"अभिकेन्द्रीय बल": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
231 बाइट्स हटाए गए ,  1 वर्ष पहले
हिंदुस्थान वासी के अवतरण 4258529पर वापस ले जाया गया : Best version (ट्विंकल)
No edit summary
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
(हिंदुस्थान वासी के अवतरण 4258529पर वापस ले जाया गया : Best version (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
{{आधार}} जब कोई वस्तु किसी वृत्ताकार मार्ग पर चलती है, तो उस पर कोई बल एक वृत्त के केंद्र पर कार्य करता है, इस बल को अभिकेंद्रीय बल कहते हैं।
इस बल के अभाव में वस्तु वृत्ताकार मार्ग पर नहीं चल सकती है।
यदि कोई m द्रव्यमान का पिंड v से r त्रिज्या के वृत्तीय मार्ग पर चल रहा है तो उस पर कार्यकारी वृत्त के केंद्र की ओर आवश्यक अभिकेंद्रीय बल f=mv2/r होता है।।
[[श्रेणी:घूर्णन]]
[[श्रेणी:चित्र जोड़ें]]
इलेक्टोन नाभिक के चारो ओर अभिके्न्दीय बल के कारण चक्कर लगाते है !
अभिकेंद्रित त्वरण में परिवर्तन का सूत्र =2aSinकोण/2
अभिकेंद्रित बल में परिवर्तन=2Fsinकोण/2push

नेविगेशन मेन्यू