पृष्ठ से जुड़े बदलाव

Jump to navigation Jump to search

किसी पन्ने के हवाले कई पन्नों में मौजूद हो सकते हैं, यह सूची उन पन्नों (या किसी श्रेणी के सदस्यों) में हुए हाल के बदलाव दिखाती है। आपकी ध्यानसूची में मौजूद पन्ने मोटे अक्षरों में दिखेंगे।

हाल के परिवर्तन संबंधी विकल्प पिछले 1 | 3 | 7 | 14 | 30 दिनों में हुए 50 | 100 | 250 | 500 बदलाव दिखाएँ
लॉग्ड इन सदस्यों के परिवर्तन छुपाएँ | अनामक सदस्यों के परिवर्तन छुपाएँ | मेरे परिवर्तन छुपाएँ | बॉट दिखाएँ | छोटे परिवर्तन छुपाएँ | दिखाएँ पृष्ठ श्रेणीकरण | विकिडेटा दिखाएँ
15:54, 16 जनवरी 2021 से नए परिवर्तन दिखाएँ।
   
पृष्ठ नाम:
संकेतों की सूची:
डा
Wikidata परिवर्तन
इस संपादन से नया पृष्ठ बना (नए पन्नों की सूची को भी देखें)
छो
यह एक छोटा सम्पादन है
बॉ
यह संपादन एक बॉट द्वारा किया गया था
(±123)
पृष्ठ आकार इस बाइट संख्या से बदला
Temporarily watched page

15 जनवरी 2021

  • थाईलैण्ड 11:32 +2,566Kamaljisinghal चर्चा योगदानबैंकॉक स्थित शिव मंदिर, दुर्गा मंदिर विष्णु मंदिर वगैरह का निर्माण हिन्दुओं के साथ-साथ यहां के बौद्धों ने भी करवाया है। ये वास्तव में कमाल है। जहां तक हिंदू मंदिरों की बात है तो इन्हें यहां पर दशकों से बस गए भारत वंशियों ने बनवाया है। कुछ मंदिर निजी प्रयासों से भी बने हैं। थाईलैंड में तमिल और उत्तर भारत के भारतवंशी हैं। इसलिए मंदिर पर दक्षिण और उत्तर भारत के मंदिरों की तरह से बने हुए हैं। बैंकॉक के प्रमुख रथचेप्रयोंग चौराहे पर ब्रह्मा जी के मंदिर में लक्ष्मी-गणेश की मूर्तियां देखने लायक हैं।... टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
  • थाईलैण्ड 11:29 +5,534Kamaljisinghal चर्चा योगदानअब प्रश्न उठता है कि जिस देश का सरकारी धर्म बौद्ध हो वहां पर हिंदू धर्म का प्रतीक क्यों है? इसका उत्तर ये है कि चूंकि थाईलैंड मूल रूप से हिंदू धर्म था, इसलिए उसे इस में कोई विरोधाभास नजर नजर नहीं आता कि वहां पर हिंदू धर्म का प्रतीक राष्ट्रीय चिन्ह हो। एक सामान्य थाई गर्व से कहता है कि उसके पूर्वज हिंदू थे और उसके लिए हिंदू धर्म भी आदरणीय है। आपको थाईलैंड एक के बाद एक आश्चर्य देता है। वहां का राष्ट्रीय ग्रंथ रामायण है। वैसे थाईलैंड में थेरावाद बौद्ध के मानने वाले बहुमत में हैं, फिर भी वहां का... टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
  • थाईलैण्ड 11:22 +2,401Kamaljisinghal चर्चा योगदानहिंदू धर्म का थाईलैंड के राज परिवार पर सदियों से गहरा प्रभाव रहा है। माना यह जाता है कि थाईलैंड के राजा भगवान विष्णु के अवतार हैं। इसी भावना का सम्मान करते हुए थाईलैंड का राष्ट्रीय प्रतीक गरुड़ है। थाईलैंड में राजा को राम कहा जाता है। राज परिवार अयोध्या नामक शहर में रहता है। ये स्थान बैंकॉक से कोई 50-60 किलोमीटर दूर होगा। यहां पर बौद्ध मंदिरों की भी भरमार है जिनमें भगवान बुद्ध की विभिन्न मुद्राओं में मूर्तियां स्थापित हैं। क्या ये कम हैरानी की बात है कि बौद्ध होने के बावजूद थाईलैंड के लोग अप... टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन

10 जनवरी 2021