वैवाहिक रस्मों में भाग लेने वाले प्रतिभागी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search


विवाह समारोह के प्रतिभागी, जिनकी ओर वेडिंग पार्टी के रूप में भी संदर्भित किया जाता है, वह लोग होते हैं जो स्वयं प्रत्यक्ष रूप से विवाह समारोह में भाग लेते हैं।

स्थान, धर्म और विवाह की शैली के आधार पर, इस समूह में केवल विवाह करने वाले व्यक्ति भी शामिल हो सकते हैं, या इसमें एक या एक से अधिक दुल्हनें, दूल्हे (या वर), मेड्स ऑफ ऑनर, ब्राइड्समेड्स, बेस्टमेन, ग्रूम्समेन, फ्लावर गर्ल्स, पेज ब्वायज़ और रिंगबियरर्स शामिल हो सकते हैं।

वधू पक्ष का अर्थ उन लोगों से होता है जो वधू की ओर से विवाह समारोह में शामिल होते हैं। जो वर की ओर से होते हैं उन्हें वर-पक्ष कहा जाता है।

दुल्हन[संपादित करें]

भारत में एक पारंपरिक हिंदू शादी समारोह के दौरान एक दुल्हन.
पारंपरिक चीनी कपड़ों में दुल्हा और दुल्हन.चीनी संस्कृति में दूल्हा और दुल्हन लाल या लाल सजावट के कपड़े, जो साहस, निष्ठा, सम्मान, सफलता, भाग्य, प्रजनन, खुशी और जुनून के साथ जुड़े हुए पहनते हैं।
1929 से महिला जो एकदम दाहिने तरफ है वह एक ठेठ शादी की पोशाक पहनी हुई है। 1930 के उत्तरार्द्ध तक विवाह की पोशाक तत्कालीन प्रचलित शैलियों की झलक होती थी। उस समय के बाद से, शादी के कपड़े विक्टोरियन बॉलगाउंस पर आधारित होते हैं।
1929 से एक विस्तृत पोशाक

दुल्हन शब्द उस युवती के लिए प्रयोग किया जाता है जिसका विवाह होने वाला है या जो नवविवाहित है।

इस शब्द की उत्पत्ति "भोजन पकाने" के लिए प्रयोग किये जाने वाले ट्युटॉनिक (जर्मन) शब्द से हुई है।[1] पश्चिमी सभ्यता में, एक दुल्हन के साथ एक या एक से अधिक ब्राइड्स मेड्स या मेड ऑफ ऑनर हो सकती हैं।

उसके साथी, जो विवाह के बाद उसका पति बन जायेगा, यदि वह पुरुष है तो दूल्हा (या वर) कहलाता है।

पहनावा[संपादित करें]

यूरोप और उत्तरी अमेरिका में, दुल्हन के लिए आदर्श पहनावा एक औपचारिक पोशाक और एक घूंघट होता है। आम तौर पर, "श्वेत विवाह" शैलियों में, दुल्हन की पोशाक विशेष रूप से विवाह के लिए ही खरीदी जाती है और इस प्रकार की नहीं होती जिसे बाद में किसी अन्य अवसर पर पहना जा सके. पूर्व में, कम से कम 19 वीं शताब्दी के मध्य तक, दुल्हन विवाह के अवसर पर अपनी सबसे अच्छी पोशाक पहनती थी चाहे वह जिस भी रंग की हो और यदि दुल्हन धनीवर्ग से होती थी तो, वह अपने मनपसंद रंग में एक नयी पोशाक बनवाती थी और यह आशा करती थी कि वह उसे आगे भी पहनेगी.[2]

पश्चिमी देशों में, पहले विवाह के लिए आम तौर पर श्वेत विवाह पोशाक पहनी जाती थी, यह परंपरा महारानी विक्टोरिया के विवाह के साथ शुरू हुई थी। 20 वीं शताब्दी के प्रारंभिक वर्षों में, पश्चिमी सभ्यता के नियमानुसार यह माना जाता था कि श्वेत पोशाक को पहले विवाह के बाद नहीं पहना जाना चाहिए, हालांकि विवाह समारोह में दुल्हन द्वारा सफ़ेद पोशाक पहना जाना एक अत्यंत नवीन प्रचालन था लेकिन इस तथ्य के बावजूद भी कुछ लोग गलती से श्वेत पोशाक पहनने को कौमार्य का एक प्राचीन संकेत मानते थे।[3][4] आज, पश्चिमी दुल्हने पहले या किसी भी विवाह के लिए प्रायः श्वेत, क्रीम या हाथी दांत के रंग की पोशाक ही पहनती हैं; पोशाक के रंग के आधार पर दुल्हन के यौन जीवन के इतिहास पर कोई टिप्पणी नहीं की जा सकती. चीनी, हिन्दू, वियतनामी, कोरियाई और जापानी परम्पराओं में लोगों में श्वेत विवाह पोशाक का प्रचलन नहीं है, क्यूंकि इन संस्कृतियों में श्वेत को शोक व मृत्यु का सूचक माना जाता है। कई एशियाई सभ्यताओं में आम तौर पर दुल्हन लाल रंग की पोशाक पहनती है, क्यूंकि यह रंग जीवन्तता और स्वास्थ का सूचक है और कई वर्षों से इसे दुल्हन से ही सम्बंधित माना जाता है। यद्यपि आधुनिक दौर में अन्य रंग भी पहने जा सकते हैं, या पश्चिमी शैली को प्राथमिकता दी जा सकती है। अधिकतर एशियाई संस्कृतियों में रंग की परवाह ना करते हुए दुल्हन के लिए बनायी गई पोशाक अत्यंत सजावटी होती हैं, जो प्रायः कढ़ाई, उभरी हुई किनारियों और स्वर्ण द्वारा की गई सजावट से भरी होती हैं। कुछ परम्पराओं के अनुसार दुल्हन एक से अधिक पोशाक पहन सकती है, यह उदाहरण जापान, भारत के कुछ भागों और प्राचीन जानकारी के अनुसार अरब देशों के कुछ भागों के लिए सत्य है।

आभूषणों की कुछ विशेष शैलियां प्रायः दुल्हन की पोशाक से सम्बद्ध होती हैं, उदाहरण के तौर पर, अधिकतर पश्चिमी सभ्यताओं मे विवाह की अंगूठी, या पंजाबी सिख संस्कृति में चूड़ा (लाल, सफ़ेद रंग की चूड़ियां). पारंपरिक तौर पर वैवाहिक आभूषणों का प्रयोग दुल्हन के दहेज़ की कीमत के प्रदर्शन के लिए किया जाता था।

