निगरानी शामिल है. अधिक आक्रामक सर्जरी के लिए निगरानी कार्य में तापमान, मूत्र उत्पादन, रक्तचाप, केंद्रीय शिरापरक दबाव, फुफ्फुसीय धमनी दबाव और फुफ्फुसीय धमनी रोड़ा दबाव, कार्डियक आउटपुट, मस्तिष्क गतिविधि और तंत्रिकापेशी संबंधी कार्य भी शामिल हो सकते हैं. इसके अलावा, ऑपरेटिंग कमरे वातावरण परिवेश के तापमान और आर्द्रता के लिए निगरानी की जानी चाहिए, साथ ही साथ अपश्वसन के संचय के लिए अंतःश्वसन संवेदनाहारी एजेंट, जो ऑपरेटिंग कमरे कर्मियों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है.

संज्ञाहरण के रिकॉर्ड[संपादित करें]

संज्ञाहरण के रिकॉर्ड संज्ञाहारी चिकित्सा के दौरान घटनाओं का चिकित्सकीय और कानूनी प्रलेखन है. [30] यह दवाओं, तरल पदार्थ और रक्त उत्पादों और प्रक्रियाओं की एक विस्तृत और निरंतर खाते को दर्शाता है, और संज्ञाहरण क्रम के दौरान इसमें शारीरिक अवलोकन प्रतिक्रियाओं, अनुमानिक रक्त की कमी, मूत्र उत्पादन और शरीर-क्रियात्‍मक (उपरोक्त "एनेस्थेटिक निगरानी" अनुभाग को देंखे) शामिल है.

विशेष रूप से 2007 के बाद से परंपरागत रूप से कागज पर हस्तलिखित, संज्ञाहरण रिकॉर्ड अनेस्थेसिया सूचना प्रबंधन प्रणाली (AIMS) द्वारा एक इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड के हिस्सा के रूप में तेजी से प्रतिस्थापित किया जा रहा है. [31] AIMS एक जानकारी सिस्टम है जिसका इस्तेमाल स्वचालित इलेक्ट्रॉनिक संज्ञाहरण रिकॉर्ड कीपर (जो कि मरीज पर शारीरिक नज़र या संवेदनाहारी मशीन) के रूप में किया जाता है, और जो निगरानी और/या संज्ञाहरण मशीनों द्वारा इकट्ठा किए गए रोगी की संज्ञाहरण संबंधी पेरीऑपरेटीव डेटा विश्लेषण संग्रहण को अनुमति दे सकती है. इन पद्धतियों को आमतौर पर ऑपरेटिंग कमरे में चिकित्सा ग्रेड हार्डवेयर पर चलाए जाते हैं. AIMS, स्टैंड-एलोन सिस्टम या अस्पताल सूचना प्रणाली की एकीकृत मॉड्यूल हो सकती है. संज्ञाहरण के साथ ही साथ अस्पताल प्रशासन के साथ ही वैज्ञानिक साहित्य में दस्तावेज विभागों को AIMS से कई लाभ हैं:

  • संज्ञाहरण को कम करने से संबंधित दवा लागत [32]
  • विस्तारित संज्ञाहरण बिलिंग और संज्ञाहरण-संबंधित शुल्क अभिग्रहण [33]
  • सुधारप्राप्त अस्पताल कोडन के माध्यम से विस्तारित अस्पताल प्रतिपूर्ति [34] [35]
  • इंट्राऑपरेटीव संज्ञाहरण रिकॉर्ड के डेटा गुणवत्ता के सुधार [36] [37]
  • समर्थन एनेस्थीसिया कर्मचारियों को समर्थित प्रशिक्षण और शिक्षा [38]
  • नैदानिक निर्णय के निर्माण में सहायता [39]
  • रोगी की देखभाल और सुरक्षा में सहायता [40]
  • नैदानिक पढ़ाई में संवर्धन [41]
  • नैदानिक गुणवत्ता सुधार कार्यक्रमों में संवर्धन [42]
  • नैदानिक जोखिम प्रबंधन के सहायता [43]
  • नियंत्रित पदार्थों की निगरानी के लिए मोड़ [44]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • संवेदनहीनता के दौरान प्रत्यूर्ज प्रतिक्रियाएं
  • संवेदनहीनता की जानकारी
  • एएसए शारीरिक स्थिति वर्गीकरण प्रणाली
  • कार्डियोथोरेसिक एनेस्थिसियोलॉजी
  • वृद्धावस्था संवेदनहीनता
  • इंटराऑपरेटीव न्युरोफिजियोलॉजिकल निगरानी
  • अनेस्थिसियोलॉजी में रोगी सुरक्षा के लिए हेलसिंकी घोषणा
  • मरीज की सुरक्षा
  • पैरीऑपरेटिव नश्वर
  • दूसरी गैस का प्रभाव

संदर्भ[संपादित करें]

  1. “Anesthesia”। The New Illustrated Medical and Health Encyclopedia (Home Library Edition) 1: 87–9। (1976)। संपादक: Morris Fishbein। New York: H. S. Stuttman Co। अभिगमन तिथि: 2010-11-25
  2. Career as an anaesthesiologist. Institute for career research. 2007. प॰ 1. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781585111053. http://www.google.com/books?id=vQb5LnDI5CoC&dq=anesthesia+ancient&lr=&as_brr=3&source=gbs_navlinks_s. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  3. Brill S, Gurman GM and Fisher A (2003). "A history of neuraxial administration of local analgesics and opioids". European Journal of Anaesthesiology 20 (9): 682–9. doi:10.1017/S026502150300111X. ISSN 0265-0215. PMID 12974588. 
  4. Fenster, JM (2001). Ether Day: The Strange Tale of America's Greatest Medical Discovery and the Haunted Men Who Made It. New York: HarperCollins. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780060195236. 
  5. "Nurse anesthesia worldwide: practice, education and regulation". International Federation of Nurse Anesthetists. http://ifna-int.org/ifna/e107_files/downloads/Practice.pdf. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  6. "Is Physician Anesthesia Cost-Effective?". Anesthesia and Analgesia. 2007. http://www.anesthesia-analgesia.org/cgi/content/full/98/3/750#R7-138848. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  7. Rosenbach, ML; Cromwell, J (2007). "When do anesthesiologists delegate?". Med Care 27 (5): 453–65. doi:10.1097/00005650-198905000-00002. PMID 2725080. 
  8. "Nurse anestheisa worldwide: practice, education and regulation". International Federation of Nurse Anesthetists. http://ifna-int.org/ifna/e107_files/downloads/Practice.pdf. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  9. "Surgical mortality and type of anesthesia provider". AANA. 2007. http://www.aana.com/news.aspx?ucNavMenu_TSMenuTargetID=171&ucNavMenu_TSMenuTargetType=4&ucNavMenu_TSMenuID=6&id=1606&terms=medical+direction+percent&searchtype=1&fragment=True. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  10. "Anesthesia Providers, Patient Outcomes, and Cost". Anesthesia and Analgesia. 2007. http://nursing.fiu.edu/anesthesiology/COURSES/Semester%203/NGR%206760%20ANE%20Prof%20Aspects/PROF%20Readings/Abenstein.pdf. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  11. [http://www.acgme.org/acWebsite/downloads/RRC_progReq/040_anesthesiology_07012008_u03102008.pdf स्नातकोत्तर चिकित्सा शिक्षा के लिए ACGME कार्यक्रम की आवश्यकताएं एनेस्थिसियोलॉजी में], प्रभावी: 1 जुलाई, 2008
  12. "ASA Fast Facts: Anesthesiologists Provide Or Participate In 90 Percent Of All Annual Anesthetics". ASA. http://www.asahq.org/PressRoom/homepage.html. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  13. "Johns Hopkins Medicine Simulation Center". http://www.hopkinsmedicine.org/simulation_center/index.html. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  14. "The Center for Medical Simulation". Cambridge, Massachusetts. 2009. http://www.harvardmedsim.org/. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  15. "MedSim-Eagle Patient Simulator – Simulation Center". Stanford University School of Medicine. http://med.stanford.edu/VAsimulator/medsim.html. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  16. "Mount Sinai Simulation HELPS Center". http://msmc.affinitymembers.net/simulator/intro2.html. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  17. "Simcenter". http://simcenter.duke.edu/. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  18. के बारे में. एएएनए. 2010/09/29 पर लिया गया.
  19. बिकमिंग ए सीआरएनए एएएनए 2010/09/29 पर लिया गया.
  20. तथ्य शीट: राज्य के संबंध में ऑप्ट आउट्स. एएएनए. 2010/09/29 पर लिया गया.
  21. Centers for Medicare and Medicaid Services, Department of Health and Human Services (2010). "Chapter 12, Section 50: Payment for Anesthesiology Services". Medicare Claims Processing Manual. Washington, DC: U.S. Government Printing Office. pp. 116–23. http://www.cms.gov/manuals/downloads/clm104c12.pdf. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  22. Centers for Medicare and Medicaid Services, Department of Health and Human Services (2002). "IV: 42CFR482.52: Condition of participation: Anesthesia services". Code of Federal Regulations, Title 42. 3. Washington, DC: U.S. Government Printing Office. pp. 490–1. http://edocket.access.gpo.gov/cfr_2002/octqtr/42cfr482.52.htm. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  23. Centers for Medicare and Medicaid Services (2010). "Conditions for Coverage (CfCs) & Conditions of Participations (CoPs): Spotlight". Washington, DC: Centers for Medicare and Medicaid Services. http://www.cms.gov/CFCsAndCoPs/02_Spotlight.asp. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  24. "Five facts about AAs". American Academy of Anesthesiologist Assistants. Archived from the original on 2006-09-26. http://web.archive.org/web/20060926091707/http://www.anesthetist.org/content/view/14/38/. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  25. "ASATT Certification Information". American Society of Anesthesia Technologists & Technicians. http://www.asatt.org/cert.html. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  26. न्यूजीलैंड एनेस्थेटिक तकनीशियन सोसायटी
