संज्ञानात्मक असंगति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
दी फॉक्स एंड दी ग्रेप्स एसोप द्वारा लिखी. जब लोमड़ी अंगूर तक पहुंचने में विफल हो जाती है, वह यह निर्णय लेती है की उसे वैसे भी वह अंगूर खाने की इच्छा नहीं थी, जो संज्ञानात्मक असंगति को कम करने के लिए डिज़ाइन अनुकूली वरीयता गठन का एक उदाहरण है [1]

संज्ञानात्मक असंगति एक असहज एहसास है जो विरोधाभासी विचारों को साथ-साथ रखने के कारण होता है. संज्ञानात्मक असंगति के सिद्धांत का प्रस्ताव है कि लोगों के पास असंगति कम करने का एक प्रेरक ऊर्जा होनी चाहिए. वे अपने अभिवृत्ति, विश्वासों, और कार्यकलापों को परिवर्तित करके इसे करते हैं.[2] असंगति को सफाई देने, आरोप लगाने, और इनकार करने से भी कम किया जा सकता है. यह सामाजिक मनोविज्ञान में एक सबसे प्रभावशाली और बड़े पैमाने पर अध्ययन किया जाने वाला सिद्धांत है.

पश्चदृष्टि का पूर्व उम्मीदों के साथ संघर्ष हो सकता है, जैसे, उदाहरण के लिए, एक नई कार खरीदने के बाद खरीदार का पश्चाताप करना. असंगति की स्थिति में, लोग आश्चर्य,[2] भय, अपराध, क्रोध, या शर्मिंदगी महसूस कर सकते हैं. इसके विपरीत सबूत होने के बावजूद, लोग पक्षपाती होकर अपनी पसंद को सही समझते हैं. यह पक्षपात, असंगति के सिद्धांत को भविष्यवाणी करने की शक्ति प्रदान करता है, जिसके तहत वह अन्यथा भ्रमकारी तर्कहीन और विनाशकारी व्यवहार पर प्रकाश डालता है.

"अंगूर खट्टे हैं" का विचार एसोप के दी फ़ॉक्स एंड दी ग्रेप्स नामक दंतकथा से लिया गया है (सी ए. 620-564 BCE). लोमड़ी अंगूर तक पहुंचने में असमर्थ रही, और, संज्ञानात्मक असंगति का अनुभव होते ही, वह उस असंगति को यह कह कर कम करती है कि अंगूर खट्टे हैं. यह उदाहरण एक पद्धति पर चलता है: कोई एक चीज़ की इच्छा रखता है, उसे अप्राप्य पाता है, और अपने असंगति को उस वस्तु की आलोचना कर के कम करता है. जॉन एल्सटर इस पैटर्न "अनुकूलक अधिमान निर्माण" का नाम दिया है.[1]

असंगति का एक महत्वपूर्ण कारण है एक विचार जो स्व-अवधारणा के मौलिक तत्वों के साथ संघर्ष करता है, जैसे "मैं एक अच्छा व्यक्ति हूं" या "मैंने सही निर्णय लिया." एक चिंता, जो एक खराब निर्णय लिए जाने कि संभावना से उत्पन्न होती है, युक्तिकरण, अतिरिक्त कारण बनाने की प्रवृति या अपनी पसंद के समर्थन को उचित ठहराने, को परिणामित कर सकती है. एक व्यक्ति जिसने अभी-अभी एक नई कार पर बहुत सारा पैसा खर्च किया है उसे ऐसा लगता है कि किसी अन्य की पुरानी कार के मुकाबले उसकी नई कार के खराब हो जाने की काफी कम संभावना है. यह विश्वास सही हो भी सकता है और नहीं भी, लेकिन यह असंगति को कम करेगा और उस व्यक्ति को अच्छा महसूस कराएगा. असंगति, पुष्टीकरण पूर्वाग्रह, सबूत को झूटा साबित होने से इनकार करना, और अन्य अहम रक्षा प्रणाली की अगुवाई करता है.

उदाहरण[संपादित करें]

संज्ञानात्मक असंगति आरेख.

इस विचार का प्रतिष्ठित संस्करण एसोप की दंतकथा दी फ़ॉक्स एंड दी ग्रेप्स में व्यक्त किया गया है, जिसमें एक लोमड़ी कुछ ऊंचे लटके अंगूरों को देखती है और उन्हें खाना चाहती है. उन तक पहुंचने का कोई रास्ता ना सूझने पर, वह अनुमान लगा लेती है कि अंगूर संभवतः खाने लायक नहीं होंगे (वे या तो अभी पके नहीं होंगे या वे बहुत खट्टे होंगे). किसी अप्राप्य वस्तु की चाह की असंगति बनाम उसे ना प्राप्त कर पाने को, युक्तिपूर्वक तरीके से यह तय करके कम किया जा सकता है कि अंगूर त्रुटिपूर्ण हैं.

संज्ञानात्मक असंगति के पूर्व अध्ययन में सर्वाधिक प्रसिद्ध मामले को लीओन फेसटिनजर और वेन प्रोफेसी फेल्स नामक पुस्तक के अन्य लोगों द्वारा परिभाषित किया गया.[3] इन लेखकों ने एक समूह में घुसपैठ की जो यह उम्मीद कर रहां था कि इस धरती का विनाश एक निश्चित तारीख में आसन्न है. जब वह भविष्यवाणी विफल हो गई, तो यह आन्दोलन बिखरने के बजाए, और विकसित हुआ, जब सदस्यों में अपनी कट्टरवादिता को साबित करने की होड़ लग गई जिसके लिए उन्होंने धर्मान्तरितों को काम पर लगाया (आगे की चर्चा नीचे देखें).

संज्ञानात्मक असंगति का एक अन्य उदाहरण है बेन फ्रेंकलिन प्रभाव. फ्रेंकलिन ने (1996: पी. 80) एक अनुग्रह की मांग करके एक राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी पर जीत हासिल की औए वे उसे इस प्रकार वर्णित करते हैं:

मेरा लक्ष उसकी चाटुकारिता पूर्ण सम्मान करके उसकी कृपा पाना नहीं हैं, लेकिन कुछ समय बाद, मैंने यह दूसरा तरीका अपनाया. यह सुनकर कि उनके पुस्तकालय में कुछ बहुत ही दुर्लभ और विलक्षण पुस्तक थी, मैंने उसको एक नोट लिखा, जिसमें मैंने उस पुस्तक को प्राप्त करने की इच्छा ज़ाहिर की, और यह आग्रह किया कि वे इस पुस्तक को कुछ दिनों के लिए मुझे दे कर मुझपर यह उपकार करें. उन्होंने उस पुस्तक को तुरंत भेजा, और मैने एक सप्ताह में एक और नोट के साथ उसे वापस कर दिया, जिसमें मैने उनके द्वारा किए गए उपकार के प्रति अपनी भावना को प्रकट किया. जब हम अगली बार हाउज़ में मिले, उन्होंने मुझसे बात की (जो उन्होंने पहले कभी नहीं की थी), और वह भी बहुत सभ्यता के साथ; और उसके बाद भी उन्होंने सभी अवसरों पर मेरी सहायता करने की तत्परता प्रकट की, और हमारी दोस्ती उनकी मृत्यु तक जारी रही. यह, मेरे द्वारा पढ़ी हुई एक पुरानी कहावत की सच्चाई का एक और उदाहरण है, जो इस प्रकार है, "वह व्यक्ति जिसने आपका एक बार भला किया है वह दूसरी बार भी ऐसा करने के लिए तैयार रहेगा, बजाए उसके जिसे आपने स्वयं अनुगृहित किया हो ."[4]

फ्रेंकलिन की धारणा आगे चल कर बेन फ्रेंकलिन प्रभाव के रूप में जानी जाती है. फ्रेंकलिन को किताब उधार देने के बाद उसके प्रतिद्वंद्वी को फ्रेंकलिन के प्रति अपने मनोदृष्टि की असंगति को सुलझाना पड़ा, जिसपर उसनें अभी-अभी एक उपकार भी किया है. उन्होंने अपने इस उपकार को स्वयं से यह कह कर उचित ठहराया कि वह वास्तव में फ्रेंकलिन को पसंद करते हैं, और परिणामस्वरूप तब से उनसे रूखेपन से पेश आने के बजाय इज्जत से व्यवहार करते हैं.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

धूम्रपान को अक्सर संज्ञानात्मक असंगति के एक उदाहरण के रूप में माना जाता है क्योंकि यह व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता है कि सिगरेट फेफड़ों के कैंसर का कारण बन सकता है, फिर भी लगभग सभी एक लंबी और स्वस्थ जीवन जीने की चाह रखते हैं. सिद्धांत के संदर्भ में, एक लंबा जीवन जीने की इच्छा ऐसी किसी गतिविधि के साथ असंगत है जिसके द्वारा जीवन के छोटे होने की काफी संभावना होती है. इन विरोधाभासी विचारों द्वारा उत्पन्न तनाव को धूम्रपान को छोड़ कर, फेफड़ों के कैंसर के सबूत को नकार कर, या अपने धूम्रपान की आदत को न्यायोचित ठहरा कर कम किया जा सकता है.[5] उदाहरण के लिए, धूम्रपान करने वाले अपने व्यवहार को यह कह कर युक्तिसंगत ठहरा सकते हैं कि धूम्रपान करने वाले केवल चंद लोग ही बीमार होते हैं, या कि यह अत्यधिक धूम्रपान करने वालों को ही होता है या यदि उनकी मृत्यु धुम्रपान से नहीं होती तो किसी चीज़ से होगी.[6] जबकि रासायनिक लत, मौजूदा धूम्रपान करने वालों के लिए संज्ञानात्मक असंगति के अलावा काम कर सकती है, धूम्रपान करने वाले नए व्यक्ति संज्ञानात्मक असंगति सरल लक्षणों को प्रदर्शित कर सकते हैं.