गाउन के अतिरिक्त, दुल्हन प्रायः एक घूंघट भी पहनती है और फूलों का एक गुलदस्ता, एक छोटी विरासत में मिली निशानी जैसे कोई भाग्यशाली सिक्का, प्रार्थना पुस्तक या कोई अन्य छोटा सा प्रतीक लिए रहती है। पश्चिमी देशों में, दुल्हन कुछ भी "पुराना, नया, किसी से मांगा हुआ या नीले रंग की कोई पोशाक" पहन सकती है; दुल्हन के द्वारा लिया गया बटुआ (पैसे रखने की थैली) भी प्रचलित है।[5]

इतिहास[संपादित करें]

ब्राइड शब्द कई शब्दों के साथ संयोजन में प्रयुक्त पाया जाता है, उनमे से अधिकांश अब प्रयोग नहीं किये जाते. इसलिए "ब्राइडग्रूम" का अर्थ नवविवाहित पुरुष होता है और "ब्राइड-बेल," "ब्राइड-बैंक्वेट" वे प्राचीन शब्द हैं जो पहले वेडिंग बेल्स व वेडिंग ब्रेकफास्ट के लिए प्रयोग किये जाते थे। "ब्राइडल " (जोकि ब्राइड-एल से लिया गया है), जिसका मूल अर्थ वेडिंग फीस्ट (विवाह भोज) है, वह अब एक सामान्य वर्णनात्मक विशेषण, द ब्राइडल सेरेमनी (विवाह समारोह) के रूप में प्रयोग होने लगा है। ब्राइड-केक की उत्पत्ति रोमन शब्द कौन्फेरेतियो (confarreatio) से हुई है, जोकि एक विवाह शैली है, जिसकी विशेषताएं यह है कि इसमें नवविवाहित जोड़े को नमक, पानी और एक विशेष प्रकार के गेहूं के आटे द्वारा बना केक खाना होता था और दुल्हन को समृद्धता के प्रतीक के रूप में गेहूं की तीन बालियां पकड़नी होती थी।

फोटोग्राफी के नव विकसित कला के लिए रानी विक्टोरिया और अल्बर्ट प्रिंस ने 1840 शादी के लिए एक शादी का मुद्रा दिखाया.(1854)

केक खाने का प्रचलन तो अब समाप्त हो गया है, लेकिन गेहूं की बालियां पकड़ने की प्रथा अब भी जीवित है। मध्य युग में गेहूं की बालियां या तो दुल्हन पहनती थी या इन्हें पकड़े रहती थी। अंततः चर्च के बरामदे के बाहर एकत्र होकर दुल्हन के ऊपर गेहूं के दाने फेंकना, युवतियों के लिए एक रिवाज़ बन गया और बाद में इन दानो को पाने के लिए संघर्ष होने लगा. समय के साथ, गेहूं के दानों को पतले सूखे बिस्कुट के रूप में बनाया जाने लगा, जिन्हें दुल्हन के सर के ऊपर करके तोड़ दिया जाता था, स्कॉटलैंड की एक परंपरा के अनुसार वहां पर इसके लिए जौ के आटे से बने केक का प्रयोग होता है। एलिज़ाबेथ के शासन के दौरान इन बिस्कुटों के स्थान पर अंडे, दूध, चीनी, किशमिश और कुछ मसालों से बने छोटे आयताकार केक के प्रयोग का प्रचलन हो गया। विवाह में उपस्थित प्रत्येक अतिथि के पास कम से कम एक केक अवश्य ही होता था और जैसे ही दुल्हन दहलीज पार करती थी यह सभी छोटे केक उस पर फेंक दिये जाते थे। इनमे से वह, जो दुल्हन के सर या कंधे पर गिरते थे, उन्हे पाने के लिए लोग आपस में बहुत संघर्ष करते थे और वह इन्हें बहुत कीमती मानते थे। अंततः चार्ल्स II के समय में, इन सभी केक के मिश्रण के रूप में एक बड़ा केक बनाया जाने लगा जोकि सजावटी सामग्रियों और बादाम के मिश्रण के द्वारा बहुत ही भव्यता के साथ सजाया जाता था। लेकिन आज भी ग्रामीण इलाकों जैसे, उत्तरी नॉट्स में, नवविवाहित जोड़े के ऊपर गेहूं फेंका जाता है और ऊंची आवाज़ में यह कहा जाता है कि "ब्रेड फॉर लाइफ एंड पुडिंग फॉर एवर," यह वाक्यांश इस भाव को व्यक्त करता है कि नवविवाहित जोड़ा सदैव समृद्ध रहे. एक प्राचीन प्रथा के अनुसार दुल्हन पर चावल फेंका जाता है जो इस इच्छा का प्रतीक होता है कि दुल्हन सौभाग्यशाली हो, लेकिन यह प्रथा गेहूं फेंकने की प्रथा से अधिक प्राचीन नहीं है।[6][7]

ब्राइड-कप, प्राचीन बाउल या लविंग-कप होता था, जिसमे दूल्हा, दुल्हन के लिए और दुल्हन, दूल्हे के लिए वैवाहिक वचन लेती थी। इस वाइन कप में रखे पेय को विवाहित जोड़े द्वारा पी लेने के बाद उसे तोड़ देने की प्रथा यहूदी धर्म को मानने वालों के बीच प्रचलित है। इसे पैर के नीचे कुचल दिया जाता है। "ब्राइड-कप" शब्द का प्रयोग कभी-कभी मसालों द्वारा निर्मित उस वाइन के बाउल के लिए भी किया जाता था जोकि रात में नवविवाहित जोड़े के लिए बनायी जाती थी। ब्राइड-फेवर्स, जिसे प्राचीन समय में ब्राइड-लेस कहते थे, वह प्रारंभ में स्वर्ण, सिल्क या अन्य लेस के कुछ टुकड़े होते थे जिनका प्रयोग पूर्व में विवाह के दौरान पहने जाने वाले रोजमेरी के फूलों के गुच्छों को बांधने के लिए किया जाता था। बाद में इन्होने रिबन के गुच्छों का रूप ले लिया, जो अंततः रिबन के बने फूलों में रूपांतरित हो गए।

ब्राइड-वेन, वह सवारी जिसमे बैठकर दुल्हन अपने नए घर जाती है, के नाम पर कुछ गरीब, योग्य जोड़ों के विवाहों को नाम दिया गया, जोकि गांव में चारों और "वेन" द्वारा भ्रमण करते थे और अपनी गृहस्थी के लिए कुछ धन या अन्य ज़रूरी सामान इकठ्ठा करते थे। इन विवाहों को बिडिंग-वेडिंग, या बिड-एल्स कहा जाता था, जो "परोपकार" भोज के रूप में होती थीं। वेल्स में "बिडिंग-वेडिंग्स" की प्रथा इतनी प्रचलित है कि छपाई करने वाले इसका आमंत्रण पहले से ही छाप कर रखते हैं। इसलिए कभी-कभी काफी अधिक, लगभग छह सौ जोड़े वैवाहिक मंडल में चलते हैं।

