शाहगंज

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
शाहगंज
Shahganj
शाहगंज is located in उत्तर प्रदेश
शाहगंज
शाहगंज
उत्तर प्रदेश में स्थिति
निर्देशांक: 26°03′22″N 82°40′55″E / 26.056°N 82.682°E / 26.056; 82.682निर्देशांक: 26°03′22″N 82°40′55″E / 26.056°N 82.682°E / 26.056; 82.682
देश भारत
प्रान्तउत्तर प्रदेश
ज़िलाजौनपुर ज़िला
जनसंख्या (2011)
 • कुल26,556
भाषा
 • प्रचलितहिन्दी, अवधी
समय मण्डलभारतीय मानक समय (यूटीसी+5:30)
पिनकोड223101
वाहन पंजीकरणUP62

शाहगंज (Shahganj) भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के जौनपुर ज़िले में स्थित एक नगर है।[1][2]

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

शाहगंज भौगोलिक दृष्टिकोण से उतर और पूरब में स्थित है। शाहगंज की पुरुषो की संख्या 633960 और महिलाओ की संख्या 316494 हैं। शाहगंज की साक्षरता दर 64% जो की राष्ट्रीय स्तर पर सामान्य से ऊपर माना गया है भारत की सामान्य साक्षरता दर 59.5% माना गया है। यहां पुरुषो और महिलाओ का साक्षरता दर और 57% पुरुषो का 71% है।

इतिहास[संपादित करें]

इस स्‍थान को सुजाउद्दौला ने बसाया। शाह हजरत अली के सम्‍मन मे उसने एक बारादरी और एक ईदगाह का र्नि‍माण कराया। शाहगंज में तीन मुहल्‍ले शाहगंज, अलीगंज, हुसेनगंज तीन लोगों की स्‍मृति‍ में बने हैं। जनपद की सीमापर बि‍जेथुआ महावीर का मंदि‍र भी है। इस मंदि‍र के बारे में कहा जाता है कि‍ हनुमान का पैर धरती में कहां तक है पता नही लगाया जा सका। पास में मकरीकुण्‍ड भी है जहां हनुमान ने कालि‍नेम को मारा था।

कनेक्टिविटी[संपादित करें]

शाहगंज का लाइन वाराणसी, फैजाबाद और लखनऊ के लिए चला जाता है, जबकि एक लाइन आजमगढ़, छपरा और गोरखपुर के लिए चला जाता है, जहां से एक रेलवे जंक्शन है। यह लखनऊ, मुंबई, दिल्ली, कोलकाता, अमृतसर, जयपुर, झांसी व अहमदाबाद से जुड़ा है। बसें नियमित अंतराल पर लखनऊ के लिए उपलब्ध हैं। निकटतम हवाई अड्डा बाबतपुर, शाहगंज से लगभग 90 किमी है जो वाराणसी में है। सुल्तानपुर के लिए कोई रेलवे लाईन नहीं और जफराबाद से लेकर फ़ैजाबाद तक सिंगल लाईन है दोहरीकरण एवं विधुतीकरण का कार्य प्रगति पर है। जिससे गाडियों का काफी क्रासिंग होता है और गाड़िया विलम्ब हो जाती है। जौनपुर से शाहगंज कि बस सुबिधा बहुत ही ख़राब है घंटो लोगो को बस के लिए इंतजार करना पड़ता है। फैजाबाद और इलाहाबाद के लिए परिवहन व्यवस्था बहुत संतोष जनक नहीं है।

शाहगंज के मुख्य गांवों पखनपुर,सबरहद, सुरिस, नटौली, सिधाई, गौसपुर,डेहरी , इमामपुर छिड़वा भादी, अहिराना, खरौना, जमुनिया, बड़ेगाव, ताखा हैं। यहाँ एक सबसे बड़ा उद्योग लोकप्रिय लोहा और इस्पात कंपनी और UPSCL चीनी मिल है अब यह बंद होकर बेच दिया गया है। यहाँ कई फ्लोर मिल और दल मिल भी है।