संज्ञानात्मक असंगति के इस मामले की व्याख्या सह-अवधारणा के लिए एक खतरे के संदर्भ में की जा सकती है.[7] यह सोच कि "मैं अपने फेफड़ों के कैंसर के जोखिम में वृद्धि कर रहा हूं", इस "आत्म-सम्बंधी विश्वास के साथ असंगत है कि "मैं एक स्मार्ट, युक्तियुक्त व्यक्ति हूं जो हमेशा सही निर्णय करता है." क्योंकि अक्सर बहाने बनाना व्यवहार बदलने की तुलना में आसान होता है, असंगति के सिद्धांत इस निष्कर्ष तक पहुंचते हैं कि मनुष्य तर्कसंगत होते हैं लेकिन हमेशा तर्कसंगत प्राणी नहीं होते.

सिद्धांत और अनुसंधान[संपादित करें]

संज्ञानात्मक असंगति पर किए गए अधिकांश अनुसंधान चार प्रमुख मानदंडों का रूप ले लेते हैं. सिद्धांत के द्वारा उत्पन्न महत्वपूर्ण अनुसंधान संबद्ध है जानकारीयों के खुलेपन के परिणामों के साथ, जो पूर्व विश्वास के साथ असंगत हैं, क्या होता है जब व्यक्ति पूर्व दृष्टिकोण के साथ असंगत तरीकों से कार्य करने लगता है, क्या होता है जब व्यक्ति निर्णय लेता है, और प्रयासों को व्यय करने के प्रभाव के साथ.

विश्वास अपुष्टि प्रतिमान[संपादित करें]

असंगति उस समय उत्पन्न होती है जब लोगों का सामना ऐसी जानकारीयों के साथ होता है जो उनके विश्वास के साथ परस्पर-विरोधी होते हैं. अगर अपनी धारणा को बदलने से असंगति कम नहीं होती, तब यह असंगति गलत अवधारणा या जानकारी की अस्वीकृति या निराकरण को परिणामित करती है, उन लोगों से समर्थन लेकर जो उस विश्वास में भागीदार होते हैं, और दूसरों को सामंजस्य स्थापित करने के लिए राज़ी करने का प्रयास करते हैं.

संज्ञानात्मक असंगति के सिद्धांत का एक प्रारंभिक संस्करण लियोन फेसटिनजर के 1956 की किताब वेन प्रोफेसी फेल्स में प्रकाशित किया गया. इस पुस्तक ने बढ़ते हुए विश्वास के अंदर का विवरण दिया जो कभी-कभी एक पंथ के भविष्यवाणी की विफलता का अनुकरण करता है. सभी विश्वास करने वाले एक पूर्व-निर्धारित स्थान और समय पर मिले, यह मानते हुए कि केवल अकेले वे ही पृथ्वी के विनाश से बच जाएगा. निर्धारित समय आया और बिना किसी घटना के घटित हुए गुजर गया. उन्हें एक तीव्र संज्ञानात्मक असंगति का सामना करना पड़ा: क्या वे किसी धोखे का शिकार हुए हैं? क्या उन्होंने व्यर्थ में अपनी सांसारिक संपत्ति दान कर दी? अधिकांश सदस्यों ने कुछ कम असंगति पर विश्वास करने को चुना: एलियंस ने पृथ्वी को एक दूसरा मौका दिया था, और यह समूह अब इस संदेश का प्रसार करने के लिए सशक्त किए गए: पृथ्वी-दूषण रोकना होगा. इस समूह ने भविष्यवाणी के असफल होने के बावजूद भी नाटकीय रूप से धर्म परिवर्तन को बढ़ाया.[8]

प्रेरित-अनुपालन प्रतिमान[संपादित करें]

फेसटिनजर और कार्लस्मिथ के क्लासिक 1959 के प्रयोग में, छात्रों को एक घंटे का समय कठिन और उबाऊ कार्य करके बिताने के लिए कहा गया (जैसे, पेगों को बार-बार क्वोट्र टर्न घुमाने को कहा गया). यह कार्य एक मजबूत, नकारात्मक रवैया उत्पन्न करने के उद्देश्य से डिजाइन किया गया था. एक बार जब उन बच्चों ने यह कार्य सम्पन्न कर लिया, प्रयोगकर्ताओं ने उनमें से कुछ बच्चों से एक सरल कार्य करने का आग्रह किया. उन्हें दूसरे सब्जेक्ट से बात करने को कहा गया (जो असल में एक अभिनेता था) और उन्हें यह विशवास दिलाने को कहा गया कि उनके द्वारा किए गए कार्य दिलचस्प और मनोहक थे. कुछ प्रतिभागियों को इस अनुग्रह के लिए 20 डॉलर का भुगतान किया गया (मुद्रास्फीति 2010 के अनुसार समायोजित, यह 150 डॉलर के बराबर था), एक अन्य समूह को 1 डॉलर (या 7.50 डॉलर "2010 डॉलर में" भुगतान किया गया), और एक नियंत्रण समूह से इस अनुग्रह को ना रने को कहा गया.

