विश्वास का प्रयोग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मानव के सन्मुख सदैव ही कुछ ऐसे सवाल रहे हैैं जिनका उस के पास कोई उतर नही था परंतु ये सवाल उस के लिये बहुुुत महत्व् पुुुर्ण थे और वो बहुुुत प्रयास के बाद भी उन का उत्तर प्राप्त नही कर सका असफ़लता मिलने पर भी मनुुष्य ने इन सवालों की खोज जारी रखी और अपने इन्ही अनसुलझे प्रश्नो का उत्तर प्राप्त करने के लिये मानव ने विश्वास का प्रयोग किया क्योंकि इसमे कोई तार्किक दृष्टिकोण की आवश्यकता नही होती बस उस का मन इस बात पर सहमत होता है और उसकी उतर प्राप्त करने की प्यास बुझ जाती है ।

उदाहरण के लिए कोई सृष्टि के आरम्भ के विषय में सटीक उतर नही दे सकता क्योंकि उस समय वो वहां पर उपस्थित नही था फिर भी मनुष्य सृष्टि की रचना को ले कर कई विचार प्रकट करता है और इन विचारों पर उस का अटूट विश्वास होता है कई बार तो इनका आधार तथ्य न हो कर मात्र विश्वास होता है जो उसे प्राप्त जानकारी पर आधारित होता है इस मे उसकी कोई खोज शामिल नही होती वो बस किसी के कहने कुछ या पढने से प्राप्त जानकारी को सच मानता है ओर विश्वास करता है