"जयदेव" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
24 बैट्स् जोड़े गए ,  11 वर्ष पहले
छो
{{आधार}} जोड़ा गया
(122.162.215.238 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 656278 को पूर्ववत करें)
छो ({{आधार}} जोड़ा गया)
[[Image:Radha and Krishna in Discussion.jpg|thumb|300px|right|बसोहली चित्र (c 1730) गीत गोविन्द]] '''जयदेव''' (१२०० ईस्वी के आसपास) [[संस्कृत]] के महाकवि हैं जिन्होंने [[गीत गोविन्द]] और [[रतिमंजरी]] रचित किए थे। जयदेव, लक्ष्मण सेन शासक के दरबारी कवि थे । जयदेव एक वैष्णव भक्त और संत के रूप में सम्मानित थे। उनकी कृति ‘गीत गोविन्द’ को [[श्रीमद्‌भागवत]] के बाद राधाकृष्ण की लीला की अनुपम साहित्य-अभिव्यक्ति माना गया है। [[संस्कृत]] कवियों की परंपरा में भी वह अंतिम कवि थे, जिन्होंने ‘गीत गोविन्द’ के रूप में संस्कृत भाषा के मधुरतम गीतों की रचना की। कहा गया है कि जयदेव ने दिव्य रस के स्वरूप राधाकृष्ण की रमणलीला का स्तवन कर आत्मशांति की सिद्धि की। [[भक्ति विजय]] के रचयिता संत महीपति ने जयदेव को श्रीमद्‌भागवतकार [[वेद व्यास|व्यास]] का अवतार माना है।
 
==परिचय एवं प्रशंसा==
 
{{भक्ति काल के कवि }}
[[श्रेणी:भक्तिकाल के कवि]]
 
[[श्रेणी:कृष्णाश्रयी शाखा के कवि]]
 
 
*[http://orissagov.nic.in/e-magazine/Orissareview/April2006/engpdf/sanskrit_scholars_of_orissa.pdf Sanskrit Scholars of Orissa] (pdf)
*[http://orissagov.nic.in/e-magazine/Orissareview/jan2004/englishpdf/chapter4.pdf Historical Perspective of Saint Poet Sri Jayadev] (pdf)
*[http://www.carnatica.net/composer/jayadeva.htm Galaxy of Composers: Jayadeva]
*[http://www.odia.org www.odia.org] Download the complete Geeta Govind (Geeta Gobinda in Oriya / Odia) from here.
 
[[श्रेणी:भक्तिकाल के कवि]]
[[श्रेणी:कृष्णाश्रयी शाखा के कवि]]
 
[[bn:জয়দেব]]
[[ru:Джаядева]]
[[sv:Jayadeva]]
 
{{आधार}}
1,94,421

सम्पादन

दिक्चालन सूची