अध्ययन के अंत में जब उनसे उबाऊ कार्य का दर-निर्धारण करने को कहा गया (दूसरे "सब्जेकटों" की अनुपस्थिति में), 20 डॉलर समूह और नियंत्रण समूहों के मुकाबले 1 डॉलर समूह ने उसका अधिक सकारात्मक रूप से दर-निर्धारण किया. इसे फेसटिनजर और कार्लस्मिथ द्वारा संज्ञानात्मक असंगति के लिए साक्ष्य के रूप में समझाया गया. शोधकर्ताओं ने यह सिद्धांत दिया कि लोग परस्पर विरोधी अनुभूति के बीच असंगति अनुभव करते है, "मैने किसी से कहा कि कार्य रोचक था", और "मैने वास्तव में उसे उबाऊ पाया." केवल 1 डॉलर का भुगतान किये जाने पर, छात्र अपने रुख को दबाए रखा जिसे व्यक्त करने के लिए उन्हें मजबूर किया गया था, क्योंकि उनके पास दूसरा कोई औचित्य नहीं था. हालांकि, 20 डॉलर वाले समूह के पास एक उनके व्यवहार के लिए एक स्पष्ट बाह्य औचित्य था, और इस प्रकार उन्हें कम असंगति का सामना करना पड़ा.[9]

बाद के प्रयोगों में, असंगति उत्प्रेरण की एक वैकल्पिक पद्धति आम हो गई. इस शोध में, शोधकर्ताओं ने विपरीत-व्यवहार निबंध-लेखन का प्रयोग किया, जिसमें लोगों को अलग-अलग राशि का भुगतान किया गया (जैसे 1 डॉलर या 10 डॉलर) ऐसे निबंध लिखने के लिए जिनमें उन्हें उनके स्वयं के विचारों के विपरीत राय व्यक्त करना था. जिन लोगों को सिर्फ एक छोटी राशि का भुगतान किया गया उनके पास अपनी अननुरूपता के लिए कम औचित्य है और वे अधिक असंगति का अनुभव करते हैं.

प्रेरित-अनुपालन प्रतिमान का एक प्रकार निषिद्ध खिलौना प्रतिमान है. 1963 में कार्लस्मिथ और एरोंसन द्वारा किए गए एक प्रयोग ने बच्चों में स्व-औचित्य का परिक्षण किया.[10] इस प्रयोग में, बच्चों को एक कमरे में कई किस्म के खिलौनों के साथ छोड़ दिया गया, जिसमें एक बहुत ही वांछनीय खिलौना (स्टेम-शोवेल) (या अन्य खिलौने) शामिल थे. कमरे से निकलने पर, प्रयोगकर्ताओं ने आधे बच्चों को बताया कि एक विशेष खिलौने से खेलने पर एक गंभीर दंड दिया जाएगा और दूसरे आधे से कहा कि एक मामूली सजा दी जाएगी. अध्ययन में सभी बच्चों ने उस खलौने के साथ खेलने से परहेज किया. बाद में, जब बच्चों को कहा गया कि वे आज़ादी के साथ अपनी पसंद की सभी खिलौनों के साथ खेल सकते हैं, मामूली सजा वाले समूह के बच्चों की, सज़ा हटा लिए जाने पर भी, उस खिलौने से कम खेलने की संभावना थी. जिन बच्चों को मामूली सज़ा की धमकी दी गई थी उन्हें खुद को यह समझाना पड़ा कि क्यों उन्होंने खिलौने के साथ नहीं खेला. सज़ा का स्तर अपने आप में इतना अधिक नहीं था, इसलिए अपने असंगति को कम करने के लिए, उन बच्चों को खुद को यह समझाना पड़ा कि वह खिलौना खेले जाने लायक नहीं था.[10]

मुक्त-विकल्प प्रतिमान[संपादित करें]

जैक ब्रेहम द्वारा आयोजित किए गए एक अन्य प्रकार के प्रयोग में, 225 महिला छात्राओं ने आम उपकरणों की एक श्रृंखला का दर निर्धारित किया और फिर उन्हें दो में से कोई एक उपकरण का चुनाव करने की अनुमति दी गई जिसे वे एक तोफे के रूप में अपने घर ले जा सकती थीं. दर निधार्ण के दूसरे दौर के क्रम में यह देखा गया कि प्रतिभागियों ने उन उपकरणों के दर को बढ़ा दिया है जिन्हें उन्होंने चुना है, और उन आइटमों के दर को कम कर दिया है जिसे उन्होंने अस्वीकार कर दिया है.[11] इसे संज्ञानात्मक असंगति के रूप में समझाया जा सकता है. जब एक कठिन निर्णय लेना पड़ता है, तब अस्वीकार वस्तु के पहलू ही खुद को पसंद आते हैं और यह विशिष्टताएं कुछ और चुनने के साथ असंगत होती हैं. दूसरे शब्दों में, यह अनुभूति, "मैं X को चुना", उस अनुभूति के साथ असंगत है कि, "Y में ऐसी कुछ चीज़ें हैं जो मुझे पसंद है." हालिया अनुसंधानों ने इसी प्रकार के परिणाम चार-वर्षीय-बच्चे और कलगीदार बंदर में पाए हैं.[12]

प्रयास-औचित्य प्रतिमान[संपादित करें]

