वो कान्ह प्रशस्ति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
वो कान्ह (Võ Cạnh) प्रशस्ति, संस्कृत में है, और ना त्राङ्ग (Nha Trang), खैन्ह होआ (Khanh Ho) प्रांत, वियतनाम के वो कान्ह गाँव में पाई गई थी। खान होआ संग्रहालय में इसकी एक प्रतिकृति।

वो कान्ह प्रशस्ति (Võ Cạnh inscription) दक्षिण पूर्व एशिया का अब तक का सबसे पुराना संस्कृत शिलालेख है। यह 18वीं सदी में वियतनाम के वो कान्ह गाँव में पाया गया था, जो लगभग न्हा ट्रांग शहर से क़रीब 4 किमी दूर स्थित है। [1][2] यह शिलालेख 2.5 मीटर ऊँचे पत्थर के रूप में है, जिसमें तीन असमान साइड्स पर शिलालेख अंकित हैं।

शिलालेख में राजा श्री मारा के नाम का उल्लेख है, जो पुरातात्विक विश्लेषण के अनुसार, उनके वंशजों द्वारा 2 या 3 वीं शताब्दी सीई के आसपास किया गया था। [3]इस पर अभी भी बहस जारी है कि यह शिलालेख किस साम्राज्य की विरासत थी- Lâm Therep, चम्पा, या फ़ुनानजॉर्ज कोएडेस ने फैन शिह-मैन (सन 230) के साथ श्री मारा की पहचान करने की संभावना का उल्लेख किया, जो चीनी वृत्तांतों के अनुसार फुनान का एक शासक था।[4] कोएडेस ने Võ Cạnh शिलालेख को दक्षिणपूर्व एशिया में भारतीयकरण की पहली लहर के प्रमाण के रूप में माना।

वर्तमान में, यह शिलालेख वियतनाम के हनोई शहर में वियतनामी इतिहास के राष्ट्रीय संग्रहालय में संग्रहीत है।

टेक्स्ट[संपादित करें]

इस शिलालेख पर लिखा गया संस्कृत का पाठ गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त हो गया है। [5]शिलालेख के तीन किनारों पर, पहली तरफ कम से कम पहली छह लाइनें लगभग पूरी तरह से धुंधली हैं, और दूसरी तरफ पहली आठ लाइनें हैं। [6]तीसरी तरफ, अभी भी केवल कुछ अक्षर ही पढ़े जा सकते हैं। [6]

पाठ के कुछ हिस्सों को अभी भी पढ़ा जा सकता है जिसमें निम्नलिखित वाक्यांश शामिल हैं: [7]

  • "प्राणियों के लिए दया"
  • "पुजारी, निश्चित रूप से, जिन्होंने राजा के सौ शब्दों का अमृतपी लिया है"
  • "वह आभूषण ... जो राजा श्री मारा के पोते की बेटी के परिवार के लिए खुशी की बात है।
  • "जो लोग सिंहासन पर बैठे हैं"
  • "जो चांदी या सोने के साथ करना है"
  • "भौतिक खजाना"
  • "वह सब जो मेरे द्वारा प्रदान किया गया है जो दयालु और उपयोगी है"
  • "मेरे मंत्री वीरा"
  • "जो कर्म जीवों का कल्याण करता है, वह दो करिन के द्वारा , इस संसार के जाने और आने से होता है"

"राजा श्री मारा के पोते की बेटी के परिवार की खुशी" का उल्लेख एक मातृसत्तात्मकव्यवस्था के अस्तित्व का संकेत हो सकता है, जो महिला रिश्तेदारों के लिए संपत्ति की विरासत पर लागू होता है। [8][9]करिनशब्द का अर्थ "हाथी दांत" या "कर" हो सकता है, जिसका अर्थ यह हो सकता है कि राजा एक उदार व्यक्ति था। [10]

शिलालेख ग्रन्थ में कुछ विशेष शब्दों का प्रयोग, जीन फिलियोत्ज के अनुसार, इस संभावना को दर्शाता है कि जिस समय यह शिलालेख बना था उस समय वाल्मीकि का महाकाव्य रामायण इंडोचीन प्रायद्वीप में सुप्रसिद्ध था। शिलालेखों में जिन हिंदू धार्मिक शब्दों का इस्तेमाल किया गया है, उन्हें पूर्व- पौराणिक काल का माना जाता है। [11][12]

यह सभी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Keat, Gin Ooi (2004). Southeast Asia: A Historical Encyclopedia, from Angkor Wat to East Timor. 1 (illustrated संस्करण). ABC-CLIO. पृ॰ 643. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781576077702.
  2. Glover, Ian (2004). Southeast Asia: From Prehistory to History (illustrated संस्करण). Psychology Press. पृ॰ 219. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-415-29777-6.
  3. Viswanatha, S.V. (2013). Racial Synthesis in Hindu Culture. Routledge. पृ॰ 225. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781136384202.
  4. Coedès, George (1968). The Indianized States of South-East Asia. University of Hawaii Press. पपृ॰ 40–41. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780824803681.
  5. Iyegar, Kodaganallur Ramaswami Srinivasa, संपा॰ (2005). Asian Variations in Ramayana: Papers Presented at the International Seminar on "Variations in Ramayana in Asia : Their Cultural, Social and Anthropological Significance", New Delhi, January 1981 (reprint संस्करण). Sahitya Akademi. पपृ॰ 192–193. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788126018093.
  6. Miksic, John Norman; Goh, Geok Yian (2016). Ancient Southeast Asia. Routledge World Archaeology. Routledge. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781317279037.
  7. Miksic, John Norman; Goh, Geok Yian (2016). Ancient Southeast Asia. Routledge World Archaeology. Routledge. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781317279037.
  8. Glover, Ian (2004). Southeast Asia: From Prehistory to History (illustrated संस्करण). Psychology Press. पृ॰ 219. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-415-29777-6.
  9. Tran, Ky Phuong; Lockhart, Bruce (2011). The Cham of Vietnam: History, Society and Art. UPCC book collections on Project MUSE (illustrated संस्करण). NUS Press. पृ॰ 366. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789971694593.
  10. Miksic, John Norman; Goh, Geok Yian (2016). Ancient Southeast Asia. Routledge World Archaeology. Routledge. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781317279037.
  11. Baker, Mona; Saldanha, Gabriela (2009). Routledge Encyclopedia of Translation Studies (revised संस्करण). Routledge. पृ॰ 528. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781135211141.
  12. Iyegar, Kodaganallur Ramaswami Srinivasa, संपा॰ (2005). Asian Variations in Ramayana: Papers Presented at the International Seminar on "Variations in Ramayana in Asia : Their Cultural, Social and Anthropological Significance", New Delhi, January 1981 (reprint संस्करण). Sahitya Akademi. पपृ॰ 192–193. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788126018093.