वैक्सिंग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
वैक्सिंग के पहले और बाद में पुरुष की छाती.

वैक्सिंग (Waxing), अनचाहे बालों को हटाने की एक अर्द्ध स्थायी विधि है जो बालों को जड़ों से हटा देती है। पहले से वैक्स किये हुए भाग में नए बाल, दो से आठ सप्ताह से पहले नहीं उगते हैं। शरीर के लगभग किसी भी भाग में वैक्स किया जा सकता है, जैसे भोहें, चेहरा, बिकिनी का भाग, पैर, हाथ, पीठ, पेट का निचला भाग और पंजा। कई प्रकार के वैक्सिंग उपलब्ध हैं जो अनचाहे बालों को हटाने के लिए उपयुक्त हैं।

वैक्सिंग की प्रक्रिया को पूरी करने के लिए त्वचा पर मोम के मिश्रण की पतली परत फैलाई जाती है। उसके बाद एक कपड़े या कागज की पट्टी को उसके ऊपर दबाया जाता है और फिर उसे बालों के उगने की दिशा में एक झटके में खींचा जाता है।[1] यह मोम के साथ बालों को भी हटा देता है। एक अन्य विधि में सख्त मोम का इस्तेमाल किया जाता है (यह पट्टी मोम के विपरीत होता है). इसमें, मोम की थोड़ी मोटी परत लगाई जाती है और किसी कपड़े या कागज की पट्टी का उपयोग नहीं किया जाता है। ठंडा होने पर मोम सख्त हो जाता है जिसके कारण वह बिना किसी कपड़े की सहायता से एक चिकित्सक द्वारा आसानी से हटा दिया जाता है। वैक्सिंग विधि संवेदनशील त्वचा वाले व्यक्तियों के लिए बहुत फायदेमंद होती है।

वैक्सिंग के प्रकार[संपादित करें]

वैक्सिंग के विभिन्न प्रकार उपलब्ध हैं। जिनमें से कुछ लाइसेंस प्राप्त कॉसमेटोलॉजीस्ट या एस्थेटिसियन के द्वारा किया जाना चाहिए। किये जा सकने वाले वैक्सिंग के विभिन्न प्रकार ये हैं:

  • भौंह वैक्सिंग
  • पाद वैक्सिंग
  • बांह/अंडरआर्म वैक्सिंग
  • पीठ वैक्सिंग
  • पैर के पंजे की वैक्सिंग
  • छाती वैक्सिंग
  • पूरे शरीर की वैक्सिंग
  • बिकनी वैक्सिंग
  • ऊपरी होंठ

शरीर के अधिकांश भागों पर वैक्सिंग किया जा सकता है, लेकिन उपरोक्त सूची में दर्ज नहीं किए जाने वाले भागों पर विशेष ध्यान नहीं दिया जाता है। जिन भागों पर व्यक्ति को कभी भी वैक्स नहीं करना चाहिए वे हैं कान और नाक के भीतर का क्षेत्र और साथ ही साथ बरौनी, पलकों, हाथों की हथेलियों और पैरों के तलवों पर. इन भागों की त्वचा संवेदनशील होने के कारण यह विशेष रूप से ध्यान देने योग्य है और वैक्स किए जाने पर यह गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त हो सकते हैं।

लाभ और कमियां[संपादित करें]

बाल हटाने की अन्य विधियों की तुलना में वैक्सिंग के बहुत से लाभ हैं। यह एक बार में बड़ी मात्रा में बाल हटाने की एक प्रभावी विधि है।[2] यह एक लंबे समय तक प्रभावी रहने वाली विधि है। वैक्स किए हुए भाग में दो से आठ सप्ताह तक बाल वापस नहीं उगेंगे. जब बाल को हजामत द्वारा या एक लोमनाशक क्रीम द्वारा हटाया जाता है, तब वह जड़ों के बजाए त्वचा के ऊपर से हटता है। कुछ दिनों के भीतर ही, बाल सतह पर दिखने लगता है। इन तरीकों के प्रयोग से, बाल उगते समय छोटी दाढ़ी के समान सख्त होते हैं। जिन अंगों पर लम्बे समय से वैक्स किया जाता रहा है उनपर पुनः उगने वाले बाल नरम होते हैं।[3]

वैक्सिंग की एक प्रमुख कमी यह है कि इसके बाद त्वचा में दर्द और प्रदाह (जलन) हो सकती है।

