वीरेंद्र आस्तिक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
वीरेंद्र आस्तिक
स्थानीय नामवीरेन्द्र सिंह
जन्म15 जुलाई 1947
रूरवाहार, अकबरपुर तहसील, कानपुर
व्यवसायकवि, नवगीतकार, आलोचक, संपादक
निवासएल-60 गंगा विहार, कानपुर-208010 (उ.प्र.)
राष्ट्रीयताभारतीय
शिक्षाएम॰ए॰ (हिंदी)
उल्लेखनीय सम्मान'साहित्य भूषण सम्मान', उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान, लखनऊ
सक्रिय वर्ष1974 से अब तक
जीवनसाथीसुधा सेंगर
सन्तानदिव्या सिंह, कनिका सिंह

वीरेंद्र आस्तिक (15 जुलाई 1947[1]) हिंदी गीत[2]-नवगीत विधा के सशक्त कवि, आलोचक एवं सम्पादक हैं।[3] 'परछाईं के पाँव', 'आनंद ! तेरी हार है'[4], 'तारीख़ों के हस्ताक्षर'[5], 'आकाश तो जीने नहीं देता'[6], 'दिन क्या बुरे थे'[7], 'गीत अपने ही सुनें'[8] आदि गीत संग्रह के अलावा इनके गीत, नवगीत, ग़ज़ल, छन्दमुक्त कविताएँ, रिपोर्ताज, ललित निबंध, समीक्षाएँ, भूमिकाएं आदि 'दैनिक जागरण', 'दैनिक हिंदुस्तान', 'सन्डे मेल', 'जनसंदेश टाइम्स', 'प्रेसमेन', 'साप्ताहिक हिन्दुस्तान', श्रेष्ठ हिंदी गीत संचयन[9], समकालीन गीत: अन्तः अनुशासनीय विवेचन[10], नवगीत के नये प्रतिमान[11], अभिव्यक्ति[12] 'पूर्वाभास'[13], 'कविताकोश'[14], 'अनुभूति', 'हिंदी समय'[15] आदि ग्रंथों, पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहे हैं। इन्होंने हिंदी गीत पर आधारित पुस्तकें- 'धार पर हम- एक'[16] और 'धार पर हम- दो'[17] का संपादन किया है। इन्हें  'उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान- लखनऊ' द्वारा 'साहित्य भूषण सम्मान' (2018)[18] से अलंकृत किया गया।[19] इन्हें  2019 में पद्मश्री के लिए नामांकित किया गया था।[20]

जीवन वृत्त[संपादित करें]

वीरेंद्र आस्तिक का जन्म कानपुर, उत्तरप्रदेश के एक छोटे से गाँव रूरवाहार में 15 जुलाई 1947 में हुआ था। इनके पिता स्व घनश्याम सिंह सेंगर अपने क्षेत्र के एक अच्छे संगीतज्ञ और समाज-सेवक थे; जबकि इनकी माँ स्व. रामकुमारी एक कुशल ग्रहणी थीं। इनकी शिक्षा परास्नातक (एम॰ए॰- हिंदी) तक हुई। वीरेंद्र सिंह ने 1964 से 1974 तक भारतीय वायु सेना में कार्य करने के बाद भारत संचार निगम लि. को अपनी सेवाएं दीं। काव्य-साधना के शुरुआती दिनों में इनकी रचनाएँ वीरेंद्र बाबू और वीरेंद्र ठाकुर के नामों से भी छपती रही हैं।[21]

प्रकाशित कृतियाँ[संपादित करें]

