शिलाजीत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

शिलाजीत एक गाढ़ा भूरे रंग का, चिपचिपा पदार्थ है जो मुख्य रूप से हिमालय की चट्टानों से पाया जाता है। इसका रंग सफेद से लेकर गाढ़ा भूरा के बीच कुछ भी हो सकता है (अधिकांशतः गाढ़ा भूरा होता है।) शिलाजीत का उपयोग आमतौर पर आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जाता है। आयुर्वेद ने शिलाजीत की बहुत प्रशंसा की है जहाँ इसे बलपुष्टिकारक, ओजवर्द्धक, दौर्बल्यनाशक एवं धातु पौष्टिक अधिकांश नुस्खों में शिलाजीत के प्रयोग किये जाते है[1][मृत कड़ियाँ][1]

एक गिलास पानी में शिलाजीत.
शिलाजीत, जैसा कि आमतौर पर सेवन किया जाता है.

यह बहुत  प्रभावी और सुरक्षित है, जो आपके संपूर्ण स्वास्थ्य  पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। शिलाजीत कम टेस्टोस्टेरोन (Low testosterone), भूलने की बीमारी (अल्जाइमर), क्रोनिक थकान सिंड्रोम, आयरन की कमी से होने वाला रक्ताल्पता, पुरुष प्रजनन क्षमता में कमी  (पुरुष बांझपन /Male infertility) अथवा हृदय के लिए लाभदायक है ।

शिलाजीत

शिलाजीत मई और जून की कड़ी गर्मी में पहाड़ों के पसीने के रूप में निकलता हैं जो मूलतः हिमालय के पहाड़ भारत नेपाल पाकिस्तान तिब्बत जैसे सात देशों में फैले हुए हैं से बहता हैं

शिलाजीत के भौतिक व रसायनिक गुण[संपादित करें]

शिलाजीत कड़वा, कसैला, उष्ण, वीर्य शोषण तथा छेदन करने वाला होता है। शिलाजीत देखने में तारकोल के समान काला और गाढ़ा पदार्थ होता है जो सूखने पर चमकीला हो जाता है। यह जल में घुलनशील है, किन्तु एल्कोहोल, क्लोरोफॉर्म तथा ईथर में नहीं घुलता।


शिलाजीत के फायदे शिलाजीत को इंडियन वायग्रा कहा जाता है। शीघ्र स्खलनऔर ऑर्गेज्मसुख से वंचित लोगों में यह कामोत्तेजना बढ़ाने का काम करता है।[2] शिलाजीत के सेवन से नर्वस सिस्टम सही से काम करता है। मानसिक थकावट, अवसाद, तनाव और चिंता से लड़ने के लिए शिलाजीत का सेवन करना चाहिए। शिलाजीत का एक और महत्वपूर्ण कार्य यह है कि यह विभिन्न शरीर प्रणालियों को नियंत्रित करता है, जैसे कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली और हार्मोन का संतुलन। इसके सेवन से महिलाओं के माहवारी की अनियमितता खत्म हो जाती है। [3]

अध्ययनों से पता चलता है कि इसमें विशेष न्यूरोप्रोटेक्टेव क्षमता है। यह अविश्वसनीय पोषक तत्व अल्जाइमर रोग के हल्के मामलों का इलाज करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

शिलाजीत से बनी अन्य औषधियां[संपादित करें]

शुद्ध शिलाजीत निरंतर सेवन करने से शरीर पुष्ट तथा स्वास्थ्य बढ़िया रहता है। आयुर्वेद में ऐसे कई योग हैं, जिनमें शुद्ध शिलाजीत होती है जैसे सूर्यतापी शुद्ध शिलाजीत बलपुष्टिदायक है, शिलाजत्वादि वटी अम्बरयुक्त मधुमेह और शुक्रमेह नाशक है, शिलाजतु वटी आयुवर्द्धक है, वीर्यशोधन वटी स्वप्नदोष और धातु क्षीणता नाशक है, चंद्रप्रभावटी विशेष नं. 1 मूत्र विकार और स्वप्नदोष नाशक है, प्रमेहगज केसरी मधुमेह नाशक है, आरोग्य वर्द्धिनी वटी विशेष नं. 1 उदर विकार नाशक है और ब्राह्मी वटी मस्तिष्क को बल देने वाली और स्मरण शक्तिवर्द्धक है। शिलाजीतयुक्त से सभी औषधियां बनी बनाई औषधि विक्रेता की दुकान पर इन्हीं नामों से मिलती है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

https://web.archive.org/web/20200203124756/https://www.nutrition99.com/shilajit-ke-fayde-aur-nuksan/

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Sharma, Sunil (Sep 13, 2015). "शिलाजीत के 10 फायदे". www.patrika.com. मूल से 4 दिसंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि Dec 3, 2017.
  2. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3296184/#:~:text=Conclusion,supplement%20to%20prevent%20Alzheimer's%20disease Archived 2018-06-18 at the Wayback Machine.
  3. "संग्रहीत प्रति". मूल से 16 जून 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 जून 2020.