ब्राइड्स-रीथ, सभी यहूदी दुल्हनों द्वारा पहने जाने वाले, सोना चढ़े छोटे मुकुट का एक ईसाई स्थानापन्न (किसी वस्तु के स्थान पर प्रयोग की जाने वाली वस्तु) है। रूसी लोग और हौलैंड व स्विटज़रलैंड के कैल्विनिस्टो द्वारा अभी भी दुल्हन का अभिषेक समापन किया जाता है। ऐसा कहा जाता है कि नारंगी फूलों का पहना जाना साराकेंस के समय से प्रारंभ हुआ जो इन्हें उच्च प्रजनन क्षमता का प्रतीक मानता था। यूरोप में इसकी शुरुआत क्रुसेडर्स द्वारा करायी गयी। ब्राइड्स वेल, फ्लेमेनम या बड़े पीले घूंघट का जोकि यूनानी और रोम की दुल्हनों को विवाह कार्यक्रम के दौरान पूरी तरह से ढक लेता था, का एक आधुनिक रूप है। यहूदी और पारसी लोगों में इस प्रकार के घूंघट का प्रयोग अब भी किया जाता है।[8][9]

दूल्हा[संपादित करें]

भारत में एक दूल्हा जो रेशमी कपड़े और फूलों की माला पहने है।
1942 में अपने दुल्हन के साथ दूल्हा सैन्य वर्दी पहने हुए है

एक ब्राइडग्रूम (दूल्हा) (जिसे प्रायः संक्षेप में ग्रूम कहते हैं) वह व्यक्ति है जो विवाहित होने वाला है, या जिसका विवाह तुरंत (हाल ही में) हुआ हो.

ब्राइडग्रूम शब्द का प्रयोग 1604 से माना जाता है, जोकि ब्राइड और प्राचीन शब्द गूम से लिया गया है, गूम शब्द प्राचीन अंग्रेजी शब्द गुमा से लिया गया है, जिसका अर्थ "लड़का" होता है।[10]

आमतौर पर ब्राइडग्रूम (दूल्हे) के साथ बेस्टमैन और ग्रूम्समेन होते हैं।

दूल्हे की पोशाक शैली दिन के प्रहर, समारोह के स्थान, कार्यक्रम की शैली और इस बात पर निर्भर करती है कि वह सशस्त्र सेना का सदस्य है या नहीं. संसार के अधिकांश भागों में, सेना और कुछ कानून प्रवर्तन एजेंसियों के सक्रिय तैनात सदस्य असैनिक वस्त्रों के स्थान पर अपनी फौजी वर्दी ही पहनते हैं।

पश्चिमी सभ्यता में दूल्हा आम तौर पर कार्यक्रम की औपचारिकता के स्तर के अनुकूल और दिन के प्रहर के अनुसार सूट पहनता है। अमेरिका में, दूल्हा आम तौर पर विवाह समारोह के दौरान गहरे रंग का सूट (दिन में) या टक्सीडो सूट (शाम को) पहनता है। ब्रिटिश परंपरा के अनुसार दूल्हे, पुरुष प्रवेशक (मेल अशर्स या भेंट करने वाला पुरुष) और दूल्हे के परिवार के नजदीकी पुरुषों को मॉर्निंग सूट पहनना होता है।[11] स्कॉटलैंड में, शाम को होने वाले समारोह के लिए पूर्ण ईवनिंग सूट पहनना आवश्यक होता है, जिसमे प्रायः किल्ट (स्कॉटलैंड में पहना जाने वाला स्कर्ट) भी शामिल होती है।

दूल्हा आमतौर पर कोई ऐसा नेकवियर (गले में पहनी जाने वाली वस्तु) पहनते हैं जो उनके द्वारा पहनी गयी पोशाक पर फबती हो. अधिकांश दूल्हे अपने सूट या टक्सीडो से मेल करती हुई बो-टाई पहनते हैं, क्यूंकि यह इस श्रंखला में सर्वाधिक औपचारिक नेकवियर माना जाता है।[12] एक गुलुबन्द साधारणतया कम औपचारिक व अधिक भड़कीला माना जाता है और मॉर्निंग सूट के साथ पहना जाता है। सरल उपलब्धता व विविधता के कारण फोर इन हैंड टाई भी काफी प्रचलित होती जा रही है।

ब्राइड्समेड्स[संपादित करें]

कपड़े मिलाने में दुल्हन के साथ उसकी सात वधू-सखी

एक विवाह में ब्राइड्समेड्स वधू पक्ष के वैवाहिक दल की सदस्य होती हैं। एक ब्राइड्समेड आमतौर पर एक युवती होती है और प्रायः करीबी मित्र या बहन होती है। वह विवाह के दिन या वैवाहिक समारोह के दौरान दुल्हन के साथ रहती है। परंपरागत रूप से, ब्राइड्समेड्स का चुनाव विवाह योग्य आयु की अविवाहित युवतियों में से किया जाता है।

प्रमुख ब्राइड्समेड, यदि किसी को यह उपाधि दी जाती है तो, को अविवाहित होने की स्थिति में चीफ ब्राइड्समेड या मेड ऑफ ऑनर कहा जाता है और विवाहित होने कि स्थिति में उसे मेट्रन ऑफ ऑनर कहा जाता है। कनिष्ठ ब्राइड्समेड वह युवती होती है जो स्पष्टतया विवाह योग्य आयु से बहुत छोटी होती है, लेकिन जिसे सम्मानार्थ ब्राइड्समेड के रूप में शामिल कर लिया गया है।

प्रायः एक से अधिक ब्राइड्समेड्स होती हैं: आधुनिक समय में दुल्हन यह तय करती है कि कितनी ब्राइड्समेड्स होनी चाहिए. इतिहास के अनुसार, किसी भी सम्मानित व्यक्ति ने बिना ब्राइड्समेड्स के विवाह नहीं किया और परिजनों की संख्या बहुत ध्यानपूर्वक इतनी रखी जाती थी कि वह परिवार के सामाजिक स्तर के अनुकूल हो. फिर, जैसा कि अब होता है, ब्राइड्समेड्स का एक विशाल समूह परिवार की प्रतिष्ठा और संपत्ति के प्रदर्शन का एक अवसर माना जाने लगा.

