श्वेता बासु प्रसाद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
श्वेता बासु प्रसाद
ᱥᱣᱮᱛᱟ ᱵᱟᱥᱩ ᱯᱨᱟᱥᱟᱫ
जन्म श्वेता बासु प्रसाद
11 जनवरी 1991
जमशेदपुर, झारखंड, भारत
आवास मुंबई, महाराष्ट्र, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसाय अभिनेत्री
माता-पिता अनुज प्रसाद
सर्मिस्था बासु
संबंधी राहुल (Brother)


श्वेता बासु प्रसाद (संथाली: ᱥᱣᱮᱛᱟ ᱵᱟᱥᱩ ᱯᱨᱟᱥᱟᱫ) एक भारतीय अभिनेत्री हैं। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत बतौर बाल कलाकार हिंदी फिल्मों से शुरू की थी उसके बाद से वह तेलुगू, बंगाली और तमिल सिनेमा में भी मुख्य भूमिकाए निभाई। २००२ में श्वेता बासु ने बतौर बाल कलाकार "मकडी" फिल्म में बहुत तारीफे बटोरी और इस फिल्म के लिए उन्हें "सर्वश्रेष्ठ बाल कलाकार के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार" भी मिला।

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

श्वेता बासु प्रसाद का जन्म जमशेदपुर, बिहार में हुआ था (जो अब झारखण्ड में हैं)। उसके बाद वह अपने परिवार के साथ उनके बचपन में ही मुंबई चले गए।[1] उनके पिता अनुज बिहार से हैं और माता सरमिष्टा पछिम बंगाल से हैं।[2] श्वेता के दादा इंटेलिजेंस ब्यूरो में एक प्रमुख परिचालन अधिकारी के रूप में सेवानिवृत्त हुए थे। उनके पिता अनुज श्रीराम केंद्र, नई दिल्ली से एक निर्देशन और अभिनय डिप्लोमा धारक हैं। उन्होंने आर एन पोडार हाई स्कूल, सांताक्रूज़, मुंबई से वाणिज्य का अध्ययन किया। उन्होंने अपने माँ का पहला नाम "बासु" भी अपने स्क्रीन नाम में जोड़ा। [3]

करियर[संपादित करें]

११[4] वर्ष की आयु में प्रसाद ने अपने एक्टिंग करियर की शरूआत की थी "मकडी" फिल्म में। विशाल भारद्वाज द्वारा निर्देशित ओईस फिल्म में उन्होंने दोहरी भूमिकाए "चुन्नी" और "मुन्नी" का किरदार निभाया था, जिसके लिए उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला था। बतौर बाल कलाकार उन्होंने "करिश्मा का करिश्मा" और "कहानी घर घर की" जैसे टीवी सेरिअल्स में भी काम किया।[5] २००५ में, उसने फिल्म इकबाल में अभिनय किया फिल्म में खादीजा के रूप में उनके प्रदर्शन ने उन्हें ५ वां कराची इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री का पुरस्कार सहित कई पुरस्कार हासिल किए। [6] २००८ में उन्होंने तेलुगू सिनेमा में अपना करियर शुरू किया था फिल्म "कोठा बंगारू लोकं" और यह फिल्म बड़ी व्यावसायिक सफलता बनी। श्वेता ने जन मीडिया और पत्रकारिता में स्नातक किया और एक उन्होंने "रूट्स" नामक एक भारतीय शास्त्रीय संगीत पर एक वृतचित्र तैयार किया जिसमें शास्त्रीय संगीत उद्योग के दिग्गज संगीत जैसे पं शिवकुमार शर्मा, ए आर रहमान, विशाल भारद्वाज, पं हरिप्रसाद चौरसिया, शुभा मुदगल, अमजद अली खान, गुलजार, डॉ एल सुब्रमण्यम, डॉ किरण सेठ, पं नयन घोष आदि हिस्सा थे। श्वेता बासु ने इसके बाद फिर बालाजी टेलेफिल्म्स के एतिहासिक टीवी शो "चन्द्रनंदनी" में काम करना शुरू किया जिसमे वह अभी लीड रोल "नंदिनी" का किरदार निभा रही हैं। श्वेता ने हिंडो फिल्मो में भी धर्मा प्रोडक्टनस की फिल्म "बद्रीनाथ की दुल्हनिया" से वापसी की।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Interview with Shweta Basu Prasad". www.idlebrain.com. Retrieved 2008-10-30.
  2. "Interview with Shweta Basu Prasad". www.idlebrain.com. Retrieved 2008-10-30.
  3. Shweta Prasad's name games. Hindustan Times (2007-11-26). Retrieved on 2012-06-21.
  4. "Interview with Shweta Basu Prasad". www.idlebrain.com. Retrieved 2008-10-30.
  5. PIB Press Releases. Pib.nic.in (2003-07-26). Retrieved on 2012-06-21.
  6. 5th KaraFilm Festival – Karachi International Film Festival 2005. Karafilmfest.com. Retrieved on 2012-06-21.