  • काव्य संग्रह-
    वीरेंद्र आस्तिक
    वीरेंद्र आस्तिक
    1. 'परछाईं के पांव' (गीत-ग़ज़ल संग्रह, 1982)
    2. 'आनंद! तेरी हार है' (गीत-नवगीत संग्रह, 1987)
    3. 'तारीखों के हस्ताक्षर' (राष्ट्रीय त्रासदी के गीत,  उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान से अनुदान प्राप्त, 1992)
    4. 'आकाश तो जीने नहीं देता' (नवगीत संग्रह 2002)
    5. 'दिन क्या बुरे थे'[22] (नवगीत संग्रह, सर्जना पुरस्कार, उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान, 2012)
    6. 'गीत अपने ही सुनें'[23] (प्रेम-सौन्दर्यमूलक नवगीत संग्रह, 2017)[24]
  • आलोचना-
    1. 'धार पर हम'[25] (1998, बड़ौदा विश्वविद्यालय में एम॰ए॰ पाठ्यक्रम में निर्धारण : 1999-2005)
    2. 'धार पर हम- दो'[26] (2010, नवगीत-विमर्श एवं नवगीत के महत्वपूर्ण हस्ताक्षर)
    3. 'नवगीत: समीक्षा के नये आयाम'[27][28](2019)
  • संपादित कृतियाँ-
    1. 'धार पर हम'
    2. 'धार पर हम- दो'[29]

साहित्यिक वैशिष्ट्य[संपादित करें]

संपादन के साथ लेखन को धार देने वाले आस्तिक जी के नवगीत किसी एक काल खंड तक सीमित नहीं हैं, बल्कि उनमें समयानुसार प्रवाह देखने को मिलता है। यह प्रवाह उनकी रचनाओं की रवानगी से ऐसे घुल-मिल जाता है कि जैसे स्वतंत्रोत्तर भारत के इतिहास के व्यापक स्वरुप से परिचय कराता एक अखण्ड तत्व ही मानो नाना रूप में विद्यमान हो। इस द्रष्टि से उनके नवगीत, जिनमें नए-नए बिम्बों की झलक है और अपने ढंग की सार्थक व्यंजना भी, भारतीय जन और मन को बड़ी साफगोई से व्यंजित करते हैं। राग-तत्व के साथ विचार तत्व के आग्रही आस्तिक जी की रचनाओं में भाषा-लालित्य और सौंदर्य देखते बनता है— शायद तभी कन्नौजी, बैंसवाड़ी, अवधी, बुंदेली, उर्दू, खड़ी बोली और अंग्रेजी के चिर-परिचित सुनहरे शब्दों से लैस उनकी रचनाएँ भावक को अतिरिक्त रस से भर देती हैं।[3]

सम्मान/पुरस्कार[संपादित करें]

  • 'साहित्य-अलंकार सम्मान'[30]— 2012, अखिल भारतीय साहित्य कला मंच, मुरादाबाद, उ.प्र.
  • 'सर्जना पुरस्कार'— 2012, उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान, लखनऊ[31]
  • 'गीतांगनी  पुरस्कार/सम्मान'[32]— 2014, श्री सत्य कॉलेज ऑफ हायर एजूकेशन, मुरादाबाद, उ.प्र.
  • 'सुमित्रा कुमारी सिन्हा स्मृति सम्मान'— 2015, बैसवारा शोध संस्था, लालगंज, रायबरेली, उ.प्र.
  • 'संकल्प साहित्य शिरोमणि सम्मान'— 2016, संकल्प संस्थान, राउरकेला, उड़ीसा
  • 'संयोग गीत वैभव सम्मान'[33]— 2018, संयोग साहित्य, भायंदर-मुंबई, महाराष्ट्र[34]
  • 'साहित्य भूषण सम्मान'[35]— 2018, उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान, लखनऊ[36]
  • 'स्व. यदुनंदन प्रसाद बाजपेयी सम्मान'[37]— 2019, 'कादम्बरी' और 'महाकोशल शहीद स्मारक ट्रस्ट', जबलपुर, म.प्र. 