ब्राइड्समेड्स के द्वारा निभाए जाने वाले कर्त्तव्य अत्यंत सीमित हैं।[13] उनसे यही अपेक्षा की जाती है कि वह विवाह समारोह में उपस्थित रहें और विवाह के दिन दुल्हन के साथ रहें. यूरोप और नॉर्थ अमेरिका में प्रायः ब्राइड्समेड्स से कहा जाता है कि वह विवाह और विवाह के स्वागत समारोह की योजना में दुल्हन की सहायता करें. आधुनिक समय में, आदर्श रूप में एक ब्राइड्समेड से विवाह संबंधी कार्यक्रमों में शामिल होने के लिए भी कहा जाता है, जैसे कि दुल्हन का स्नान या बैचलरेट पार्टी, यदि कोई ऐसा आयोजन होने वाला है तो. हालांकि यह सब वैकल्पिक कार्यक्रम हैं; शिष्टाचार विशेषज्ञ जुडिथ मार्टिन के अनुसार, "लोकवाद के विपरीत, ब्राइड्समेड्स, दुल्हन के सम्मान में उसके साथ रहने के लिए विवश नहीं हैं, ना ही उन्हें उन पोशाकों को पहनने की कोई विवशता होती है जिसका खर्च वह नहीं उठा सकतीं."[14] यदि दुल्हन के निवास क्षेत्र के अनुसार ब्राइड्समेड्स लंच का आयोजन आवश्यक है, तो इसका आयोजन किया जाता है, इसलिए इसके आयोजन व खर्च दोनों की जिम्मेदारी दुल्हन द्वारा ली जाती है।[15] एक कनिष्ठ ब्राइड्समेड पर विवाह समारोह में उपस्थित रहने के अतिरिक्त अन्य कोई जिम्मेदारी नहीं होती है।

चूंकि प्राचीन ब्राइड्समेड्स की तरह आधुनिक ब्राइड्समेड्स, इस बात पर आश्रित नहीं रह सकती कि उनके वस्त्रों और यात्रा तथा कभी कभी उन समारोहों का अनुमानित खर्च भी, जो कि दुल्हन विवाह से पहले आयोजित करना चाहती है, दुल्हन का परिवार उठाये, अतः अब दुल्हन के लिए यह रिवाज़ हो गया है कि वह ब्राइड्समेड्स को उनकी भूमिका के साथ जुड़ी सहायता और वित्तीय प्रतिबद्धता के आभार के रूप में कुछ उपहार प्रदान करे. उन सजग युवतियों के लिए भी, जिन्हें ब्राइड्समेड्स बनने के लिए आमंत्रित किया गया है, यह सामान रूप से आवश्यक है कि वह इस आमंत्रण को स्वीकार करने से पहले यह अवश्य जान लें कि दुल्हन उनसे कितने समय, सहभागिता और धन की अपेक्षा रखती है।

मेड ऑफ ऑनर[संपादित करें]

यूनाइटेड किंगडम में, वाक्यांश "मेड ऑफ ऑनर" मूलतः रानी की महिला सेविकाओं की ओर संकेत करता है। यूके में शब्द ब्राइड्समेड सामान्यतया दुल्हन की सभी साथियों के लिए प्रयोग किया जाता है। हालांकि, यदि कोई साथी विवाहित या प्रौढ़ महिला हो तो, वाक्यांश मेट्रन ऑफ ऑनर का प्रयोग किया जाता है। अमेरिकी अंग्रेजी के प्रभाव के कारण कभी कभी चीफ ब्राइड्समेड को मेड ऑफ ऑनर कहा जाता है।

नॉर्थ अमेरिका में, एक वैवाहिक समारोह में कई ब्राइड्समेड्स हो सकती हैं, लेकिन मेड ऑफ ऑनर वह उपाधि है जो दुल्हन की प्रमुख साथी को ही दी जाएगी, आम तौर पर दुल्हन की नजदीकी सखी या बहन. आधुनिक विवाहों में कुछ दुल्हनें अपने पुराने पुरुष मित्र या भाई को अपने प्रमुख साथी के रूप में चुनती हैं, जिसके लिए उपाधि बेस्ट मैन या मैन ऑफ ऑनर का प्रयोग किया जाता है।

प्रमुख ब्राइड्समेड की जिम्मेदारियों की गिनती और विविधता इस बात पर निर्भर करेगी कि वह दुल्हन को स्वयं पर कितनी जिम्मेदारियां डालने की अनुमति देती है। उसका एक मात्र आवश्यक कर्तव्य विवाह समारोह में हिस्सा लेना है। आदर्शतः, हालांकि, एक कार्यक्रम के रूप में विवाह की तैयारियों में सहायता के लिए उससे अवश्य ही पूछा जाता है, जैसे कि आमंत्रणों के संबोधन और एक मित्र के रूप में उसकी सहायता के लिए, जैसे वैवाहिक पोशाक की खरीदारी के दौरान दुल्हन के साथ रहना.

पारंपरिक रूप से, दुल्हन स्नान के आयोजन की जिम्मेदारी दुल्हन की मां की होती है। जो दुल्हन स्नान के कार्यक्रम में शामिल होते हैं उनसे उपहार की अपेक्षा नहीं होती, हालांकि उपहार लाना ही उचित शिष्टता है। स्नान का यह कार्यक्रम आम तौर पर, विवाह के 4 से 6 सप्ताह पहले आयोजित किया जाता है।[16]

विवाह के दिन, उसकी प्रमुख जिम्मेदारी दुल्हन को व्यवहारिक और भावनात्मक संबल प्रदान करना है। वह तैयार होने में दुल्हन की सहायता कर सकती है और यदि आवश्यक हो तो, दिन के दौरान दुल्हन को उसका घूंघट, फूलों का गुलदस्ता, एक प्रार्थना पुस्तक या विवाह पोशाक का घेर संभालने में उसकी सहायता कर सकती है। दोहरी अंगूठी (डबल रिंग) वाले विवाह में, दूल्हे की विवाह वाली अंगूठी चीफ ब्राइड्समेड के भरोसे ही छोड़ दी जाती है जबतक कि कार्यक्रम के दौरान इसकी आवश्यकता ना पड़े. कई दुल्हने ब्राइड्समेड्स से पूछती हैं कि, यदि वह बालिग हों तो, विवाह के बाद विवाह लाइसेंस पर हस्ताक्षर करने के लिए कानूनी गवाह बन जायें. यदि विवाह के बाद एक स्वागत समारोह का भी आयोजन है तो, मेड और ऑनर से नवविवाहित जोड़े के लिए मदिरापान सहित शुभकामना की अपेक्षा की जा सकती है।

उत्पत्ति और इतिहास[संपादित करें]

ऐसा माना जाता है कि पश्चिमी ब्राइड्समेड की परंपरा रोमन कानून से पैदा हुई है, जिसमे एक विवाह में 10 गवाहों की आवश्यकता होती थी जिससे कि सभी दूल्हा और दुल्हन जैसे कपड़े पहनकर बुरी आत्माओं को मात दे सकें (ऐसा माना जाता था कि वह वैवाहिक समारोह में शामिल होती हैं) और बुरी आत्माएं यह नहीं जान सकें कि वास्तव में किसका विवाह होने वाला है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] काफी बाद तक, यहां तक कि 19 वीं शताब्दी के दौरान इंग्लैंड में ऐसी मान्यता थी कि बुरा चाहने वाले बद्दुयाएं दे सकते और विवाह को कलंकित कर सकते हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें] उदाहरण के लिये, विक्टोरियन काल की वैवाहिक तस्वीरों में, दूल्हा और दुल्हन प्रायः उसी तरह की पोशाक में होते थे जैसी कि विवाह समारोह के अन्य सदस्यों ने पहनी होती थी।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

