सामग्री पर जाएँ

श्रेणी:भागवत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

पौंड्र्रक अपने आपको भगवान श्री कृष्ण समझने लगा था यही नहीं उसने अपने काका के पुत्र का नाम बलराम भी रखवा दिया था। वह सुदर्शन चक्र धारण कर अपने आप को भगवान मानने लगा था और भगवान श्री कृष्ण को एक ढोंगी कहता था। उसने अपने छदम् वेश से कई पाप किये एवं कई नारियाें के साथ दुराचार भी किया। स्‍वयं हनुमान जी द्वारा वह मारा गया।

"भागवत" श्रेणी में पृष्ठ

इस श्रेणी में केवल निम्नलिखित पृष्ठ है।