"पृथ्वी का वायुमण्डल" के अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
61 बैट्स् नीकाले गए ,  11 माह पहले
छो
Sahab ram khand (वार्ता) के 1 संपादन वापस करके 223.180.182.246के अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल)
छो (Sahab ram khand (वार्ता) के 1 संपादन वापस करके 223.180.182.246के अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
[[सूर्य]] की [[विद्युतचुंबकीय विकिरण|लघुतरंग विकिरण ऊर्जा]] से पृथ्वी गरम होती है। पृथ्वी से [[विद्युतचुंबकीय विकिरण|दीर्घतरंग भौमिक ऊर्जा]] का [[विकिरण]] वायुमंडल में अवशोषित होता है। इससे वायुमंडल का ताप - 68 डिग्री सेल्सियस से 55 डिग्री सेल्सियस के बीच ही रहता है। 100 किमी के ऊपर [[पराबैंगनी]] प्रकाश से [[ऑक्सीजन|आक्सीजन]] अणु आयनों में परिणत हो जाते हैं और परमाणु इलेक्ट्रॉनों में। इसी से इस मंडल को आयनमंडल कहते हैं। रात्रि में ये आयन या इलेक्ट्रॉन फिर परस्पर मिलकर अणु या परमाणु में परिणत हो जाते हैं, जिससे रात्रि के प्रकाश के वर्णपट में हरी और लाल रेखाएँ दिखाई पड़ती हैं।<ref name=":0" />
 
== [https://www.rajgk.in/2021/05/vayu-mandal-ka-sangathan.html वायुमंडल संगठन] ==
[[Image:Atmosphere gas proportions.svg|right|thumb|250px|पृथ्वी के वातावरण के इकाई आयतन में गैसों की मात्रा]]
 
4,666

सम्पादन

दिक्चालन सूची