निकटतम बाज़ार[संपादित करें]

  1. सबरहद इमरानगंज
  2. हुब्बीगंज
  3. अलाउद्दीनपुर(पंडिताना)
  4. खुटहन
  5. मल्हनी
  6. इम्मामपुर
  7. गौसपुर (प्रसिद्ध संत गौसपीरका जन्मस्थान)
  8. खेतासराय
  9. कलांन
  10. पट्टी नरेन्द्रपुर
  11. अरसिया बाजार
  12. रामनगर कटघर रूधौली

स्वास्थ्य[संपादित करें]

शाहगंज में सरकारी पुरुष और महिला अस्पताल हैं। सूर्या अस्पताल, आर के हड्डी रोग अस्पताल, सुशीला देवी मेमोरियल अस्पताल, सत्य प्रेम अस्पताल और सर सैयद अस्पताल और भी कई क्लिनिक है निजी अस्पतालों की संख्या लगातार बढ़ रही है। शाहगंज में मेडिकल स्टोर आकाश मेडिकल एजेंसियों, अमृत एजेंसियां​​, शाहगंज मेडिकल स्टोर, अंसारी मेडिकल स्टोर, MNMH मेडिकल स्टोर, Relaibul madical हॉल आदि शामिल हैं।

मनोरंजन[संपादित करें]

शाहगंज में कोई विशेष मनोरंजन की सुविधा नहीं है, लेकिन खेल के कार्यक्रम अक्सर सेंट थामस इंटर कालेज और रामलीला मैदान की जमीन पर किया जाता है। शाहगंज में रोडवेज के पास तुलसी उद्यान नामक एक पार्क है। दरार के पास फ़ैजाबाद रोड पर हिन्द टाकिज है। अलीगंज मोहल्ला में एक बुढवा बाबा का स्थान बहुत ही रमणीय है यंहा चारो तरफ खुला एरिया है एक सुखा तालाब है अब बच्चे वंहा क्रिकेट खेलते है आप एक दो मंदिर है एक मंदिर जिसका नाम लाला जी के मंदिर के नाम से प्रसिद है और दूसरा मंदिर जन्हा पर कई देवी देवताओ के मंदिर है पुरे नवरात्र भर यह एरिया भक्तिमय व पावन रहता है अक्सर शाम को यंहा पुरुष व महिला भक्तो द्वारा भजन होता है। यंहा पास में ही एक कंप्यूटर इंस्टिट्यूट है जिसका नाम आई०सी०टी० कंप्यूटर कैम्पस है और आस पास का एरिया बहुत शांत व स्वच्छ है। एक पार्क भी है लेकिन नगरपालिका के बेरुखी की वजह से यह पार्क जंजर बन चुका है।

राजनीति[संपादित करें]

वर्तमान में शाहगंज के चेयरपर्सन भाजपा की निर्वाचित श्रीमती गीता जायसवाल हैं, अधिशाषी अधिकारी दिनेश कुमार, प्रभारी अधिशाषी अधिकारी राजस्व निरीक्षक सुरेंद्र कुमार शर्मा हैं। वर्तमान में नगर निगम के बोर्ड के अध्यक्ष गीता जायसवाल पत्नी प्रदीप जायसवाल (है। हाल ही में, विधानसभा चुनावों में, शैलेन्द्र यादव ललई यादव' शाहगंज से विधायक के रूप में निर्वाचित किया गया है। वह पहले खुटहन से विधायक थे। राजनितिक परिपेक्ष्य में शाहगंज बहुत ही पिछड़ा है। कई सालो से शाहगंज के विधायक नगर का बाहर का व्यक्ति चयनित होता था और उनके दर्शन जनता को विरले ही कभी मिलता है। राजनितिक उदासीनता का ही परिणाम है शाहगंज करीब २० सालो से विकास के लिए तरस रहा है। यंहा मुख्य राजनितिक पार्टियों में सपा, बसपा और बीजेपी है। अब शाहगंज के नए राजनीतिक और सामाजिक परिदृश्य में जो शाहगंज हेतु बहुत कुछ कर सकते हैं, युवाओं में से जो काफी दमदार और ऊर्जावान नाम सबसे आगे निकलकर आते है वो प्रमुखतः से हिमांशु यादव (युवाओं के लोग प्रिय नेता सामाजिक कार्यकर्ता इनकी देख रेख में भव्य रामनवमी का कार्यक्रम) रणवीर साहू,भुनेश्वर गुप्ता, नीलेश मौर्या,अक्षत अग्रहरी,वैभव अग्रहरी, श्रीश मोदनवाल, का है ।

