वैदेही (कन्नड़ साहित्यकार)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
वैदेही
Vaidehi.jpg
जन्मवासंती[1]
12 फ़रवरी 1945 (1945-02-12) (आयु 75)
कुंडापुरा, उडुपी, मद्रास प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत
उपनामवैदेही
व्यवसायलेखिका
राष्ट्रीयताभारतीय
उच्च शिक्षाभंडारकर कॉलेज
विधाकन्नड़ कथा
उल्लेखनीय कार्यsक्रुंच पक्शिगलु
उल्लेखनीय सम्मानसाहित्य अकादमी पुरस्कार
2009
जीवनसाथीके एल श्रीनिवास मूर्ति
सन्तान2

वैदेही कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह क्रौंच पक्षिगळु के लिये उन्हें सन् 2009 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।[2] वैदेही जिनका वास्तविक नाम जानकी श्रीनिवास मूर्ति (कन्नड़: ಜಾನಕಿ ಶ್ರೀನಿವಾಸ ಮೂರ್ತಿ) (12 फरवरी 1945 को वासंती के रूप में जन्म), जो अपने उपनाम वैदेही (कन्नड़: ವೈದೇಹಿ) के नाम से लोकप्रिय हैं। एक भारतीय लेखिका और आधुनिक कन्नड़ भाषा के प्रसिद्ध लेखिकाओं मे उनकी गिनती होती हैं। वैदेही कन्नड़ भाषा की सबसे सफल महिला लेखकों में से एक हैं और प्रतिष्ठित राष्ट्रीय और राज्य-स्तरीय साहित्यिक पुरस्कारों की प्राप्तकर्ता हैं। [3]

जीवनी[संपादित करें]

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

वैदेही का जन्म 12 फरवरी 1945 को कर्नाटक के उडुपी जिले के कुंडापुरा तालुक में ए वी एन हेब्बर (पिता) और महालक्ष्मी (माता) के घर हुई थी। [4] वह एक बड़े पारंपरिक ब्राह्मण परिवार में पली-बढ़ी। उन्होंने कुंडपुरा के भंडारकर कॉलेज से वाणिज्य में स्नातक की डिग्री प्राप्त की। उनके पिता एक वकील थे और उनकी माँ एक गृहिणी थी। उनके घर पर, कुंडापुर कन्नड़, कन्नड़ की एक स्थानीय बोली बोली जाती थी और वह इस बोली का उपयोग अपने कामों में भी करती है। [5] वैदेही एक असामान्य परिस्थितियों में उसका छद्म-नाम बन गई। अपने लेखन करियर की शुरुआत में, उन्होंने प्रकाशन के लिए कन्नड़ साप्ताहिक पत्रिका सुधा को एक कहानी भेजी थी, लेकिन बाद में प्रकाशक से अनुरोध किया कि वे उसे प्रिंट न करे क्योंकि कहानी गैर-काल्पनिक थी और इसमें एक वास्तविक जीवन की कहानी शामिल थी। हालाँकि, संपादक ने लेखक का नाम बदलकर 'वैदेही' कर दिया और यह नाम उनकी बाद के लेखन में चलता रहा और साथ ही उसने लोकप्रियता हासिल की।

विवाहित जीवन[संपादित करें]

वैदेही ने 23 साल की उम्र में के एल श्रीनिवास मूर्ति से शादी की। इस दंपति की दो बेटियां हैं, जिनके नाम नयना कश्यप (नयना मूर्ति) और पल्लवी राव (पल्लवी मूर्ति) हैं। शादी के बाद वैदेही ने अपना कानूनी नाम जानकी श्रीनिवास मूर्ति में बदल दिया और शिवमोग्गा चली गईं। बाद में परिवार उडुपी और फिर मणिपाल चला गया जहां वह वर्तमान में रहती है। वैदेही की बेटी नयना कश्यप एक अनुवादक, कन्नड़ लेखक और अंग्रेजी शिक्षक हैं। उन्होंने वैदेही की कुछ रचनाओं का अंग्रेजी में अनुवाद किया है जिसमें पाँच उपन्यास शामिल हैं।

साहित्यिक रचनायें[संपादित करें]

लघुकथा का संग्रह[संपादित करें]