वैक्सिंग की कई कमियां भी होती हैं। वैक्सिंग पट्टी को त्वचा से खींच कर हटाना दर्दनाक हो सकता है। हालांकि यह दर्द स्थाई नहीं होता, यह विशेष रूप से अधिक संवेदनशील त्वचा पर तीव्र हो सकता है। वैक्सिंग की एक अन्य कमी है उसमें लगने वाला खर्च: वैक्सिंग की प्रक्रिया आम तौर पर लाइसेंस प्राप्त एस्थीटीशियन द्वारा किया जाता है, इसलिए इसको करवाने की कीमत काफी ज्यादा होती है, जो बाल हटाये जाने वाले अंग और कितने उपचार आवश्यक हैं इस के आधार पर कई सौ डॉलर तक हो सकता है। स्वयं करने वाले वैक्सिंग भी मौजूद है, लेकिन शरीर के कुछ भागों पर उसे स्वयं प्रयोग किए जाने में मुश्किल हो सकती है। बाल हटाना स्थाई नहीं होता। यदि इसे बालों के उगने की विपरीत दिशा में हटाया जाए, तो यह मोम पट्टीयां रोम छिद्रों में बाधा डाल सकती हैं, जिसके कारण बाल अलग-अलग दिशा में बढ़ने लगते हैं। इसके कारण बालों का विकास और अधिक नजर आने लगता है और यह बाल हटाने की अन्य विधियों को कठिन बना देता है। सौभाग्य से, सही विधि से किए जाने पर वैक्सिंग में जोखिम नगण्य होता है।

वैक्सिंग की एक अन्य कमी यह है कि कुछ लोगों को अंतर्वर्धित बाल, लाल सूजन और ज़रा सी खून निकलने की शिकायत भी हो सकती है। ऐसा घने बाल वाले भागो पर वैक्सिंग करते समय होने की अधिक सम्भावना होती है, विशेष रूप से पहली बार करवाने पर जब रोम छिद्र सख्त होते हैं। जबकि इसे पूरी तरह से खत्म करना असंभव है, अंतर्वर्धित बालों को निम्न त्रिकोण से कम किया जा सकता है जैसे नियमित रूप से अपशल्कित करने से और एक एस्ट्रिंजेंट या एस्ट्रिंजेंट और तेल के एक मिश्रण (आम तौर पर बेबी ऑयेल या अजुलें ऑयेल) को लगाने से.

चेतावनी[संपादित करें]

सभी सौंदर्य उपचारों की तरह वैक्सिंग में भी उपचार को प्रतिबंधित या बाधित करने के लिए विपरीत संकेत होते हैं।

उपचार रोकने के लिए मिले विपरीत संकेत[संपादित करें]

  • संक्रामक त्वचा अवस्था वैक्सिंग से पहले इसके ठीक होने की प्रतीक्षा करें।
  • पतली या नाजुक त्वचा यह त्वचा को क्षति पहुंचा सकता है और उसे फाड़ सकता है जो संक्रमण का कारण बन सकता है।
  • स्टेरॉयड दवाओं का प्रयोग ऐसी स्टेरॉयड क्रीम या दवा का उपयोग करने से त्वचा पतली हो जाती है। ऐसी दवाओं का सेवन करते हुए वैक्सिंग नहीं किया जाना चाहिए, यही नहीं इन दवाओं का सेवन बंद करने के तीन महीने बाद से ही वैक्सिंग कराना चाहिए।
  • रोएक्युटेन भारी मात्रा में हुए मुहांसों के लिए यह उपचार त्वचा को बहुत शुष्क बना देती है जिसके परिणाम स्वरूप त्वचा पतली या नाजुक हो जाती है। इस इलाज की अवधि पूरी होने के कम से कम छः महीने बाद से या त्वचा के नाज़ुक होने की स्थिति में और लंबे समय के बाद वैक्सिंग करवाना चाहिए।
  • एलर्जी जैसा कि सभी सामयिक उत्पादों/उपचारों के साथ होता है जिन व्यक्तियों को किसी सामग्री से एलर्जी होती है तो उस उपचार को रोक दिया जाता हैं।

उपचार को प्रतिबंधित करने वाले विपरीत संकेत[संपादित करें]

  • उभरे हुए मस्से और त्वचा टैग इन पर प्रत्यक्ष रूप से वैक्स नहीं लगाया जाना चाहिए।
  • खरोंच, काट, फटी त्वचा, घाव पुर्णतः ठीक हो जाने से पहले इन भागों पर वैक्सिंग नहीं किया जाना चाहिए।
  • फूली हुई नस प्रभावित भाग पर वैक्स ना करें।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. बाल हटाने के लिए वैक्सिंग Archived 15 फ़रवरी 2009 at the वेबैक मशीन. हेयरफैक्ट्स.कॉम से
  2. बाल निकालने की विधियां Archived 18 मई 2010 at the वेबैक मशीन. अबाउट.कॉम से
  3. बाल निकालने के लिए वैक्सिंग Archived 21 नवम्बर 2010 at the वेबैक मशीन. स्किनसाईट.कॉम से