विश्वनाथ सत्यनारायण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
विश्वनाथ सत्यनारायण
Viswanatha Satyanarayana.tif
श्रीमान विश्वनाथ सत्यनारायण
उपनाम: कवि साम्राट (तेलुगु)
जन्म: सेप्टेंबर १०, १८९५
नन्दमूरु ग्राम, कृष्णा जिला, आन्ध्रप्रदॅश्
मृत्यु: अक्टूबर १८, १९७६
विजयवाडा
कार्यक्षेत्र: तेलुगु साहित्य, अध्यापक, कवि
राष्ट्रीयता: भारतीय
भाषा: तेलुगु
काल: जीवन पर्यन्त
विधा: सभी तरह कॅ साह्त्यिक प्रक्रियायॅ
विषय: सामाजिक्
साहित्यिक
आन्दोलन
:
सामाजिक्
प्रमुख कृति(याँ): रामायण कल्पवृक्षमु
इनसे प्रभावित: बीस्वी सदी सॅ लेकर वर्तमान कवि, लेखक् एव्ं नवलकार्
वेयि पडगलु, रामायण कल्पवृक्षमु, अनेक कवितायें, नवल, कहानिया, नाटक्

विश्वनाथ सत्यनारायण एक तेलगु साहित्यकार थे। इन्हें 1970 में ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। विश्वनाथ सत्यनारायण को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश राज्य से थे।

कृतियाँ[संपादित करें]

उपन्यास[संपादित करें]

काव्य[संपादित करें]

  • झान्सीराणि
  • प्रद्युम्नोदयमु
  • रुरुचरित्रमु
  • मास्वामि
  • वरलक्ष्मी त्रिशति
  • देवी त्रिशति (संस्कृतं)
  • विश्वनाथ पंचशति
  • वेणीभंगमु
  • शशिदूतमु
  • शृंगारवीधि
  • श्रीकृष्ण संगीतमु
  • ना रामुडु
  • शिवार्पणमु
  • धर्मपत्नि
  • भ्रष्टयोगि (खंडकाव्यमु)
  • केदारगौळ (खंडकाव्यमु)
  • गोलोकवासि
  • दमयंतीस्वयंवरं

नाटक[संपादित करें]

  • अमृतशर्मिष्ठम् (संस्कृतं)
  • गुप्तपाशुपतम् (संस्कृतं)
  • गुप्तपाशुपतमु
  • अंता नाटकमे
  • अनार्कली
  • काव्यवेद हरिश्चंद्र
  • तल्लिलेनि पिल्ल
  • त्रिशूलमु
  • नर्तनशाल
  • प्रवाहं
  • लोपल - बयट
  • वेनराजु
  • अशोकवनमु
  • शिवाजि - रोषनार
  • धन्यकैलासमु
  • नाटिकल संपुटि (16 नाटिकलु)

विमर्श[संपादित करें]

  • अल्लसानिवारि अल्लिक जिगिबिगि
  • ऒकनाडु नाचन सोमन्न
  • काव्य परीमळमु
  • काव्यानंदमु
  • नन्नयगारि प्रसन्न कथाकलितार्धयुक्ति
  • विश्वनाथ साहित्योपन्यासमुलु
  • शाकुंतलमु यॊक्क अभिज्ञानत
  • साहित्य सुरभि
  • नीतिगीत
  • सीतायाश्चरितम् महात्
  • कल्पवृक्ष रहस्यमुलु
  • साहिती मीमांस.

शतक साहित्य[संपादित करें]

  • विश्वेश्वर शतकमु
  • श्रीगिरि शतकमु (मध्याक्करलु/मध्याक्कऱलु)
  • श्रीकाळहस्ति शतकमु (मध्याक्करलु/मध्याक्कऱलु)
  • भद्रगिरि शतकमु (मध्याक्करलु/मध्याक्कऱलु)
  • कुलस्वामि शतकमु (मध्याक्करलु/मध्याक्कऱलु)
  • शेषाद्रि शतकमु (मध्याक्करलु/मध्याक्कऱलु)
  • द्राक्षाराम शतकमु (मध्याक्करलु/मध्याक्कऱलु)
  • नंदमूरु शतकमु (मध्याक्करलु/मध्याक्कऱलु)
  • नॆकरु कल्लु शतकमु (मध्याक्करलु/मध्याक्कऱलु)
  • मुन्नंगि शतकमु (मध्याक्करलु/मध्याक्कऱलु)
  • वेमुलवाड शतकमु (मध्याक्करलु/मध्याक्कऱलु)

विविध[संपादित करें]

  • चिन्न कथलु
  • आत्म कथ
  • विश्वनाथ शारद (3 भागालु)
  • यतिगीतमु
  • What is Ramayana to me

सन्दर्भ[संपादित करें]