पृष्ठ से जुड़े बदलाव

Jump to navigation Jump to search

किसी पन्ने के हवाले कई पन्नों में मौजूद हो सकते हैं, यह सूची उन पन्नों (या किसी श्रेणी के सदस्यों) में हुए हाल के बदलाव दिखाती है। आपकी ध्यानसूची में मौजूद पन्ने मोटे अक्षरों में दिखेंगे।

हाल के परिवर्तन संबंधी विकल्प पिछले 1 | 3 | 7 | 14 | 30 दिनों में हुए 50 | 100 | 250 | 500 बदलाव दिखाएँ
लॉग्ड इन सदस्यों के परिवर्तन छुपाएँ | अनामक सदस्यों के परिवर्तन छुपाएँ | मेरे परिवर्तन छुपाएँ | बॉट दिखाएँ | छोटे परिवर्तन छुपाएँ | दिखाएँ पृष्ठ श्रेणीकरण | विकिडेटा दिखाएँ
02:19, 27 अक्टूबर 2020 से नए परिवर्तन दिखाएँ।
   
पृष्ठ नाम:
संकेतों की सूची:
डा
Wikidata परिवर्तन
इस संपादन से नया पृष्ठ बना (नए पन्नों की सूची को भी देखें)
छो
यह एक छोटा सम्पादन है
बॉ
यह संपादन एक बॉट द्वारा किया गया था
(±123)
पृष्ठ आकार इस बाइट संख्या से बदला

26 अक्टूबर 2020

23 अक्टूबर 2020

  • यशपाल 18:53 +2Kanojia ankit चर्चा योगदान→‎पुरस्कार: कृतियाँ - उपन्यास - झूठा सच : वतन और देश (1958-59 ई.), झूठा सच : देश का भविष्य (1958-59 ई.), मेरी तेरी उसकी बात (1942 ई.), मनुष्य के रूप (1949 ई.), पक्का कदम, देशद्रोही (1943 ई.), दिव्या (1945 ई.), गीता-पार्टी कामरेड (1947 ई.), दादा कामरेड (1941 ई.), अमिता (1956 ई.), जुलैखाँ, बारह घंटे, अप्सरा का शाप (2010 ई.), क्यों फँसें। टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
  • यशपाल 18:50 -598Kanojia ankit चर्चा योगदानकृतियाँ - उपन्यास - झूठा सच : वतन और देश (1958-59 ई.), झूठा सच : देश का भविष्य (1958-59 ई.), मेरी तेरी उसकी बात (1942 ई.), मनुष्य के रूप (1949 ई.), पक्का कदम, देशद्रोही (1943 ई.), दिव्या (1945 ई.), गीता-पार्टी कामरेड (1947 ई.), दादा कामरेड (1941 ई.), अमिता (1956 ई.), जुलैखाँ, बारह घंटे, अप्सरा का शाप (2010 ई.), क्यों फँसें। टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
  • यशपाल 18:47 +435Kanojia ankit चर्चा योगदान→‎प्रमुख प्रकाशित कृतियाँ: कृतियाँ - उपन्यास - झूठा सच : वतन और देश (1958-59 ई.), झूठा सच : देश का भविष्य (1958-59 ई.), मेरी तेरी उसकी बात (1942 ई.), मनुष्य के रूप (1949 ई.), पक्का कदम, देशद्रोही (1943 ई.), दिव्या (1945 ई.), गीता-पार्टी कामरेड (1947 ई.), दादा कामरेड (1941 ई.), अमिता (1956 ई.), जुलैखाँ, बारह घंटे, अप्सरा का शाप (2010 ई.), क्यों फँसें। टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
  • छो रघुवंश (साहित्यकार) 18:46 +280रोहित साव27 चर्चा योगदानKanojia ankit (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया टैग: प्रत्यापन्न
  • विश्वनाथ त्रिपाठी 12:36 -243Kanojia ankit चर्चा योगदानप्रकाशित कृतियाँ :- 1. हिन्दी आलोचना - 1970 (राजकमल प्रकाशन, नयी दिल्ली) 2. लोकवादी तुलसीदास - 1974 (राधाकृष्ण प्रकाशन, नयी दिल्ली) 3. प्रारम्भिक अवधी - 1975 4. मीरा का काव्य - 1979 (1989 में वाणी प्रकाशन, नयी दिल्ली से पुनर्प्रकाशित) 5. हिन्दी साहित्य का संक्षिप्त इतिहास- 1986 (2003 में हिन्दी साहित्य का सरल इतिहास नाम से पुनः प्रकाशित) 6. देश के इस दौर में (हरिशंकर परसाई केन्द्रित) - 1989 (राजकमल प्रकाशन, नयी दिल्ली) 7. हरिशंकर परसाई (विनिबंध) - 2007 (साहित्य अकादेमी, नयी दिल्ली) 8. कुछ क... टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन References removed
  • रघुवंश (साहित्यकार) 09:08 -280Kanojia ankit चर्चा योगदानप्रकाशित कृतियाँ:- कहानी:- 1. छायातप -1947 (साहित्य भवन लिमिटेड, प्रयाग से प्रकाशित) उपन्यास:- 1. तन्तुजाल''' -1974 (साहित्य भवन लिमिटेड, प्रयाग) 2. अर्थहीन -1962 (नेशनल पब्लिशिंग हाउस, नयी दिल्ली) 3. वह अलग व्यक्ति -1990 (नेशनल पब्लिशिंग हाउस, नयी दिल्ली) 4. यह जो अनिवार्य - 1996(नेशनल पब्लिशिंग हाउस, नयी दिल्ली) यात्रा-वृत्तान्त:- 1.हरी घाटी - 1961(भारतीय ज्ञानपीठ, काशी) जीवनी:- 1)मानव पुत्र ईसा : जीवन और दर्शन (लोकभारती प्रकाशन, इलाहाबाद) आलोचना:- 1. प्रकृति और काव्य (हिन्दी खण्ड)-194... टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन Reverted

20 अक्टूबर 2020

  • दलित साहित्य 17:26 +412401:4900:3824:5746:cb35:bba2:6d3e:5dab चर्चा→‎प्रमुख हिंदी दलित साहित्यकार: डॉ. राजू कुमार, सहायक प्राध्यापक एवं अध्यक्ष हिन्दी विभाग श्री अग्रसेन महाविद्यालय डालखोला अधीनस्थ गौड़बंग विश्वविद्यालय मालदा पं.बं. में कार्यरत हैं। संग बंगाल के दलित युवा कवि भी हैं। "महादेवी वर्मा के गद्य - साहित्य का आलोचनात्मक अध्ययन" विषय पर इनका शोध कार्य है। इनकी प्रथम पुस्तक "महादेवी वर्मा के रेखाचित्रों में समाज" आलोचना 2012में प्रकाशित हो चुकी है। जिसमें इन्होंने दलित, पिछड़े, विधवा स्त्री, विकलांग आदि के समाजिक अवस्था - स्थिति को सजीवता के साथ प्... टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन