शंबर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

(1) विख्यात वैदिक तथा पौराणिक असुर : वैदिक शंबर पर्वतनिवासी दास था जिसने 'वृत्र' की तरह आकाश में नब्बे, निन्यानवे या सौ दुर्गों का निर्माण किया था (ऋ, 2-14, 19)। अपने को देवता मान लेने पर इंद्र ने मरुतों और अश्विनियों की सहायता से तथा दिवोदास के अनुरोध पर इसका वध कर दिया एवं समस्त दुर्ग नष्ट कर डाले।

पुराणेतिहास ग्रंथों में यह कश्यप और दनु के पुत्रों में से एक था और दानव होते हुए भी परम ज्ञानी तथा राजनीतिज्ञ था। वृत्रासुर से हुए युद्ध में इस देवपीड़क असुर का वध भी इंद्र के हाथों हुआ।

(2) कश्यप दनपुत्र एक अन्य दानव जो कंस का अनुयायी था। कृष्णपुत्र प्रद्युम्न के हाथों मारे जाने की आकाशवाणी सुनकर इसने उनको मारना चाहा। अंत में यह प्रद्युम्न के हाथों मारा गया (महा. अनु., 14-28)।

(3) इस नाम के अन्य अनेक दानवों में हिरण्याक्ष का पुत्र, त्रिपुर नगरी का बलि पक्षीय असुर योद्धा आदि उल्लेखनीय हैं।