"रायसेन ज़िला" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
696 बैट्स् जोड़े गए ,  3 माह पहले
(अवाश्यक सफाई और सुधार)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
 
{{main|भीमबेटका}}
'''भीमबेटका''' (भीमबैठका) [[भारत]] के [[मध्य प्रदेश]] प्रान्त के [[रायसेन जिला|रायसेन जिले]] में स्थित एक पुरापाषाणिक आवासीय पुरास्थल है। यह आदि-मानव द्वारा बनाये गए शैल चित्रों और शैलाश्रयों के लिए प्रसिद्ध है। ये शैलचित्र लगभग नौ हजार वर्ष पुराने हैं। अन्य पुरावशेषों में प्राचीन किले की दीवार, लघुस्तूप, पाषाण निर्मित भवन, [[शुंग राजवंश|शुंग]]-[[गुप्त राजवंश|गुप्त कालीन]] अभिलेख, शंख अभिलेख और [[परमार राजवंश|परमार कालीन]] मंदिर के अवशेष भी यहां मिले हैं। भीम बेटका क्षेत्र को [[भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण]], [[भोपाल|भोपाल मंडल]] ने [[अगस्त]] [[१९९०]] में राष्ट्रीय महत्त्व का स्थल घोषित किया। इसके बाद [[जुलाई]] [[२००३]] में [[यूनेस्को]] ने इसे [[विश्व धरोहर स्थल]] घोषित किया है। ये भारत में मानव जीवन के प्राचीनतम चिह्न हैं। ऐसा माना जाता है कि यह स्थान [[महाभारत]] के चरित्र [[भीम]] से संबन्धित है एवं इसी से इसका नाम ''भीमबैठका'' पड़ा। ये गुफाएँ मध्य भारत के [[पठार]] के दक्षिणी किनारे पर स्थित [[विन्ध्याचल]] की पहाड़ियों के निचले छोर पर हैं।<ref name="इन्क्रेडिबल">{{cite web|first=|last=|author=|authorlink=|coauthors=|title=भीमबेटका की गुफाएँ|url=http://www.incredibleindia.org/hindi/heritage/bhimbetka.htm|archiveurl=https://web.archive.org/web/20100613003926/http://incredibleindia.org/hindi/heritage/bhimbetka.htm|work=|publisher=इन्क्रेडिबल इण्डिया|location=|trans_title=|page=|pages=०१|language=हिन्दी|format=एचटीएम|doi=|date=|month=|year=|archivedate=13 जून 2010|quote=|accessdate=१८ जुलाई २००९|url-status=dead}}</ref>; इसके दक्षिण में [[सतपुड़ा]] की पहाड़ियाँ आरम्भ हो जाती हैं।<ref name="भारत">{{cite web|first= |last= |author= |authorlink= |coauthors= |title= भीमबेटका की पहाड़ी गुफाएं|url= http://bharat.gov.in/knowindia/bhimbetka.php|archiveurl= https://web.archive.org/web/20090513191854/http://bharat.gov.in/knowindia/bhimbetka.php|work= राष्ट्रीय पोर्टल विषयवस्तु प्रबंधन दल|publisher= भारत सरकार|location= |trans_title= |page= |pages= ०१|language= हिन्दी|format= पीएचपी|doi= |date= |month= |year= |archivedate= 13 मई 2009|quote= |accessdate= १८ जुलाई २००९|url-status= live}}</ref> इनकी खोज वर्ष [[१९५७]]-[[१९५८]] में डाक्टर [[विष्णु श्रीधर वाकणकर]] द्वारा की गई थी।
===बगलवाडा===
रायसेन जिले की बरेली तहसील के १० कि.मी. दक्षिण में बगलवाडा स्थित है। यहां नर्मदा नदी के तट पर कई प्राचीन मंदिर है। जिनमें हनुमान मंदिर , रामजानकी मंदिर , मां नर्मदा मंदिर प्रमुख है। यहां पर पांडवों ने यज्ञ किया था उस स्थान को कुंडा महाराज नाम से जाना जाता है।
 
===जामगढ===
बेनामी उपयोगकर्ता

दिक्चालन सूची