शंकर रॉयचौधरी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
General
Shankar Roychowdhury
PVSM, ADC
जन्म 6 सितम्बर 1937 (1937-09-06) (आयु 82)
Calcutta (now Kolkata)
निष्ठा Flag of India.svg भारत
सेवा/शाखा Indian Army
सेवा वर्ष 1957 - 1997
उपाधि General of the Indian Army.svg General
दस्ता 20 Lancers
नेतृत्व Army Training Command (ARTRAC)
16 Corps
युद्ध/झड़पें Indo-Pakistani War of 1965, Bangladesh Liberation War
सम्मान Param Vishisht Seva Medal ribbon.svgPVSM

जनरल शंकर रॉयचौधरी , पीवीएसएम , एडीसी (जन्म ६ सितंबर १९३७ , कोलकाता ) भारतीय सेना के पूर्व सेना प्रमुख और भारतीय संसद के पूर्व सदस्य हैं। [1]

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

जनरल रॉयचौधरी का जन्म ६ सितंबर १९३७ को कलकत्ता,पश्चिम बंगाल , भारत के एक बंगाली परिवार में हुआ था। रॉयचौधरी वास्तव में ताकी (भारत) के जमींदार परिवार से थे । उन्होंने कोलकाता में सेंट जेवियर के कॉलेजिएट स्कूल और बाद में एलन मेमोरियल स्कूल और मसूरी में सेंट जॉर्ज कॉलेज में अपनी स्कूली शिक्षा प्राप्त की। वह १९५३ में भारतीय सशस्त्र बलों के संयुक्त सेवा विंग में एक कैडेट बन गए।

सैन्य करियर[संपादित करें]

भारतीय सैन्य अकादमी से स्नातक होने के बाद ९ जून १९५७ को भारतीय सेना बख्तरबंद कोर के २० लांसर में जनरल शंकर रॉयचौधरी को कमीशन किया गया था। उन्होंने १९६५ में चंब-जौरीयन क्षेत्र में और जेसौर और खुलेना में ,१९७१ में बांग्लादेश युद्ध के दौरान भाग लिया। उन्होंने १९७४ से १९७६ तक २० लांसर्स का और १९८० से जुलाई १९८३ तक स्वतंत्र बख्तरबंद ब्रिगेड का नेतृत्व किया , और मई १९८८ से मई १९९० तक एक बख्तरबंद प्रभाग का कार्यभार संभाला । उन्होंने १९९१ से १९९२ तक जम्मू-कश्मीर में १६ कोर का नेतृत्व किया ।

वह राष्ट्रीय रक्षा अकादमी , भारतीय सैन्य अकादमी , रक्षा सेवा स्टाफ कॉलेज , आर्मी वार कॉलेज के स्नातक हैं ; नेशनल डिफेंस कॉलेज और डॉक्टरेट डी लिफ्ट भी है । उन्होंने अर्जुन टैंक सहित कॉम्बैट वाहन निर्माण प्राधिकरण के महानिदेशक रहे ।

उन्हें भारतीय सेना और राष्ट्र के लिए विशिष्ट सेवा के लिए परम विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया गया था। उन्होंने अगस्त १९९२ में सेना प्रशिक्षण कमांड (एआरटीआरएसी) के जीओसी-इन-सी के रूप में पदभार संभाला। उन्होंने २२ नवंबर १९९४ को ,अपने पूर्ववर्ती जनरल बीसी जोशी की असामयिक मृत्यु पर ,भारतीय सेना के १८ वें चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ का कार्यभार संभाला। ४० साल की सैन्य सेवा के बाद ३० सितंबर १९९७ को वह भारतीय सेना से सेवानिवृत्त हुए।

सेवानिवृत्ति के बाद[संपादित करें]

[2][3] [4] [3][5] [2] [1][3] [6]

पदक एवं सम्मांन[संपादित करें]

साँचा:Ribbon devices/alt IND Samar Seva Star Ribbon.svg IND Poorvi Star Ribbon.svg IND Paschimi Star Ribbon.svg
IND Raksha Medal Ribbon.svg IND Sangram Medal Ribbon.svg साँचा:Ribbon devices/alt साँचा:Ribbon devices/alt
साँचा:Ribbon devices/alt साँचा:Ribbon devices/alt साँचा:Ribbon devices/alt साँचा:Ribbon devices/alt
Param Vishisht Seva Medal
Samar Seva Star
Poorvi Star
Paschimi Star
Raksha Medal
Sangram Medal
Sainya Seva Medal
High Altitude Service Medal
25th Anniversary of Independence Medal
30 Years Long Service Medal
20 Years Long Service Medal
9 Years Long Service Medal

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Executive Profile of Shankar Roychowdhury (Retd.)". Business Week. अभिगमन तिथि 13 May 2014.
  2. "General Shankar Roy Chowdhury". Indian Army. अभिगमन तिथि 13 May 2014.
  3. "General Shankar Roychowdhury". Bharat Rakshak. अभिगमन तिथि 13 May 2014.
  4. "Shankar Roy Chowdhury appointed new chief of army staff". India Today. 15 December 1995. अभिगमन तिथि 13 May 2014.
  5. Abidi, S. Sartaj Alam; Sharma, Satinder (2007-01-01). Services Chiefs of India. Northern Book Centre. पपृ॰ 82–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788172111625. अभिगमन तिथि 29 May 2012.
  6. Roychowdhury, Shankar (2002). Officially at peace. New Delhi: Viking. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0670885851.