सामग्री पर जाएँ

वीरमाता जीजाबाई प्रौद्योगिकी संस्थान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
वीरमाता जीजाबाई प्रौद्योगिकी संस्थान
Veermata Jijabai Technological Institute
VJTI Seal
Seal of VJTI

स्थापना:1887 [1]
प्रकार:Government-aided autonomous engineering and technological institute
निदेशक:Dhiren R. Patel
संकाय:150
विद्यार्थी:2860
स्नातक:2160 (540/year)
स्नातकोत्तर:556
डॉक्टरल:69
स्थिति:Matunga, Mumbai, Maharashtra, India
परिसर:Urban
16 एकड़ (65,000 मी2)
पूर्व नाम:Victoria Jubilee Technical Institute, Sir J. J. School of Mechanical Engineering & Ripon Textile School
जालस्थल:www.vjti.ac.in
वीरमाता जीजाबाई प्रौद्योगिकी संस्थान, मुम्बई

वीरमाता जीजाबाई प्रौद्योगिकी संस्थान (Veermata Jijabai Technological Institute / VJTI) मुम्बई का प्रसिद्ध इंजीनियरिंग महाविद्यालय है। यह एशिया के सबसे पुराने इंजीनियरी शिक्षण संस्थानों में से एक है। इसकी स्थापना 1887 में हुई थी और पहले इसका नाम 'विक्टोरिया जुबली टेक्निकल इंस्टीट्यूट' था। 1998 में इसका नाम बदलकर वर्तमान नाम दिया गया।[1] शैक्षणिक एवं प्रशासनिक रूप से यह एक स्वायत्त संस्थान है, तथापि यह मुम्बई विश्वविद्यालय से सम्बद्ध है।

2004 में अकादमिक और प्रशासनिक स्वायत्तता से सम्मानित होने के बाद, वीजेटीआई गवर्नर्स बोर्ड के प्रशासन के तहत चालू हो गया।[2] वीजेटीआई महाराष्ट्र राज्य का केंद्रीय तकनीकी संस्थान भी है। संस्थान छात्रों को सर्टिफिकेट, [3] डिप्लोमा, डिग्री, स्नातकोत्तर और डॉक्टरेट स्तर पर इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी में प्रशिक्षित करता है। [3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "A Brief History of VJTI". VJTI. 2005. मूल से 4 February 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 October 2015.
  2. "Veermata Jijabai Technological Institute".
  3. "Veermata Jijabai Technological Institute".

इन्हें भी देखें[संपादित करें]