"हृदय रोग": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
21 बाइट्स हटाए गए ,  1 वर्ष पहले
Saralta
(Saralta)
टैग: Reverted यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
MeshID = D006331 |
}}
[[हृदय]] [[शरीर]] का एक महत्त्वपूर्णजरूरी अंग है। मानवों में यह छाती के मध्य में, थोड़ी सी बाईं ओर स्थित होता है और एक दिन में लगभग एक लाख बार एवं एक मिनट में 60-90 बार धड़कता है। यह हर धड़कन के साथ शरीर में रक्त को धकेलता रहता है। हृदय को पोषण एवं ऑक्सीजन, रक्त के द्वारा मिलता है जो कोरोनरी धमनियों द्वारा प्रदान किया जाता है। यह अंग दो भागों में विभाजित होता है, दायां एवं बायां। [https://e-gyan2020.blogspot.com/2020/05/heart-structure-and-function.html हृदय] के दाहिने एवं बाएं, प्रत्येक ओर दो चैम्बर (एट्रिअम एवं वेंट्रिकल नाम के) होते हैं। कुल मिलाकर हृदय में चार चैम्बर होते हैं। दाहिना भाग शरीर से दूषित रक्त प्राप्त करता है एवं उसे फेफडों में पम्प करता है और रक्त फेफडों में शोधित होकर [https://e-gyan2020.blogspot.com/2020/05/heart-structure-and-function.html हृदय] के बाएं भाग में वापस लौटता है जहां से वह शरीर में वापस पम्प कर दिया जाता है। चार वॉल्व, दो बाईं ओर (मिट्रल एवं एओर्टिक) एवं दो हृदय की दाईं ओर (पल्मोनरी एवं ट्राइक्यूस्पिड) रक्त के बहाव को निर्देशित करने के लिए एक-दिशा के द्वार की तरह कार्य करते हैं।
 
आज भी दिल के दौरे को लेकर कुछ अन्धविश्वास है जिसे आपको जानना जरूरी है जैसे कि
गुमनाम सदस्य

नेविगेशन मेन्यू