असंगति तब उत्पन्न होती है जब कुछ वांछित लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए, व्यक्ति स्वेच्छापूर्वक एक अप्रिय गतिविधि में संलग्न होता है. असंगति को, लक्ष्य की वांछनीयता अतिशयोक्ति द्वारा कम किया जा सकता है. एरोंसन और मिल्स [13] की थी व्यक्तियों "से गुजरना एक गंभीर या हल्के दीक्षा" करने के लिए समूह का सदस्य बनने के एक. गंभीर-दीक्षा हालत में, व्यक्तियों के एक शर्मनाक गतिविधियों में लगे हुए हैं. समूह निकला बहुत ही सुस्त और उबाऊ हो. गंभीर-दीक्षा अधिक सौम्य दीक्षा हालत में व्यक्तियों की तुलना में दिलचस्प के रूप में समूह का मूल्यांकन हालत में व्यक्तियों.

ऊपर मानदंड सभी के लिए उपयोगी अनुसंधान में इस्तेमाल किया जा जारी है.

हाथ धोने की एक स्थिति से गंदा कारण दिखाया गया है को समाप्त करने के बाद डीसिशनल मतभेद, शायद क्योंकि अक्सर मतभेद द्वारा घृणा नैतिक (के साथ घृणा से संबंधित है जो अपने आप को).[14][15]

चुनौतियां और योग्यता[संपादित करें]

डेरिल कार्यलय सिद्धांत के संज्ञानात्मक असंगति आलोचक था एक जल्दी. वह परिणाम विवरण के प्रयोगात्मक वैकल्पिक प्रस्ताव आत्म अधिक किफ़ायती एक धारणा के सिद्धांत के रूप में. आंशिक समय के अनुसार, लोगों को उनके व्यवहार के बारे में ज्यादा नहीं लगता, चाहे वे अकेले संघर्ष में हैं. कार्यलय फेसटिनजर और कार्लस्मिथ अध्ययन या उनके व्यवहार से उनके नजरिए इन्फरिंग के रूप में प्रेरित अनुपालन प्रतिमान में लोगों व्याख्या की. इस प्रकार, जब पूछा, "क्या आप कार्य दिलचस्प मिला?" वे फैसला किया है कि वे यह दिलचस्प है कि वे क्या किसी को बताया क्योंकि पाया होगा. कार्यलय का सुझाव दिया है कि लोगों को $ 20 का भुगतान किया था एक प्रमुख व्यवहार के लिए उनके प्रोत्साहन, बाहरी और संभावना थे पाया गया है कि वे वास्तव में समापन के बजाय, के लिए अनुभव दिलचस्प काम था कह रही पैसे के रूप में उनके कारण के लिए यह दिलचस्प है.[16][17]

स्थितियों में कई प्रयोगात्मक है, कार्यलय सिद्धांत और फेसटिनजर असंगति के सिद्धांत भविष्यवाणी करने के समान है, लेकिन केवल असंगति के सिद्धांत अराऔस्ल तनाव या अप्रिय भविष्यवाणी की मौजूदगी की. प्रयोगशाला प्रयोगों स्थितियों अरौसल में मतभेद की उपस्थिति है सत्यापित.[18][19] इस संज्ञानात्मक असंगति के सिद्धांत के लिए समर्थन प्रदान करता है और यह संभावना से ही आत्म - धारणा है कि सभी प्रयोगशाला निष्कर्षों के लिए खाते में कर सकते हैं बनाता है.

1969 में, इलियट एरोंसन अवधारणा स्वयं इसे रीफॉरम्युलेटेड जोड़ने बुनियादी सिद्धांत के द्वारा. इस नई व्याख्या के अनुसार, संज्ञानात्मक असंगति नहीं उठता क्योंकि लोग परस्पर विरोधी कागनिशन के बीच मतभेद का अनुभव. इसके बजाय, यह तब होता है जब लोगों को अपने स्वयं के सामान्य रूप से सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ परस्पर विरोधी के रूप में उनके कार्यों को देखते हैं. इस प्रकार, प्रतिमान के बारे में मूल फेसटिनजर और अनुपालन-कार्लस्मिथ अध्ययन का उपयोग प्रेरित, एरोंसन कहा कि मतभेद अनुभूति के बीच था, "मैं एक अनुभूति एक ईमानदार व्यक्ति" और "मैं, दिलचस्प काम खोजने के बारे में झूठ बोला था किसी को".[7] अन्य मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि स्थिरता बनाए रखने के संज्ञानात्मक अवधारणा है एक आत्म छवि, बल्कि निजी आत्म रक्षा के लिए जिस तरह जनता.[20]