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. उत्तर प्रदेश के हिंदी साहित्यकार: सन्दर्भ कोश, सम्पादक- डॉ॰ महेश दिवाकर, सरस्वती प्रकाशन, मिलन विहार, मुरादाबाद, उ.प्र.-२४४००१, प्रकाशन वर्ष- २०११, मूल्य-२००/-रु., पृष्ठ ११९
  2. गीतकारों की सूची: अनुभूति http://www.anubhuti-hindi.org/geet/index.htm
  3. "वीरेन्द्र आस्तिक के दस नवगीत". अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  4. आनंद! तेरी हार है, रचयिता- वीरेंद्र आस्तिक, प्रकाशक- साहित्य सदन प्रकाशन, नैपियर रोड, कानपुर कैंट- २०८००४, उ.प्र., प्रथम संस्करण-१९८७, मूल्य-रू. २५/-, पृष्ठ-११०
  5. तारीखों के हस्ताक्षर, रचयिता- वीरेंद्र आस्तिक, प्रकाशक- साहित्य सदन प्रकाशन, नैपियर रोड, कानपुर कैंट- २०८००४, प्रथम संस्करण-१९९२, मूल्य-रू. ३५ /-, पृष्ठ-१०४
  6. आकाश तो जीने नहीं देता, रचयिता- वीरेंद्र आस्तिक, प्रकाशक- शब्द सेतु प्रकाशन, कबीर नगर, शहादरा, दिल्ली-११००९४, प्रथम संस्करण-२००२, मूल्य-रू. १५० /-, पृष्ठ-१५७
  7. दिन क्या बुरे थे, रचयिता- वीरेंद्र आस्तिक, प्रकाशक- कल्पना प्रकाशन, बी-१७७०, जहाँगीर पुरी, दिल्ली-११००३३, प्रथम संस्करण-२०१२, मूल्य-रू. २५०/-, पृष्ठ-१०२, ISBN 978-81-88790-67-8
  8. आस्तिक, वीरेंद्र (2017). गीत अपने ही सुनें. ४८०६/२४, भरतराम रोड, दरियागंज, दिल्ली-११०००२१: के.के. पब्लिकेशन. पृ॰ 127.सीएस1 रखरखाव: स्थान (link)
  9. श्रेष्ठ हिंदी गीत संचयन, संपादक- कन्हैया लाल नंदन, साहित्य अकादमी, रवीद्र भवन, ३५, फीरोजशाह मार्ग, नई दिल्ली-११०००१, ISBN 81-260-1211-0, मूल्य- २००, वर्ष- २००१, पृष्ठ- ४५८
  10. समकालीन गीत: अन्तः अनुशासनीय विवेचन, लेखक: डॉ॰ वीरेंद्र सिंह, रचना प्रकाशन, ५७, नातानी भवन, मिश्र राजाजी की रास्ता, चांदपोल बाज़ार, जयपुर, राज., वर्ष: २००९, मूल्य: १५०, पृष्ठ ५८, ISBN 978-81-89228-49-1
  11. नवगीत के नये प्रतिमान, संपादक- राधेश्याम बंधू, कोणार्क प्रकाशन, दिल्ली-११००५३, ISBN 978-81-920238-16, मूल्य- ५००, वर्ष- २०१२, पृष्ठ- ३३५
  12. अभिव्यक्ति, साहित्यिक पत्रिका, प्रतापनगर, दादाबाड़ी, कोटा-९, राज., मार्च 2012, पृष्ठ-२७
  13. "चार नवगीत : कवि- वीरेंद्र आस्तिक". अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  14. "वीरेंद्र आस्तिक - कविता कोश". kavitakosh.org. अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  15. "लेखक वीरेंद्र आस्तिक का व्यक्तित्व Vinrendra Astik". www.hindisamay.com. अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  16. धार पर हम- एक, संपादक- वीरेंद्र आस्तिक, आलोकपर्व प्रकाशन, १/६५८८, पूर्वी रोहतास नगर, शाहदरा, दिल्ली-११००३२, मूल्य- १६०, वर्ष- १९९८, कुल पृष्ठ- १४०
  17. धार पर हम- दो, संपादक- वीरेंद्र आस्तिक, कल्पना प्रकाशन, बी-१७७०, जहाँगीर पुरी, दिल्ली-११००३३, मूल्य- ३९५, वर्ष- २०१०, कुल पृष्ठ- २४०, ISBN 978-81-88790-26-25
