श्रीनाथ सिंह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

श्रीनाथ सिंह (१९०१ - १९९६) द्विवेदी युग के हिन्दी साहित्यकार हैं। इन्होने "सरस्वती" का भी संपादन किया था। उनका जन्म १९०१ ई० में इलाहाबाद जिले के मानपुर ग्राम में हुआ था। इन्होने स्वतंत्रता आन्दोलन में भाग लिया था[1]| हिंदी साहित्य सम्मलेन के इंदौर अधिवेशन में वे महात्मा गाँधी द्वारा सम्मलेन के प्रबंध मंत्री नियुक्त किये गये, बाद में वे हिंदी साहित्य सम्मलेन के सभापति भी हुए[2]| वे तात्कालीन संयुक्त प्रान्त सरकार(१९४६-४७) द्वारा गठित समाचार पत्र उद्योग जांच समिति के सदस्य भी थे[3]|

कृतियाँ[संपादित करें]

उनकी प्रमुख रचनाएँ हैं: उलझन (१९३४), क्षमा (१९२५), एकाकिनी या अकेली स्त्री (१९३७), प्रेम परीक्षा (१९२७), जागरण (१९३७), प्रजामण्डल (१९४१), एक और अनेक (१९५१), अपहृता (१९५२) आदि आपकी प्रसिद्ध कृतियाँ हैं। इनकी कहानियों में ,जो कि पड़ोसी तथा अन्य कहानियाँ , पाथेयिका एवं नयनतारा आदि संग्रहों में संग्रहित हैं , तत्कालीन ग्रामीण जनजीवन की झलक देखी जा सकती है|

इन्होने शिशु, बालसखा, बालबोध एवं दीदी[4], हल, आदि मासिक पत्रिकाओं का अनेक वर्षों तक संपादन किया। श्रीनाथ सिंह ने दैनिक देशबंधु[5] (१९२६ )तथा देशदूत साप्ताहिक समाचारपत्रों का भी सम्पादन किया | बच्चों के लिये श्रीनाथ सिंह ने अनेक लोकप्रिय एवं सरल, सुबोध कविताओं की रचना की जो कि इनके द्वारा रचित पुस्तकों और उपरोक्त पत्रों में मौजूद हैं।[6] अपने समय में ठाकुर श्रीनाथ सिंह के नाम से भी जाने जाते थे। हिंदी के उस समय के कई साहित्यकारों द्वारा समय समय पर उन्हें लिखे गये अनेक पत्र नेहरु म्यूजियम नई दिल्ली में संरक्षित हैं[7]।इनकी बाल उपयोगी रचनाएँ हैं - बाल कवितावली, खेलघर, बालभारती, पिपेहरी, गुब्बारा, मीठीतानें, (सभी कविताएँ)| गरुणकन्या, सुनेहरी नदी का देवता, परिदेश की सैर (कथायें), अविष्कारों की कथायें, इनके उपन्यास कवि और क्रन्तिकारी व सोमनाथ तथा बच्चों के लिये लिखित अविष्कारों की कथायें जो कि श्रीनाथ सिंह के नाम से लिखी गई है , डिजिटल लाइब्रेरी ऑफ़ इण्डिया में हैं। उनकी कई रचनाओं को internet archive में देखा जा सकता है ||

सम्पादन[संपादित करें]

  • दैनिक देश बंधू[8](१९२६) -सुदर्शन प्रेस प्रयाग
  • शिशु[9] (१९२१-२७) -सुदर्शन प्रेस प्रयाग
  • बाल सखा[10] (१९२७-४५) -इंडियन प्रेस प्रयाग
  • सरस्वती[11] (१९३३-३८) -इंडियन प्रेस प्रयाग
  • हल[12] (१९३९) -इंडियन प्रेस प्रयाग
  • दीदी[13] (१९४४-५३) -दीदी प्रेस इलाहाबाद
  • बाल बोध[14] -दीदी प्रेस इलाहाबाद
  • मनमोहन -मित्र प्रकाशन इलाहाबाद
  • दैनिक व साप्ताहिक देश दूत -इंडियन प्रेस इलाहाबाद

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Pandey, Gyanendra (English में). The Ascendancy of the Congress in Uttar Pradesh. Anthem Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781843317623. 
  2. "Smarika". Hindi Sahitya Sammelan,Prayag. 1975. https://archive.org/details/Smarika. 
  3. "पत्रकार समिति" (Hindi में). https://archive.org/details/PatrakarSamiti. 
  4. शुक्ला, सुधाड (2012). महिला पत्रकारिता. प्रतिभा प्रकाशन. प॰ 160. https://books.google.co.in/books?id=0FSDBQAAQBAJ&lpg=PT160&ots=k2YQ993sEm&dq=%E0%A4%B6%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%. अभिगमन तिथि: 20 जुलाई 2015. 
  5. "Dainik Deshbandhu". https://archive.org/details/DainikDeshbandhu. अभिगमन तिथि: 13 मार्च 2017. 
  6. वर्मा, सुरेन्द्र. "हिंदी के श्रेष्ठ शिशु-बाल गीत". http://www.deshbandhu.co.in/newsdetail/3909/3/0. अभिगमन तिथि: 20 जुलाई 2015. 
  7. "Srinath Singh's Docs Nehru Memorial Museum". https://archive.org/details/SrinathSinghsDocsNehruMemorialMuseum. अभिगमन तिथि: 7 मई 2017. 
  8. "Desh Bandhu" (Hindi में). https://archive.org/details/DainikDeshBandhu_201805. 
  9. "Shishu" (Hindi में). https://archive.org/details/ShishuPart1--march1927. 
  10. "Bal Sakha" (Hindi में). https://archive.org/details/BalsakhaAug1928. 
  11. "Sarswati" (Hindi में). https://archive.org/details/in.ernet.dli.2015.263796. 
  12. "Hal" (Hindi में). https://archive.org/details/Hal1942. 
  13. "Didi" (Hindi में). https://archive.org/details/DidiFeb1944. 
  14. "Bal Bodh" (Hindi में). https://archive.org/details/drpschauhan123_gmail_Jan. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]