1980 के दशक के दौरान, कूपर और फेजियो कि बेसुरापन तर्क था अवेर्सिव परिणाम है, बजाय विसंगति के कारण होता. इस व्याख्या के अनुसार करने के लिए, यह तथ्य है कि झूठ बोल रही है गलत और हानिकारक, बीच कोगनिशंस विसंगति क्या नहीं है बनाता है लोगों को बुरा लगता है.[21] बाद अनुसंधान, लेकिन पाया गया कि लोगों के अनुभव मतभेद भी जब उन्हें लगता है वे कुछ भी गलत नहीं किया है.उदाहरण के लिए, और उनके छात्रों एरोंसन दिखाया है कि लोगों के अनुभव भी मतभेद के अपने परिणामों को जब बयान कर रहे हैं फायदेमंद - के रूप में मनाने की जब वे यौन सक्रिय छात्रों का उपयोग कर का उपयोग करने के कंडोम, जब वे खुद नहीं कर रहे हैं, कंडोम [22]

चेन और सहकर्मियों के प्रतिमान विकल्प है आलोचना मुक्त है और सुझाव दिया कि, पसंद, रैंक "विधि का अध्ययन बेसुरापन रैंक" अवैध है.[23] उनका तर्क है कि अनुसंधान डिजाइन धारणा पर निर्भर करता है कि, अगर दूसरा सर्वेक्षण में विषय दरों अलग विकल्प है, तो है इसलिए बदल विकल्पों की ओर विषय के दृष्टिकोण. वे बताते हैं कि वहाँ अन्य कारणों से एक अलग रैंकिंग में मिल सकता है दूसरा सर्वेक्षण शायद विषयों बड़े पैमाने पर विकल्पों के बीच उदासीन थे. हालांकि, कुछ अनुवर्ती अनुसंधान इस खाते विरोधाभासी सबूत प्रदान की है.[24]

तंत्रिका नेटवर्क में मॉडलिंग[संपादित करें]

संज्ञान के तंत्रिका नेटवर्क मॉडल ने संज्ञानात्मक असंगति और दृष्टिकोण पर किये गए अनुभवजन्य अनुसंधान को दृष्टिकोण निर्माण और परिवर्तन की व्याख्या के एक मॉडल में एकीकृत करने के लिए आवश्यक ढांचा प्रदान किया है.[25]

विभिन्न तंत्रिका नेटवर्क मॉडल का विकास यह भविष्यवाणी करने के लिए किया गया है कि कैसे संज्ञानात्मक असंगति एक व्यक्ति के दृष्टिकोण और व्यवहार को प्रभावित करती है. इनमें शामिल हैं:

  • समानांतर बाधा संतोष प्रक्रिया [25]
  • दृष्टिकोण का मेटा संज्ञानात्मक मॉडल (MCM) [26]
  • संज्ञानात्मक असंगति का अनुकूली संबंधक मॉडल [27]
  • संतोष बाधा मॉडल के रूप में दृष्टिकोण [28]

मस्तिष्क में संज्ञानात्मक असंगति[संपादित करें]

fMRI का प्रयोग करते हुए वैन वीन और सहयोगियों ने क्लासिक प्रेरित अनुपालन प्रतिमान के संशोधित संस्करण में संज्ञानात्मक असंगति के तंत्रिका आधार की जांच की. स्कैनर में रहने के दौरान, प्रतिभागियों ने "तर्क" दिया कि असहज एमआरआई वातावरण फिर भी एक सुखद अनुभव था. शोधकर्ताओं ने बुनियादी प्रेरित अनुपालन निष्कर्षों को दोहराया; एक प्रयोगात्मक समूह में प्रतिभागियों ने एक नियंत्रण समूह स्कैनर के प्रतिभागियों की तुलना में जिन्हें सिर्फ अपने तर्क के लिए भुगतान किया गया ज्यादा आनंद लिया. महत्वपूर्ण रूप से, काउंटर-रुख से प्रतिक्रिया देने से पृष्ठीय पूर्वकाल सिंगुलेट प्रांतस्था और पूर्वकाल द्वीपीय प्रांतस्था, सक्रीय हो गई; इसके अलावा, ये क्षेत्र जिस स्तर तक सक्रिय हुए उससे व्यक्तिगत प्रतिभागियों के रुख परिवर्तन की सीमा का पूर्वानुमान लगा. वान वीन और उनके सहयोगियों का तर्क है कि ये निष्कर्ष फेस्टिन्गर के मूल असंगति सिद्धांत का समर्थन करते हैं, और अग्रिम सिंगुलेट कार्यशीलता के "संघर्ष सिद्धांत" का समर्थन करते हैं.[29]

यह भी देंखे[संपादित करें]