अन्य लोग जैकब और उसकी दो पत्नियों लेह व रैचल की किताबी कहानी का उदाहरण देते हैं, जो दोनों ही अपने विवाह के दौरान वास्तव में अपनी सेविकाओं के साथ उपस्थित हुई थीं, जैसा कि ब्राइड्समेड्स की उत्पत्ति के सम्बन्ध में बुक ऑफ जेनेसिस (29:24, 46:18) में वर्णित है। यह युवतियां सामाजिक समकक्ष होने के स्थान पर नौकरानियां (सेविका या दासी) थीं।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

ग्रूम्समेन[संपादित करें]

एक ग्रूम्समैन विवाह समारोह में दूल्हे के पुरुष साथियों में से एक होता है। यूके में अशर (प्रवेशक) शब्द अधिक प्रचलित है, लेकिन यूएस में ऐसे शब्द का प्रयोग यह संकेत देगा कि दूल्हे के मित्र, दुल्हन के मित्र से कम महत्त्वपूर्ण या कम सम्माननीय हैं। आम तौर पर दूल्हा ग्रूम्समैन हेतु अपने नजदीकी मित्रों और/या रिश्तेदारों का चुनाव करता है और इसके लिए चुना जाना एक सम्मान की बात मानी जाती है। अपने द्वारा चुने गए ग्रूम्समेन में से एक का चुनाव दूल्हा बेस्टमैन के रूप में करता है। ग्रूम्समेन का कर्त्तव्य समारोह शुरू होने से पूर्व अतिथियों की अपने स्थान पर बैठने में सहायता करना और विवाह समारोह में भाग लेना होता है।

इसके अतिरिक्त, दूल्हा उनसे अन्य प्रकार की सहायता के लिए भी अनुरोध कर सकता है, जैसे कि उत्सवी कार्यक्रमों का आयोजन उदाहरण के लिए, बैचलर पार्टी, जिसे कि स्टैग नाईट या बक्स नाईट भी कहते हैं; और वह अकेले बैठे लोगों से बातचीत के द्वारा या अकेले ही नृत्य कर रहे अतिथियों अथवा ब्राइड्समेड्स का साथ दे कर अतिथियों के लिए विवाह को आनंददायक भी बना सकते हैं, यदि विवाह के स्वागत समारोह में नृत्य कार्यक्रम शामिल किया गया है तो; या वह उपहारों, सामान अथवा अप्रत्याशित जटिलताओं में व्यवहारिक सहायता भी प्रदान कर सकते हैं। ग्रूम्समेन स्थानीय या क्षेत्रीय परम्पराओं में भी भाग ले सकते हैं, जैसे कि नवविवाहित जोड़े की कार को सजाना.

ऐसे विवाह के लिए जिसमे अतिथियों की संख्या बहुत अधिक हो, दूल्हा अपने अन्य पुरुष मित्रों और रिश्तेदारों से बिना वैवाहिक कार्यक्रमों में भाग लिए भी अशर्स (प्रवेशक) के रूप में कार्य करने के लिए कह सकता है; उनका एक मात्र कार्य समारोह से पूर्व अतिथियों को अपने निर्धारित स्थान पर बैठाना होगा. बहुत विशाल स्तर के विवाहों के लिए अशर्स (प्रवेशकों) को किराये पर भी बुलाया जा सकता है।

एक सैन्य अधिकारी के विवाह में, ग्रूम्समेन की भूमिका सोर्ड ऑनर गार्ड के सोर्डमेन द्वारा प्रतिस्थापित हो जाती है। आम तौर पर यह दूल्हे के ऐसे करीबी निजी मित्रों में से चुने जाते हैं जिन्होंने उसके साथ कार्य किया हो. उनकी जिम्मेदारी विवाहित जोड़े और अतिथियों के चलने के लिए पारंपरिक सेबर आर्क बनाना होता है।

पहले ब्राइडग्रूम-मेन और ब्राइड्समेड्स को दी जाने वाली जिम्मेदारियां महत्त्वपूर्ण होती थीं। पुरुषों को ब्राइड-नाइट्स कहा जाता था और वह प्रारंभिक दिनों की जबरन अधिकार द्वारा विवाह की प्रथा का प्रतिनिधित्व करते थे, जिसमे कि एक व्यक्ति अपनी दुल्हन के अपहरण में सहायता के लिए अपने मित्रों को बुलाता है।

बेस्ट मैन[संपादित करें]

कैम्पोट[30], कम्बोडिया में शादी में तीन वर-मित्र दूल्हे के दाहिने तरफ खड़ें है और तीन वधु-सखी दुल्हन के बाएं तरफ खड़ी हैं।

बेस्ट मैन विवाह में दूल्हे का प्रमुख पुरुष साथी होता है। नॉर्थ अमेरिका और यूरोप में, दूल्हा यह सम्मान अपने किसी नजदीकी व्यक्ति को देता है, आम तौर पर अपने सबसे करीबी मित्र पुरुष या अपने भाई को. जब दूल्हा यह सम्मान किसी महिला को देने की इच्छा करता है तो, उस महिला को बेस्ट वुमेन या बेस्ट पर्सन कहा जा सकता है, या उसे भी 'बेस्ट मैन' कहा जा सकता है। दुल्हन की ओर से बेस्ट मैन के समकक्ष मेड या मेट्रन ऑफ ऑनर होती हैं। एक लिंग उदासीन शब्द होता है, ऑनर अटेंडेंट .

जहां बेस्ट मैन की आवश्यक जिम्मेदारियों में मित्रवत जिम्मेदारियां ही शामिल होती हैं, वही पश्चिमी श्वेत विवाह के सन्दर्भ में, बेस्ट मैन को आदर्शतः

  • विवाह के दिन दूल्हे के साथ रहना होता है,
  • समारोह के दौरान विवाह की अंगूठी की आवश्यकता पड़ने तक उसे संभाल कर रखना होता है,
  • विवाह के एक कानूनी गवाह के रूप में कार्य करना होता है और
  • स्वागत समारोह में दूल्हा और दुल्हन की शुभकामना हेतु मदिरापान का प्रस्ताव देना होता है। (पूर्व में, बेस्ट मैन उन लोगों द्वारा भेजे गए टेलीग्राम भी पढ़ता था जो विवाह में उपस्थित नहीं हो सके). इसे बेस्ट मैन के भाषण या मदिरापान प्रस्ताव (टोस्ट) के नाम से भी जाना जाता है।

पूर्व में, बैचलर पार्टी का आयोजन आम तौर पर विवाह के एक सप्ताह पूर्व किसी सुविधाजनक संध्या को किया जाता था। यह एक प्रकार का विदाई भोज होता था, इसका आयोजन, मेजबानी और खर्च का वहन सदैव दूल्हे द्वारा ही किया जाता था।[15] इसके लिए प्रचलित खास शब्द संसार के विभिन्न भागों में बैचलर पार्टी, स्टैग डू या बक्स नाईट हैं। कई क्षेत्रों में, इस भोज का आयोजन आम तौर पर बेस्ट मैन द्वारा किया जाता है और इसका खर्च सभी प्रतिभागियों द्वारा बांट लिया जाता है।[17]

