शमा भाटे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
शमा भाटे
Guru Shama Bhate - Workshop.jpg
शमा भाटे
जन्म 6 अक्टूबर 1950 (1950-10-06) (आयु 70)
राष्ट्रीयता भारतीय
नागरिकता भारतीय
व्यवसाय कथक नर्तकी

शमा भाटे या शमा ताई (मराठी: शमा भाटे ) (जन्म: ६ अक्टूबर १९५०) को भारत में कथक की प्रतिपादिका के रूप में जाना जाता है। उन्होंने 4 साल की उम्र से कथक सीखना शुरू किया था और आज तक प्रदर्शन कर रही हैं। वह एक शिक्षिका भी हैं और भारत में कई कथक नर्तकियों की नृत्यकला और प्रशिक्षण से जुड़ी हुई हैं। वह पुणे में अपनी नृत्य अकादमी नाद्रोप [1] में कलात्मक निर्देशक भी हैं।[2]

व्यक्तिगत जीवन[संपादित करें]

शमा भाटे का जन्म 6 अक्टूबर 1950 को बेलगाम (अब बेलगावी) में हुआ था। उनकी शादी १९७४ मे सनत भाटे से हुई, जो गुरु रोहिणी भाटे के बेटे हैं और उनका एक बेटा अंगद भाटे है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

प्रशिक्षण[संपादित करें]

शमा भाटे श्रीमती रेहिणी भाटे की प्रमुख शिष्या और बहू हैं [3] [4] उन्होंने कथक के लिए बिरजू महाराज और पं० मोहनराव कल्लनपुरकर से भी शिक्षण लिया। शमा भाटे ने कई पेशेवर कथक नर्तकियों को प्रशिक्षित किया है, जो भारत और विदेश दोनों जगहों में स्वतंत्र रूप से प्रदर्शन और शिक्षण कर रहे हैं। वह कई विश्वविद्यालयों के बोर्ड में भी हैं, जैसे पुणे विश्वविद्यालय के ललित कला केंद्र, मुंबई विश्वविद्यालय के नालंदा कॉलेज, भारत के नागपुर विश्वविद्यालय के कॉलेज, भारती विद्यापीठ, पुणे में ललित कला केंद्र। उनके मार्गदर्शन में, उनके तीस से अधिक छात्रों ने विभिन्न विश्वविद्यालयों से स्नातकोत्तर की उपाधि प्राप्त की है और 12 से अधिक छात्रों को एचआरडीसी राष्ट्रीय छात्रवृत्ति (वरिष्ठ छात्रों के लिए), और सीसीईआरटी छात्रवृत्ति (जूनियर छात्रों के लिए) से सम्मानित किया गया है।[5]

कोरियोग्राफिक काम[संपादित करें]

शमा भाटे का कोरियोग्राफिक कार्य व्यापक है। [6] उन्होंने पारंपरिक और कथक के समकालीन प्रारूप का साथ प्रयोग किया है। [7] उन्होंने अपने दृष्टिकोण से पारंपरिक और शास्त्रीय रचनाओं -टाल, तराना, ठुमरी आदि की एक सूची तैयार की है। उदाहरण के लिए, त्रिशूल (9, 10 और 11 बीट के ताल चक्र का मिश्रण); सामवद (डोमुही रचना), लेयसोपन (पंच जतियों के माध्यम से प्रस्तुत पारंपरिक कथक अनुक्रम)।[8] गायिका लता मंगेशकर के 85 वें जन्मदिन समारोह के अवसर पर एक अन्य कोरियोग्राफी जो उनके छात्रों द्वारा नाद्रोप से की गई थी, वह थी नृत्य गायिका 'चलो वही देस'। [9]

यह भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 26 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 मार्च 2019.
  2. "Expanding The Boundaries". 1 September 2018.
  3. Iyengar, Rishi (25 June 2009). "A legend remembered". The Indian Express. अभिगमन तिथि 3 January 2019.
  4. "संग्रहीत प्रति". मूल से 26 दिसंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 मार्च 2019.
  5. "संग्रहीत प्रति". मूल से 2 जुलाई 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 फ़रवरी 2021.
  6. http://www.sakaaltimes.com/NewsDetails.aspx?NewsId=528960766745252540483&SectionId=5131376722999570563&SectionName=Features_NewsDate=20150804&NewsTitle=BlendingT Archived 2017-02-15 at the Wayback Machine आधुनिक नाम के साथ पारंपरिक में शामिल
  7. "संग्रहीत प्रति". मूल से 10 सितंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 मार्च 2019.
  8. Srikanth, Rupa (2017-03-16). "Keeping pace with the times". The Hindu (अंग्रेज़ी में). आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0971-751X. अभिगमन तिथि 2020-12-25.
  9. "संग्रहीत प्रति". मूल से 15 फ़रवरी 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 मार्च 2019.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]