शानू लहिरी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
शानू लहिरी
जन्म २३ जनवरी १९२८
कोलकाता
मृत्यु 1 फ़रवरी २०१३(२०१३-02-01) (उम्र 85)
कोलकाता
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसाय चित्रकार,
प्रसिद्धि कारण कोलकाता में सार्वजनिक कला और ग्रैफीति कला

शानु लहिरी (२३ जनवरी १९२८ - १ फरवरी २०१३) एक बंगाली चित्रकार और कला शिक्षक थी। वह कोलकाता की सबसे प्रमुख महिला सार्वजनिक कलाकारों में से एक थी, कोलकाता में शहर को सुशोभित करने और आक्रामक राजनैतिक घोषणाओं को छिपाने के लिए व्यापक भित्तिचित्र कला ड्राइव का उपक्रम किया।[1]

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा[संपादित करें]

लहिरी का जन्म २३ जनवरी १९२८ को कोलकाता (तब कलकत्ता) में मजूमदार परिवार में हुआ था। वह कला और क्राफ्ट, कलकत्ता के गवर्नमेंट कॉलेज की छात्र थी, जहां से उन्होंने १९५१ में स्नातक की उपाधि प्राप्त की थी। वह एआईएफएसीएस के राष्ट्रपति के स्वर्ण पदक प्राप्त करने के लिए कॉलेज का पहली छात्र थी।[2]

जीवनी[संपादित करें]

लहिरी बंगाल कला ऑफ आर्ट की एक चित्रकार थी। चित्रों की उनकी पहली प्रदर्शनी १९५० में हुई थी।[3] १९६० में उन्होंने पेरिस जाने के लिए एक छात्रवृत्ति प्राप्त की, जिसमें भारत और विदेशों में दोनों चित्रकला प्रदर्शनों की एक श्रृंखला थी।

१ फरवरी, २०१३ को उनका कोलकाता में निधन हो गया। उन्होंने अपनी आंखों का दान किया, और केरटोला श्मशान में उसका अंतिम संस्कार किया गया।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Noted painter Shanu Lahiri passes away". India TV. मूल से 3 जून 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 March 2013.
  2. "Noted Painter Shanu Lahiri Dead". Outlook. 1 February 2013. मूल से 11 अप्रैल 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 March 2013.
  3. Government College of Art & Craft; Birla Academy of Art & Culture (2001). Art in Art Colleges of West Bengal: An exhibition presented by Birla Academy of Art & Culture, Kolkata, on 5 to 23 December 2001. The Academy. पृ॰ 74. मूल से 17 जून 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 जून 2017.