स्कूल, कालेजों और सामाजिक संगठन[संपादित करें]

सेंट थामस इंटर कॉलेज 1934 में शुरू किया गया था जो शाहगंज का प्रमुख कॉलेज है। अन्य महत्वपूर्ण स्कूलों पब्लिक इंटर कॉलेज,राजकीय महिला महाविद्यालय,बालिका इंटर कालेज,राजदेई सिंह महिला महाविद्यालय ईडन पब्लिक स्कूल सबरहद, सर सैयद इंटर कॉलेज सबरहद,सेंट जॉन्स स्कूल सबरहद,राजकीय औद्योगिक शिक्षण संस्थान सबरहद,फरीदुलहक़ मेमोरियल डिग्री कॉलेज सबरहद सरस्वती शिशु व विद्या मंदिर शामिल हैं। सेंट जेवियर्स स्कूल, सेंट जोसेफ स्कूल, साउथ इंडियन स्कूल, श्रीवाशुदेव गुजराती इण्टर काँलेज, सनराइज पब्लिक स्कूल सबरहद, उदयन अकादमी जैसे नए स्कूलों लगातार खोले जा रहे हैं। आग्रद्रि प्रसाद यादव आईटीआई भादी उसरा 2008नाम का एक indrustial प्रशिक्षण स्कूल 2011 जुलाई और इदारा तालीम ओ तरबियत जूनियर हाई स्कूल में भी 1972 के बाद से चल रहा है के बाद से चल रहा है। सबरहद स्थित जामिया फ़ारूकिया सबरहद जो कि 1944 से संचालित है क्षेत्र का सबसे बड़ा प्राइमरी शिक्षा केन्द्र है जहाँ 1000 छात्र शिक्षा ग्रहण करते है " हिन्दु युवा वाहिनी नामक प्रसिद्ध सामाजिक संगठन है। जिसके प्रथम अध्यक्ष श्रीश कुमार मोदनवाल 2006 में बनकर उभरे और 2012 से हिन्दु युवा वाहिनी के नगर अध्यक्ष हिमांशु यादव 2019 तक अब इनका दायित्व जिले में जिला उपाध्यक्ष का और श्रीश मोदनवाल का दायित्व संगठन में जिला प्रभारी का है और वर्तमान में संस्था अध्यक्ष अक्षत अग्रहरी है। जो युवावों और स्थानीय लोगो में अपनी लोकप्रियता को काफी कम उम्र में बन चुके हैं। आये दिन नगर में सामाजिक कार्यो को बढ़ावा देते है। अक्षत के साथ हर पल उनके प्रमुख सहयोगी वैभव अग्रहरी उपाध्यक्ष जी रहते है। वर्तमान में अक्षत अग्रहरी युवा अग्रहरी समाज के अध्यक्ष भी है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Uttar Pradesh in Statistics," Kripa Shankar, APH Publishing, 1987, ISBN 9788170240716
  2. "Political Process in Uttar Pradesh: Identity, Economic Reforms, and Governance Archived 2017-04-23 at the Wayback Machine," Sudha Pai (editor), Centre for Political Studies, Jawaharlal Nehru University, Pearson Education India, 2007, ISBN 9788131707975