संजात

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

संजात(Sanjat) गांव संजात पंचायत, भगवानपुर बेगूसराय जिले में स्थित है। इसका पुराना नाम पुरंदरपुर संजात हैं |इस गांव के लोग बहुत ही शांतिप्रिय होते हैं । कृषि इस गांव का मुख्य पेशा है। फिर भी यह गांव औद्योगिक विकास की प्रतीक्षा कर रहा है। शिक्षा, पेयजल, सड़क और बिजली इस गांव की मुख्य चिंता है। युवा पीढ़ी आजकल मोबाइल, लैपटॉप और कंप्यूटर तकनीक की ओर आकर्षित हो रही है। अगर बैंकों और वित्त संस्थानों ने ग्रामीणों को कर्ज और अन्य वित्तीय सहायता प्रदान की, तो यह गांव वास्तविक विकास को देखेगा। मेडिकल और स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार किया जाना है यहाँ बूढ़ी गंडक के बगल, बांध के नजदीक माँ भगवती का विशाल मंदिर है। जहाँ प्रत्येक वर्ष नागपंचमी के दिन मेला का आयोजन किया जाता है। .यहाँ नरसिंह भगवान का मंदिर है। जो चैत्र महीने में रामनवमी के पूजा का आयोजन किया जाता है। जिसमें ग्रामीण पताका का लहराते हैं। संजात बाजार का महत्व काफी पुराना है। कहा जाता है कि पहले यहाँ काफी संख्या में बाहर से आये हुए व्यापारी रहते थे एवं इस क्षेत्र के प्रमुख बाजारों नरहन,रोसड़ा,बेगूसराय,तेघड़ा के अलावा संजात बाजार भी काफी प्रसिद्ध है।