  27. Baillie, JK; P. Sultan, E. Graveling, C. Forrest, C. Lafong (2007). "Contamination of anaesthetic machines with pathogenic organisms". Anaesthesia 62 (12): 1257–61. doi:10.1111/j.1365-2044.2007.05261.x. PMID 17991263. 
  28. Scott, DHT; S Fraser, P Willson, G B Drummond, J K Baillie (2010). "Passage of pathogenic microorganisms through breathing system filters used in anaesthesia and intensive care". Anaesthesia 65 (7): 670–3. doi:10.1111/j.1365-2044.2010.06327.x. PMID 20374232. 
  29. संवेदनाहारी मानकों के लिए बुनियादी निगरानी . मूल समिति: मानक और अभ्यास पैरामीटर (21 अक्टूबर, 1986 में एएसए की प्रतिनिधि सभा द्वारा स्वीकृत है, और 1 जुलाई 2011 में प्रभावी तिथि के साथ पिछले 20 अक्टूबर 2010 को संशोधित)
  30. स्टोल्टिंग आरके, मिल्लर आरडी: बेसिक ऑफ एनेस्थेसिया, तीसरी संस्करण, 1994.
  31. . doi:10.1213/​ane.0b013e31818322d2. 
  32. Gillerman, RG; Browning, RA (2000). "Drug use inefficiency: a hidden source of wasted health care dollars". Anesthesia and Analgesia 91 (4): 921–4. doi:10.1097/00000539-200010000-00028. PMID 11004049. 
  33. Reich, DL; Kahn, RA; Wax, D; Palvia, T; Galati, M; Krol, M (2006). "Development of a module for point-of-care charge capture and submission using an anesthesia information management system". Anesthesiology 105 (1): 179–86; quiz 231–2. doi:10.1097/00000542-200607000-00028. PMID 16810010. 
  34. Martin, J; Ederle, D; Milewski, P (2002). "CompuRecord-A perioperative information management-system for anesthesia". Anasthesiologie, Intensivmedizin, Notfallmedizin, Schmerztherapie : AINS 37 (8): 488–91. doi:10.1055/s-2002-33172. PMID 12165922. 
  35. Meyer-Jark, T; Reissmann, H; Schuster, M; Raetzell, M; Rösler, L; Petersen, F; Liedtke, S; Steinfath, M एवम् अन्य (2007). "Realisation of material costs in anaesthesia. Alternatives to the reimbursement via diagnosis-related groups". Der Anaesthesist 56 (4): 353–5. doi:10.1007/s00101-007-1136-6. PMID 17277957. 
  36. Cook, RI; McDonald, JS; Nunziata, E (1989). "Differences between handwritten and automatic blood pressure records". Anesthesiology 71 (3): 385–90. doi:10.1097/00000542-198909000-00013. PMID 2774266. 
  37. Devitt, JH; Rapanos, T; Kurrek, M; Cohen, MM; Shaw, M (1999). "The anesthetic record: accuracy and completeness". Canadian Journal of Anesthesia 46 (2): 122–8. doi:10.1007/BF03012545. PMID 10083991. 
  38. Edsall, DW (1991). "Computerization of anesthesia information management—users' perspective". Journal of Clinical Monitoring 7 (4): 351–8. doi:10.1007/BF01619360. PMID 1744682. 
  39. Merry AF, Webster CS, Mathew DJ (2001). "A new, safety-oriented, integrated drug administration and automated anesthesia record system". Anesthesia and Analgesia 93: 385–90. doi:10.1097/00000539-200108000-00030. http://www.anesthesia-analgesia.org/content/93/2/385.full. अभिगमन तिथि: 2010-11-25. 
  40. O'Reilly, M; Talsma, A; Vanriper, S; Kheterpal, S; Burney, R (2006). "An anesthesia information system designed to provide physician-specific feedback improves timely administration of prophylactic antibiotics". Anesthesia and Analgesia 103 (4): 908–12. doi:10.1213/01.ane.0000237272.77090.a2. PMID 17000802. 
  41. Hollenberg, JP; Pirraglia, PA; Williams-Russo, P; Hartman, GS; Gold, JP; Yao, FS; Thomas, SJ (1997). "Computerized data collection in the operating room during coronary artery bypass surgery: a comparison to the hand-written anesthesia record". Journal of Cardiothoracic and Vascular Anesthesia 11 (5): 545–51. doi:10.1016/S1053-0770(97)90001-X. PMID 9263082. 
  42. Röhrig, R; Junger, A; Hartmann, B; Klasen, J; Quinzio, L; Jost, A; Benson, M; Hempelmann, G (2004). "The incidence and prediction of automatically detected intraoperative cardiovascular events in noncardiac surgery". Anesthesia and Analgesia 98 (3): 569–77. PMID 14980900. 
  43. Feldman, JM (2004). "Do anesthesia information systems increase malpractice exposure? Results of a survey". Anesthesia and Analgesia 99 (3): 840–3. doi:10.1213/01.ANE.0000130259.52838.3B. PMID 15333420. 
  44. Epstein, RH; Gratch, DM; Grunwald, Z (2007). "Development of a scheduled drug diversion surveillance system based on an analysis of atypical drug transactions". Anesthesia and Analgesia 105 (4): 1053–60, table of contents. doi:10.1213/01.ane.0000281797.00935.08. PMID 17898387. 

बाह्य लिंक[संपादित करें]