मारा गिदा बल्ली जो (1979) में प्रकाशित हुआ,अंतरांगदा पुतगालु जो (1984) में प्रकाशित हुआ,गोला जो (1986) में प्रकाशित हुआ,समजा शस्त्रजनीया तिप्पेनिगे जो (1991) में प्रकाशित हुआ,अम्माची येम्बा नेनापु जो (2000) में प्रकाशित हुआ,हगालु जीछिदा नेंटा और क्रौंच पक्शिगलु

निबंध[संपादित करें]

  • मल्लीनाथना ध्यान (1996)
  • मेजू मट्टू बदगी
  • जतरे

उपन्यास[संपादित करें]

  • अस्पृश्यरु (1992)

कविताओं का संग्रह[संपादित करें]

  • टोटिलु तुगुवा हदु
  • बिंदू बिंदिग (1990)
  • पारिजात (1999)
  • होवा कटुवा हाडु (2011)

बच्चों के नाटक[संपादित करें]

  • धाम धूम सुनतरगली
  • मूकना मक्कलु
  • गोम्बे मैकबेथ
  • दनदंगुरा
  • नयमारी नाटका
  • कोतु गुम्मा
  • झूम झम आणे मथु पूता
  • सूर्य बंदा
  • अर्धचंद्र मित्राय
  • हक्की हडू
  • सोमारी ओल्या

जीवनी[संपादित करें]

  • नेनापिनांगलदल्ली मुसंजहेथु (कोटा लक्ष्मीनारायण कारंत का जीवन)
  • सेदियापु नेनपुगालु - (सेडियापु कृष्ण भट्ट का जीवन)
  • इललीलारे ऑलगे हॉगलारे - ( बी.वी. कारंथ का जीवन)

अनुवाद[संपादित करें]

  • भारथिया महलीरा स्वानतंत्र होरता (कमलादेवी चट्टोपाध्याय के "भारतीय महिला स्वतंत्रता संग्राम" से)
  • बेलिया संकोलगालु (मैत्री मुखोपाध्याय के "सिल्वर शक्लस") से
  • सूर्य किन्नारायु (स्वप्न दत्ता की "सन फैरिएस" से)
  • संगीता सामवदा ( भास्कर चंदावरकर के "लेक्चर ऑन म्यूजिक")

पुरस्कार[संपादित करें]

वैदेही ने कन्नड़ में अपने लेखन के लिए कई पुरस्कार जीते हैं। जिनमे से कुछ निम्नलिखित हे

2009 में क्रौंच पच्चीगालु के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार , कर्नाटक लखकियारा संघ द्वारा अंतरांगदा पुतगालु और बिंदू बिंदगे के लिए गीता देसाई दत्ती निधि (1985, 1992), (1992) में गोला के लिए वर्धमान प्रशस्ति पीठ द्वारा वर्धमान उदयनामुख पुरस्कार, (1992, 1997) कथ संगठन, नई दिल्ली द्वारा हागालु गीकिदा नेंटा और अम्मचचिम्बा नेनपु के लिए कथा अवार्ड , सामज शास्त्रिस्ता टीप्पनज के लिए अनुपमा अवार्ड (1993),कर्नाटक राज्य साहित्य अकादमी पुरस्कार (1993, 1998) उनके पांच बच्चों के नाटक और मल्लीनाथना ध्यान के लिए, अम्माची येम्बा नेनापु को साहित्य कामा पुरस्कार, शाश्वती ट्रस्ट द्वारा सदोदिता पुरस्कार (2001), सुधा वीकली अवार्ड एशप्रयारू के लिए, कर्नाटक सरकार द्वारा दाना चिंतामणि अत्तिम्बे पुरस्कार, अत्तिमाबे पुरस्कार अत्तिम्बे प्रतिष्ठान द्वारा

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 5 अप्रैल 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 मार्च 2020.
  2. "अकादमी पुरस्कार". साहित्य अकादमी. मूल से 15 सितंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 सितंबर 2016.
  3. "संग्रहीत प्रति". मूल से 25 फ़रवरी 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 मार्च 2020.
  4. "Standing at the threshold". The Hindu. Chennai, India. 1 January 2010. मूल से 2011-06-04 को पुरालेखित.
  5. "A little-known 'Kannada' dialect on the wane". The Hindu. Chennai, India. 20 May 2009. मूल से 29 अक्तूबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 मार्च 2020.