आम तौर पर बेस्ट मैन, या ऑनर अटेंडेंट्स, सार्वभौम प्रथा नहीं है।[18] उन स्थानों पर भी जहां बेस्ट मैन का होना आवश्यक है, अन्य स्थानों व समयों की तुलना में इनकी भूमिका काफी भिन्न हो सकती है।

अधिकांश आधुनिक, अंग्रेजी भाषी देशों में, बेस्ट मैन प्रायः दूल्हे का सबसे नजदीकी पुरुष मित्र होता है। कुछ लेखकों का मानना है कि बेस्ट मैन की उत्पत्ति अपहरण द्वारा विवाह की प्राचीन प्रथा या फिर भावी अपहरणकर्ताओं से दुल्हन की रक्षा करने से हुई है।[19][20]

यूनान के पूर्वीय रूढ़िवादी विवाहों में, बेस्ट मैन प्रायः कौम्बरोस या धार्मिक प्रायोजक होता है और परंपरागत रूप से दूल्हे का धर्म शिक्षक होता है।[18] कौम्बरोस (या कौम्बारा, यदि एक महिला हो तो) एक सम्मानित प्रतिभागी होता है जो जोड़े को मुकुट धारण करवाता है और वेदी के तीन गोल चक्कर लगाने में भाग लेता है। कुछ क्षेत्रों में, यह व्यक्ति विवाह के सभी खर्च भी वहन करता है।

युक्रेन में एक बेस्ट मैन वैवाहिक उत्सवों के दौरान दुल्हन की रक्षा करने के लिए भी जिम्मेदार होता है। जब वह या दूल्हा दूर जाते हैं, तो दुल्हन का "अपहरण" कर लिया जाता है या एक जूता चुरा लिया जाता है। तब फिर दूल्हे या बेस्ट मैन को दुल्हन को वापस पाने के बदले में फिरौती देनी पड़ती है, आमतौर पर धन के रूप में (जोकि दुल्हन को दे दिया जाता है) या फिर उन्हें कुछ लज्जाजनक कार्य करना पड़ता है।[21]

युगांडा में बेस्ट मैन से अपेक्षा की जाती है कि वह नवविवाहित जोड़े को वैवाहिक जीवन के लिए निर्देशित करे. इसका अर्थ यह है कि आदर्शतः एक बेस्ट मैन को अवश्य ही विवाहित होना चाहिए, अच्छा होगा कि उसकी एक ही पत्नी हो और वह इस अवस्था में होना चाहिए कि वह ठोस, विश्वसनीय और परखी हुई सलाह दे सके. एक बेस्ट मैन अवश्य ही एक विश्वसनीय व्यक्ति होना चाहिए और उसे नवविवाहित जोड़े के साथ बांटे गए रहस्यों के सम्बन्ध में भी सावधान रहना होगा.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

भूटान में बेस्ट मैन विवाह के अवसर पर स्वयं को दूल्हा और दुल्हन दोनों के औपचारिक अभिभावक के रूप में प्रस्तुत करता है। इसके बाद वह अतिथियों का मनोरंजन करता है, कभी-कभी कई घंटों तक.

फ्लावर गर्ल्स[संपादित करें]

फूल ली हुई लड़की

एक फ्लावर गर्ल विवाह दल में भाग लेने वाली एक प्रतिभागी होती है। रिंग बियरर और पेज ब्वायज की तरह ही, फ्लावर गर्ल भी दुल्हन या दूल्हे के विस्तृत परिवार की एक सदस्य होती है, लेकिन वह एक मित्र भी हो सकती है।[22]

आम तौर पर, फ्लावर गर्ल प्रवेश सम्बन्धी धार्मिक गीत के दौरान दुल्हन के सामने चलती है। वह दुल्हन के रास्ते में फूलों की पंखुड़ियां बिछा सकती है या कांटे रहित गुलाबों अथवा फूलों का एक गुलदस्ता लेते हुए चल सकती है। धार्मिक गीत समाप्त हो जाने पर, युवा फ्लावर गर्ल अपने माता-पिता के साथ बैठ जाएगी. यदि समारोह विशेष रूप से लम्बा नहीं है तो, अधिक आयु की लड़की अन्य सम्मानित लोगों के साथ वही पर शांतिपूर्वक खड़े रहना पसंद करेगी.

क्यूंकि बहुत छोटे बच्चे जिम्मेदारियों से अभिभूत हो जाते हैं और बड़ी लड़कियां बच्चे जैसे कार्य की जिम्मेदारी दिए जाने के कारण अपमानित अनुभव कर सकती हैं, इसलिए इस कार्य हेतु 4 से 8 वर्ष तक की आयु के बच्चों को लेने की सलाह दी गयी है,[23] या इससे अधिक आयु के, यदि यह उस युवती की भावनाओं के लिए अपमानजनक ना हो तो.

एक से अधिक फ्लावर गर्ल भी हो सकती हैं, विशेषतः तब जब कि सम्मान करने के लिए दुल्हन के अनेक युवा रिश्तेदार हों. ब्रिटेन के शाही विवाहों में, शाही विवाहों के सामान विस्तृत विवाहों में, या विक्टोरियन शैली पर आधारित विवाहों में यह प्रथा बहुत प्रचलित है।

इतिहास के अनुसार, उनके वस्त्र दुल्हन या दूल्हे के परिवार वालों की ओर से दिए जाते थे, लेकिन अधिकांश आधुनिक जोड़े यह अपेक्षा करते हैं कि फ्लावर गर्ल के माता-पिता उसके वस्त्रों का मूल्य दें और प्रतिभागिता से सम्बंधित उसके अन्य खर्चे भी वहन करें.[22]

उसका पुरुष समकक्ष रिंगबियरर या पेज ब्वाय होता है। प्रायः रिंग बियरर और फ्लावर गर्ल एक जोड़े के रूप में प्रस्तुत किये जाते हैं और उनके वस्त्र भी दूल्हा और दुल्हन के वस्त्रों के बिलकुल सामान ही होते हैं, बस उनकी नाप छोटी होती है।

पेज ब्वायज, क्वायन बियरर्स और रिंग बियरर्स[संपादित करें]