  18. "कलम को सलाम : ऊषा किरन खान को भारत-भारती सम्मान, ये है पूरी सूची lucknow news". Dainik Jagran. अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  19. "वीरेन्द्र आस्तिक को 'साहित्य भूषण सम्मान'   ". m.sahityakunj.net. अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  20. "Virendra Astik from Uttar Pradesh is nominated for The Padma Shri Award in Literature and Education Field. If you want to nominate Virendra Astik for Padma Shri, please click here". padmaawards.gov.in. अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  21. "साक्षात्कार : नवगीत, गीत का आधुनिक संस्करण— वीरेंद्र आस्तिक". अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  22. "दिन क्या बुरे थे - वीरेन्द्र आस्तिक Din Kya Bure The - Hindi book by - Virendra Aastik". www.pustak.org. अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  23. "GEET APNE HI SUNE VIRENDRA ASTIK 9788178443058". www.hindibook.com. अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  24. पाठशाला, नवगीत की (शुक्रवार, 15 सितंबर 2017). "संग्रह और संकलन: गीत अपने ही सुनें- वीरेन्द्र आस्तिक". संग्रह और संकलन. अभिगमन तिथि 2020-02-17. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  25. "धार पर हम - वीरेन्द्र आस्तिक Dhar Par Ham - Hindi book by - Virendra Aastik". www.pustak.org. अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  26. "धार पर हम (दो) - वीरेन्द्र आस्तिक Dhar Par Ham (2) - Hindi book by - Virendra Aastik". www.pustak.org. अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  27. आस्तिक, वीरेंद्र (2018). नवगीत: समीक्षा के नये आयाम. बी-१७७०, जहाँगीर पुरी, दिल्ली-११००३३: के.के. पब्लिकेशन. पृ॰ 207.सीएस1 रखरखाव: स्थान (link)
  28. "NAVGEET SAMIKSHA KE NAE AYAM VIRENDRA ASTIK 9788178443584". www.hindibook.com. अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  29. मिश्र, प्रस्तुतकर्ता भारतेंदु. "छंद प्रसंग". अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  30. वर्मन, पूर्णिमा (मंगलवार, 16 अक्तूबर 2012). "साहित्य समाचार: अखिल भारतीय साहित्य कला मंच का पुरस्कार समारोह सम्पन्न". साहित्य समाचार. अभिगमन तिथि 2020-02-17. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  31. "श्री सत्य कॉलेज ऑफ हायर एजूकेशन --साहित्यकारों का सम्मान - swargvibha forum". swargvibha.in. अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  32. "श्री सत्य कॉलेज ऑफ हायर एजूकेशन में 'सृजन सम्मान एवं काव्य समारोह' का भव्य आयोजन". अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  33. नवभारत (Dec 15, 2018). "साहित्यकार हुए सम्मानित". https://www.enavabharat.com/. अभिगमन तिथि Feb 17, 2020. |website= में बाहरी कड़ी (मदद)
  34. "'संयोग साहित्य' द्वारा डॉ.गुप्ता `आदित्य` सहित कई हिंदी साहित्यकार सम्मानित". हिन्दी भाषा (अंग्रेज़ी में). 2018-12-14. अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  35. "वीरेन्द्र आस्तिक को 'साहित्य भूषण सम्मान'". अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  36. "सम्‍मान समारोह में बोलेे सीएम योगी, खेमे-क्षेत्रीयता व जातीयता में लेखनी बंटी तो होगा बड़ा नुकसान". Dainik Jagran. अभिगमन तिथि 2020-02-17.
  37. "वीरेन्द्र आस्तिक को स्व. यदुनंदनप्रसाद बाजपेयी सम्मान". अभिगमन तिथि 2020-02-17.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]