"भाई गुरदास" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
618 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
Sarjitchavhan (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
छो (संदर्भ से)
छो (Sarjitchavhan (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
 
'''भाई गुरदास''' (1551 – 25 अगस्त 1636) पंजाबी लेखक, इतिहासकार, उपदेशक तथा धार्मिक नेता थे। [[गुरु ग्रन्थ साहिब]] का मूल लेखन उन्होने ही किया था। वे चार गुरुओं के साथी भी रहे।
==परिचय==
भाई गुरदास जी का जन्म [[पंजाब क्षेत्र|पंजाब]] के एक छोटे से गाँव/तांडा गोइन्दवाल नायक कुटुंब में हुया। उनके पिता जी भाई ईशर दास और माता जीवनी जी थे। वह [[गुरु अमर दास|गुरू अमर दास]] जी के भतीजे थे।वह लेखक, इतिहासकार और प्रचारक थे। उन्होंने सबसे पहले १६०४ में आदि ग्रंथ अपने हाथों लिखा। वह [[पंजाबी]], [[संस्कृत भाषा|संस्कृत]], [[बृज भाषा|ब्रजभाषा]] (बणजारी) और [[फ़ारसी भाषा|फ़ारसी]] के प्रसिद्ध विद्वान थे। उन्होंने पंजाबी, ब्रजभाषा और संस्कृत में काव्य रचना की। पंजाबी में वह 'वारां भाई गुरदास' के लिये जाने जाते हैं। ब्रजभाषा (बणजारी) में उनके [[कबित्त]] और [[सवैया|सवैये]] उच्चकोटि की रचना हैं। [[गुरु अर्जुन देव|गुरू अर्जुन देव]] जी ने उन की रचना को 'गुरबानी की कुंजी' कहकर सम्मान किया। <ref>{{Cite web |url=http://www.punjabi-kavita.com/HindiBhaiGurdasJi.php |title=पंजाबी कविता |access-date=12 जुलाई 2015 |archive-url=https://web.archive.org/web/20150713165132/http://www.punjabi-kavita.com/HindiBhaiGurdasJi.php |archive-date=13 जुलाई 2015 |url-status=dead }}</ref>
 
 
भाई गुरदास जी भाई मनिराम नायक ऊर्फ भाई मनिसिंग जी के उत्तराधिकारी थे . और भाई मनिसिंग जी लाखा बणजारा जी के जमाई थे.
 
 
भाई गुरदास जी गुरु अमरदास जी के भतिजे थे और वुन्होने चार गुरु के साथ अपना समय गुजारा था.
 
==सन्दर्भ==

दिक्चालन सूची