विवाह समारोह या कोटिलियन (लड़कियों को लड़कों हेतु प्रस्तुत करने का एक औपचारिक समारोह) में एक पेज ब्वाय एक युवा पुरुष अटेंडेंट होता है। इस प्रकार के विवाह अटेंडेंट का प्रचालन पहले की अपेक्षा काफी कम हो गया है, लेकिन अब भी यह युवा रिश्तेदारों या रिश्तेदारों व मित्रों के बच्चों को विवाह में शामिल करने का एक माध्यम है। ब्रिटेन के शाही विवाहों में पेज ब्वाय प्रायः ही दिखायी पड़ते हैं। कोटिलियन (लड़कियों को लड़कों हेतु प्रस्तुत करने का एक औपचारिक समारोह) समारोहों को अधिक प्रभावी बनाने के लिए वहां कई पेज ब्वाय उपस्थित होते हैं।

पारंपरिक रूप से, पेज ब्वाय दुल्हन की पोशाक के पिछले घेर को संभालता है, विशेष रूप से, यदि दुल्हन द्वारा पहनी गयी पोशाक का पिछला घेर काफी अधिक है तो. घेर को संभालने में होने वाली कठिनाई के कारण, पेज ब्वाय की आयु सात वर्ष से कम नहीं रखी जाती और इससे अधिक आयु के बच्चों को अन्य जटिल कार्यों के लिए उपयुक्त माना जाता है।[24]

एक तकिया एक शादी की अंगूठी को पकड़े एक रिंग धारक.

औपचारिक विवाह में, रिंग बियरर एक विशेष पेज ब्वाय होता है जो वधू पक्ष के लिए विवाह की अंगूठी लेकर आता है। यह लगभग सदैव ही प्रतीकात्मक होता है, जिसमे रिंग बियरर एक विशाल सफ़ेद सैटिन कपड़े की तकिया लेकर आता है जिसपर कि नकली अंगूठियां जड़ी होती हैं, जबकि विवाह की असली अंगूठियां बेस्ट मैन की सुरक्षा में रखवायी जाती हैं। यदि वास्तविक अंगूठियों का प्रयोग किया जाता है तो, उन्हें धागे की सहायता से तकिये पर टांक दिया जाता है जिससे कि वह दुर्घटनापूर्वक खो न जायें.

रिंग बियरर की एक अलग भूमिका अपेक्षाकृत आधुनिक रीति है। आज के सामान्य वैवाहिक समाराहों में, बेस्ट मैन ही अंगूठियां लेकर जाता है।

रिंग बियरर्स प्रायः छोटे भाई या भतीजे होते हैं (हालांकि छोटी बहनें या भतीजियां भी हो सकती हैं) और उनकी आयु की सीमा भी फ्लावर गर्ल्स के ही सामान होती है, जिसका आशय यह है कि वह 5 वर्ष से कम और 10 वर्ष से अधिक आयु के नहीं होते.[24] यदि विवाह करने वाले जोड़े के विवाह पूर्व भी बच्चे हैं तो, उनका अपना बच्चा (बच्चे) रिंग बियरर बन सकता हैं।

क्वायन बियरर भी रिंग बियरर के ही सामान होता है। क्वायन बियरर एक युवा लड़का होता है जो विवाह के सिक्के लाने के लिए विवाह पथ पर चलता है। विवाह के सिक्के यां क्वायंस आम तौर पर वेडिंग एरे के नाम से जाने जाते हैं।[25][अविश्वनीय स्रोत?]. सिक्के आशीर्वाद के रूप में उत्सवकर्ता को दे दिए जाते हैं। सिक्कों में आमतौर पर 13 सोने और चांदी के सिक्के होते हैं, जो ईसा मसीह और उनके धर्मदूतों के प्रतीक होते हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें] इतिहास के अनुसार, स्पेन के औपनिवेशिक शासकों ने यह परंपरा आरम्भ की थी।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

अनुष्ठानकर्ता/उत्सवकर्ता[संपादित करें]

यहूदी दुल्हन चुप्पाह तक पहुंची

संयुक्त राज्य, कनाडा और विश्व के अन्य कई देशों में, एक अनुष्ठानकर्ता वह व्यक्ति होता है जो विवाह, अंत्येष्टि, नामकरण, वयस्कता और अन्य रिवाजों की धार्मिक या धर्म निरपेक्ष अनुष्ठान सम्बन्धी रीतियों का निष्पादन करता है।

अधिकांश अनुष्ठानकर्ता विधिवत रूप से नियुक्त पादरी होते हैं, जबकी कुछ अन्य कानूनी अधिकारी (साधारणतया न्यायाधीश) होते हैं और इसके आलावा अन्य अनुष्ठानकर्ता विश्व की मानवीय संस्थाओं द्वारा अधिकृत होते हैं।

अनुष्ठानकर्ता ऐसे स्थानों व समय पर वैकल्पिक और गैर परंपरागत अनुष्ठान कर सकते हैं जो एक मुख्य धारा का पादरी नहीं कर सकता. कुछ अनुष्ठानकर्ता समलैंगिक विवाह और प्रतिबद्धता अनुष्ठान भी करवाते हैं। इन्हें उत्सवकर्ता भी कहा जाता है, ये प्रायः बगीचों, समुद्र तटों, पर्वतों पर, नावों में, लम्बी पैदल यात्रा के दौरान, होटल में, उत्सव गृहों में, निजी भवनों में और अन्य कई स्थानों पर समारोहों का आयोजन करते हैं।

संयुक्त राज्य के प्रत्येक राज्य में इस सन्दर्भ में अलग कानून है कि किसे विवाह समारोह करवाने के अधिकार है, लेकिन अनुष्ठानकर्ता या उत्सवकर्ता प्रायः पादरी के रूप में श्रेणीबद्ध होते हैं और उनके पास एक विधिवत नियुक्त पादरी के सम्मान ही अधिकार एवं जिम्मेदारियां होती हैं। कनाडा और मेसाचुसेट्स, कनेक्टिकट, डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया, इयोवा, न्यू हेम्पशायर और वरमॉन्ट के यूएस राज्य, उत्तरी अमेरिका के उन कुछ मात्र स्थानों में से हैं जहां समलैंगिक विवाह वैध है, यहां अनुष्ठानकर्ता और उत्सवकर्ता अनेक एलजीबीटी (LGBT) विवाह संपन्न करवाते हैं। 2010 के अनुसार, यूरोप के भी सात देशों में समलैंगिक विवाह कानूनी रूप से वैध है, इन देशों में बेल्जियम, आइसलैंड, नीदरलैंड, नौर्वे, पुर्तगाल, स्पेन, स्वीडेन, दक्षिणी अमेरिका का एक देश, अर्जेन्टाइना और अफ्रीका का एक देश, दक्षिणी अफ्रीका आदि शामिल हैं।

स्कॉटलैंड में, रजिस्ट्रार जनरल द्वारा 2005 में जारी नियम के समय से, मानवीय विवाह अब वैधानिक माने जाते हैं, किन्तु इसकी शर्त यह है कि वह स्कॉटलैंड की मानवीय संस्था द्वारा अधिकृत अनुष्ठानकर्ता द्वारा करवाया जाये, यह घटना स्कॉटलैंड को विश्व के मात्र उन तीन देशों में से एक बनाती है जहां ऐसा मामला अस्तित्व में है। (अन्य दो देश संयुक्त राज्य अमेरिका और नॉर्वे हैं।)

अनुष्ठानकर्ता पादरी से इस प्रकार भिन्न होते हैं कि वह व्यापक रूप से असम्बद्ध जनता की सेवा करते हैं, जबकि पादरी आम तौर पर किसी संस्था जैसे अस्पताल या अन्य स्वस्थ्य सुरक्षा केंद्र, सेना आदि के द्वारा नियुक्त होते हैं।

ऑस्ट्रेलिया में, अनुष्ठानकर्ताओं की भूमिका थोड़ी भिन्न होती है, जोकि स्थानीय व राष्ट्रीय कानून द्वारा नियमित होती है। अधिक जानकारी के लिए देखें अनुष्ठानकर्ता (ऑस्ट्रेलिया) .

