विश्लेषी दर्शन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

पाश्चात्य दर्शन के सन्दर्भ में, विश्लेषी दर्शन (Analytic philosophy), दर्शन की उस नवीन शैली को कहते हैं जो २०वीं शताब्दी के आरम्भ में प्रबल हुई। इसके कई अर्थ हो सकते हैं जिनमें से प्रमुख अर्थ ये हैं_

  • (१) तर्कों की स्पष्टता एवं परिशुद्धता पर बल, विश्लेषी दर्शन की प्रमुख विशेषता है। विश्लेषी दर्शन प्रायः औपचारिक तर्कशास्त्र तथा संकल्पनात्मक विश्लेषण का उपयोग करता है और कभी-कभी गणित और प्राकृतिक विज्ञानों का भी उपयोग करता है।