  • क्रेता का पश्चाताप निर्णय उपरांत असंगति का एक रूप है.
  • पसंद-समर्थक पूर्वाग्रह एक ऐसी स्मृति पूर्वाग्रह है जो अतीत के चुनावों को वास्तविकता से बेहतर दिखाता है.
  • संज्ञानात्मक पूर्वाग्रह
  • संज्ञानात्मक विरूपण
  • अनुरूपता सिद्धांत
  • सांस्कृतिक असंगति एक बड़े पैमाने पर असंगति है.
  • दोहरा बंधन एक ऐसी संवादशील स्थिति है जिसमें एक व्यक्ति को अलग-अलग और विरोधाभासी संदेश प्राप्त होते हैं.
  • दोहरा चिंतन जॉर्ज औरवेल के नाइनटीन एट्टी-फोर में प्रस्तुत एक अवधारणा है जो एक व्यक्ति को दो विरोधाभासी विचारों को एक साथ धारण करने और उन दोनों को सही मानने की अनुमति देता है.
  • प्रयास औचित्य एक परिणाम को ऊंचें मूल्य की एक विशेषता प्रदान करने की एक प्रवृति है जो असंगति को सुलझाने के लिए एक महान प्रयास की मांग करता है.
  • दी फॉक्स एंड दी ग्रेप्स संज्ञानात्मक असंगति का एक काल्पनिक उदाहरण प्रदान करते हैं.
  • 1844 के दी ग्रेट डिसअपोएंटमेंट एक धार्मिक संदर्भ में एक संज्ञानात्मक असंगति का उदाहरण है.
  • सत्य-का-भ्रम प्रभाव के अनुसार एक व्यक्ति के एक अपरिचित बयान की तुलना में एक परिचित बयान पर विश्वास करने की संभावना होती हैं.
  • जानकारी अधिभार
  • मनोवैज्ञानिक प्रतिरक्षा प्रणाली
  • आत्म-बोध सिद्धांत अभिवृत्ति बदलाव का एक प्रतिस्पर्धी सिद्धांत है.
  • सामाजिक मनोविज्ञान
  • सच्चा-विश्वासी सिंड्रोम नई जानकारी पर ध्यान दिए बिना एक उत्तर-संज्ञानात्मक-असंगति विश्वास लिए हुए दर्शाता है.