संयुक्त राज्य में, अनुष्ठानकर्ता व्यवसायिक समारोह संपादक होते हैं जो समाज व व्यक्ति विशेष की मूल आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए अनुष्ठान और रिवाजों की शक्ति व प्रभाव में आस्था रखते हैं। वह ऐसे व्यक्तिगत अनुष्ठानों के निर्माण और निष्पादन के लिए अपने ग्राहक के साथ मिलकर काम करते हैं, जिनसे उनके ग्राहक की आस्था, जीवन दर्शन और व्यक्तित्व की एक झलक मिलती हो, ना कि स्वयं अनुष्ठानकर्ता के व्यक्तिगत विचारों की. अधिक जानकारी के लिए देखें अनुष्ठानकर्ता (संयुक्त राज्य) .

क्वेकर मतानुयायियों में विवाहों के जोड़े बिना किसी अन्य पक्ष के हस्तक्षेप के ही विवाह कर लेते हैं।

चित्रशाला[संपादित करें]

आधुनिक काल के विवाह[संपादित करें]

ऐतिहासिक विवाह[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • औफ्रुफ़, दूल्हे के लिए एक यहूदी समारोह
  • अन्य शादी के शब्दों के परिभाषा के लिए शादी के शब्द का शब्दकोष

सन्दर्भ[संपादित करें]

वैवाहिक रस्मों में भाग लेने वाले प्रतिभागी के बारे में, विकिपीडिया के बन्धुप्रकल्पों पर और जाने:
Wiktionary-logo-hi-without-text.svg शब्दकोषीय परिभाषाएं
Wikibooks-logo.svg पाठ्य पुस्तकें
Wikiquote-logo.svg उद्धरण
Wikisource-logo.svg मुक्त स्रोत
Commons-logo.svg चित्र एवं मीडिया
Wikinews-logo.svg समाचार कथाएं
Wikiversity-logo-en.svg ज्ञान साधन

इस लेख की सामग्री सम्मिलित हुई है ब्रिटैनिका विश्वकोष एकादशवें संस्करण से, एक प्रकाशन, जो कि जन सामान्य हेतु प्रदर्शित है।.

  1. ऑनलाइन व्युत्पत्ति विज्ञान शब्दकोश
  2. (Monger 2004, p. 107)
  3. Maura Banim; Ali Guy; Green, Eileen (2003). Through the Wardrobe: Women's Relationship with Their Clothes (Dress, Body, Culture). Oxford, UK: Berg Publishers. पपृ॰ 61–62. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-85973-388-3.
  4. Martin, Judith (2005). Miss Manners' Guide to Excruciatingly Correct Behavior, Freshly Updated. Kamen, Gloria. New York: W. W. Norton & Company. पपृ॰ 408–411. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-393-05874-3.
  5. शादी के बटुआ का संक्षिप्त इतिहास, दुल्हन का गांव, 28 मार्च 2010 को पुनःप्राप्त
  6. (Monger & 2004 p49-52)
  7. (Monger 2004, p. 232)
  8. ब्रांड, ऐन्टिक्वटीज़ ऑफ़ ग्रेट ब्रिटेन (हैज़लिट एड., 1905)
  9. रेव जे एडवर्ड वौक्स, चर्च फोकलोर (1894)
  10. *क्लीन, अर्नेस्ट, डॉ॰, अंग्रेजी भाषा का एक व्यापक व्युत्पत्ति विज्ञान शब्दकोश जो शब्दों के मूल और उसके इन्द्रिय विकास के साथ सम्पर्क रखता है और सभ्यता और संस्कृति के इतिहास का सचित्र व्याख्या करता है, एल्सिवियर (विज्ञान बी.वी.), ऑक्सफोर्ड, 1971, पृष्ठ 324
  11. GroomPower.com
  12. शादी के लिए नेकवेयर
  13. Martin, Judith (2005). Miss Manners' Guide to Excruciatingly Correct Behavior, Freshly Updated. Kamen, Gloria. New York: W. W. Norton & Company. पृ॰ 383. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-393-05874-3. [I]n polite society...the bridesmaids' only duties are to make a special fuss over the bride by gathering around her at the wedding and, in the weeks before, by pretending to be interested in all the wedding details. It is also nice, but not obligatory, for them to plan a girlishly informal gathering—a luncheon or shower—for her beforehand.
  14. Martin, Judith (1999). Miss Manners on weddings. New York: Crown Publishers. पपृ॰ 136–137. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-609-60431-7.
  15. Post, Emily (1922). Etiquette in Society, in Business, in Politics and at Home'. Funk & Wagnalls Company. पपृ॰ 335–337.
  16. ओट्नेस, सेले सी.; प्लेक, एलिज़ाबेथ एच.. "द इंगेजमेंट कॉम्प्लेक्स". सिंड्रेला ड्रीम्ज़: द एल्युर ऑफ़ द लेविश वेडिंग. कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय प्रेस. ISBN 0-520-24008-1.पृष्ठ 74
  17. Post, Peggy (2006). Emily Post's wedding etiquette (5 संस्करण). London: Collins. पपृ॰ 183–184. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-06-074504-5.
  18. "International Wedding Customs". अभिगमन तिथि 20 जून 2008.
  19. T. Sharper Knowlson (2008) [1910]. The Origins of Popular Superstitions and Customs (Forgotten Books). Forgotten Books. पपृ॰ 100–102. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-60506-4580.
  20. Leopold Wagner (1995). Manners, Customs and Observances. Omnigraphics Inc. पपृ॰ 61–62. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1605067988.
  21. "Essential Guide to Ukrainian Wedding Traditions!". What's On Kiev. अभिगमन तिथि 2008. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  22. Post, Peggy. Emily Post's Wedding Etiquette, 5e. London: Collins. पृ॰ 85. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-06-074504-5.
  23. aweddingministers.com
  24. Stewart, Arlene Hamilton (1995). A bride's book of wedding traditions. New York: Hearst Books. पृ॰ 106. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-688-12768-1.
  25. http://lovelywed.com/blog/2006/12/coin-bearer-explained.html