विसंगति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

विसंगति काव्य को समृद्ध करने वाला तत्व है जो परस्पर विरोधी लगने वाले स्थितियों के संयोजन से निर्मित होता है। विसंगति में शब्द के लक्षणा और व्यंजना व्यापार सक्रिय होते हैं। इससे रचना की भाषा में संक्षिप्तता आती है और वह अधिक सटीक बनती है।