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Elster, jon. खट्टे अंगूर: तार्किकता के ध्वंस का अध्ययन. कैम्ब्रिज 1983, पी. 123ff.
  2. फेसटिनजर, एल. (1957). ए थियोरी ऑफ़ कोग्नेटिव डिसोनेंस. स्टैनफोर्ड, CA: स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस.
  3. फेसटिनजर, एल (1956). वेन प्रोफेसी फेल्स: ए सोशल एंड साइकोलोजिक्ल स्टडी ऑफ़ ए मोर्डन ग्रुप दैट प्रेडिकटेड दी डिसट्रकशन ऑफ़ दी वर्ल्ड , लियोन फेसटिनजर, हेनरी रीएकेन, एंड स्टेनली सचाचटर द्वारा. हार्पर-टोर्चबुक्स, जनवरी 1956. ISBN 0-06-131132-4
  4. फ्रेंकलिन, बेंजामिन (1996). दी ऑटोबायोग्राफी ऑफ़ बेंजामिन फ्रेंकलिन, कोरियर डोवर प्रकाशन. ISBN 0-486-29073-5, 9780486290737. स्रोत: [1] (अभिगम: बुधवार 21 अप्रैल 2010), p.80
  5. एरोंसं, ई., एकर्ट, आर. डी., & विल्सन, टी. डी. (2006). सामाजिक मनोविज्ञान (6th Ed.) उप्पर सैडल रिवर, NJ: पीयरसन प्रेंटिस हॉल.
  6. बैरन, आर ए, और बाइरन, डी. (2004). सामाजिक मनोविज्ञान (10th Ed.). बोस्टन, एम ए: पीयरसन एड्यूकेशन, इंक.
  7. एरोंसन, ई. (1969). दी थीयोरी ऑफ़ कोग्नेटिव डिसोनेंस: ए करेंट पर्सपेक्टिव. एल बरकोविट्ज़ (Ed.) में. एड्वान्सेज़ इन एक्सपेरीमेंटल सोशल साइकोलॉजी , वोल्यूम 4, पीपी 1-34. न्यू यॉर्क: अकैडमिक प्रेस.
  8. फेसटिनजर, एल., रीएकेन, एच. डब्ल्यू., & स्चाचटर, एस. (1956). वेन प्रोफेसी फेल्स. मिनेपोलिस: युनिवरसिटी ऑफ़ मिनेसोटा प्रेस.
  9. फेसटिनजर, एल, & कार्लस्मिथ, जे.एम. (1959). Cognitive consequences of forced compliance. जर्नल ऑफ़ एब्नोर्मल एंड सोशल साइकोलॉजी, 58 (2), 203-210.
  10. एरोंसन, ई., & कार्लस्मिथ, जे. एम. (1963) Effect of the severity of threat on the devaluation of forbidden behavior. जर्नल ऑफ़ एब्नोर्मल एंड सोशल साइकोलॉजी, 66 (6), 584-588.
  11. ब्रेहम, जे. (1956). Post-decision changes in desirability of alternatives. जर्नल ऑफ़ एब्नोर्मल एंड सोशल साइकोलॉजी 52 (3), 384-389.
  12. एग्न, एल. सी., सैंटोस, एल. आर., & ब्लूम, पी. (2007). The origins of cognitive dissonance: Evidence from children and monkeys. साइकोलोजिकल साइंस, 18 (11), 978-983.
  13. एरोंसन, ई. & मिल्स, जे. (1956). The effect of severity of initiation on liking for a group. जर्नल ऑफ़ एब्नोर्मल एंड सोशल साइकोलॉजी, 59, 177-181.
  14. ली, एस. डब्लू. एस., & स्च्वार्त्ज़, एन. (2010) Washing away postdecisional dissonance. विज्ञान, 328 (5979), 709.
  15. ज्होंग, सी.बी & लीलजेनक्विस्ट, के. (2006). Washing away your sins: Threatened morality and physical cleansing. विज्ञान, 313 (5792), 1451-1452.
  16. बेम, डी.जे (1965). An experimental analysis of self-persuasion. जर्नल ऑफ एक्सपेरिमेंटल सोशल साइकोलॉजी , 1(3), 199-218.
  17. बेन, डी.जे. (1967). Self-perception: An alternative interpretation of cognitive dissonance phenomena. मनोवैज्ञानिक समीक्षा, 74 (3), 183-200.
  18. ज़ाना, एम, & कूपर, जे (1974). Dissonance and the pill: An attribution approach to studying the arousal properties of dissonance. जर्नल ऑफ़ परसोनैलिटी एंड सोशल साइकोलॉजी, 29 (5), 703-709.
  19. कीएस्लर, सी.ए., & पलक, एम.एस. (1976). Arousal properties of dissonance manipulations. मनोवैज्ञानिक बुलेटिन, 83 (6), 1014-1025.
  20. तेड़ेस्ची, जे. टी., स्च्लेंकर, बी. आर., & बोनोमा, टी. वी. (1971). Cognitive dissonance: Private ratiocination or public spectacle? अमेरिकी मनोवैज्ञानिक, 26 (8), 685-695.
  21. कूपर, जे, & फेज़ियो, आर. एच. (1984). असंगति के सिद्धांत पर एक नई दृष्टि. एल बरकोविट्ज़ (एड.), एड्वांसेज़ इन एक्स्पेरिमेंटल सोशल साइकोलॉजी (Vol. 17, पी पी. 229-266). न्यूयॉर्क: एकेडमिक प्रेस.
  22. हारमन-जोन्स, ई., बरेहम, जे. डब्ल्यू, ग्रीनबर्ग, जे., साइमन, एल., & नेल्सन, डी.ई. (1996). Evidence that the production of aversive consequences is not necessary to create cognitive dissonance. ,जर्नल ऑफ़ परसोनैलिटी एंड सोशल साइकोलॉजी, 70 (1), 5-16.
  23. चेन, एम. के., & रिसेन जे. एल. (प्रेस में) How choice affects and reflects preferences: Revisiting the free-choice paradigm. जर्नल ऑफ़ परसोनैलिटी एंड सोशल साइकोलॉजी .
  24. एगाना, एल.सी., ब्लूम, पी., & सैंटोस, एल. आर. (2010). Choice-induced preferences in the absence of choice: Evidence from a blind two choice paradigm with young children and capuchin monkeys. जर्नल ऑफ एक्सपेरिमेंटल सोशल साइकोलॉजी 46 (1), 204-207.
  25. पढ़ें, एस. जे., वेनमैन, ई.जे., & मिलर एल.सी. (1997). Connectionism, parallel constraint satisfaction processes, and Gestalt principles: (Re)Introducing cognitive dynamics to social प्स्य्चोलोग्य. व्यक्तित्व और सामाजिक मनोविज्ञान की समीक्षा, 1 (1), 26-53.
  26. पेटी, आर. ई., ब्रीनोल, पी., & डीमारी, के. जी. (2007). The Meta-Cognitive Model (MCM) of attitudes: Implications for attitude measurement, change, and strength. सामाजिक अनुभूति, 25 (5), 657-686.
  27. वान ओवरवाले, एफ, & जोरडेंस, के. (2002). An adaptive connectionist model of cognitive dissonance. व्यक्तित्व और सामाजिक मनोविज्ञान की समीक्षा, 6 (3), 204-231.
  28. मोनरो, बी. एम., & पढ़ें, एस. जे. (2008). A general connectionist model of attitude structure and change: The ACS (Attitudes as Constraint Satisfaction) Model, , मनोवैज्ञानिक समीक्षा, 115 (3), 733-759.
  29. वान वीन, वी., क्रूग, एम. के., स्कूलर, जे. डब्ल्यू., & कार्टर, सी.एस. (2009). Neural activity predicts attitude change in cognitive dissonance नेचर न्यूरोसाइंस, 12 (11), 1469-1474.

अतिरिक्त पठन[संपादित करें]

  • कूपर, जे.(2007). कोग्नेटिव डिसोनेंस: 50 यर्स ऑफ़ ए क्लासिक थीयोरी. लंदन: सेज प्रकाशन.
  • हारमोन-जोन्स, ई, & जे. मिल्स. (Eds). (1999). कोग्नेटिव डिसोनेंस: प्रोग्रेस ओन ए पिवोट्ल थियोरी इन सोशल साइकोलॉजी. वाशिंगटन, डीसी: अमेरिकी मनोवैज्ञानिक संघ.
  • Tavris, C.; Aronson, E. (2007). Mistakes were made (but not by me): Why we justify foolish beliefs, bad decisions, and hurtful acts. Orlando, FL: Harcourt. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-15-101098-1. 

बाह्य लिंक[संपादित करें]

साँचा:Mental processes