"बराबर गुफाएँ" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  7 माह पहले
वर्तनी/व्याकरण सुधार
(Rescuing 18 sources and tagging 1 as dead.) #IABot (v2.0.1)
(वर्तनी/व्याकरण सुधार)
टैग: 2017 स्रोत संपादन
'''बराबर गुफाएं''' भारत के [[बिहार]] राज्य के जहानाबाद जिले में [[गया]] से 24 किलोमीटर की दूरी पर स्थित गुफाएँ हैं और चट्टानों को काटकर बनायी गयी सबसे पुरानी गुफाएं हैं।<ref name="flo"/> इनमें से अधिकांश गुफाओं का संबंध [[मौर्य राजवंश|मौर्य काल]] (322-185 ईसा पूर्व) से है और कुछ में [[अशोक के अभिलेख|अशोक के शिलालेखों]] को देखा जा सकता है।
 
ये गुफाएं बराबर (चार गुफाएं) और नागार्जुनी (तीन गुफाएं) की जुड़वांजुड़वाँ पहाड़ियों में स्थित हैं। बराबर में ज्यादातर गुफाएं दो कक्षों की बनी हैं जिन्हें पूरी तरह से [[ग्रेनाइट|ग्रेनाईट]] को तराशकर बनाया गया है जिनमें एक उच्च-स्तरीय पॉलिश युक्त आतंरिक सतह और गूंज का रोमांचक प्रभाव मौजूद है। पहला कक्ष उपासकों के लिए एक बड़े आयताकार हॉल में एकत्र होने के इरादे से बनाया गया था और दूसरा एक छोटा, गोलाकार, गुम्बदयुक्त कक्ष पूजा के लिए था, इस अंदरूनी कक्ष की संरचना कुछ स्थानों पर संभवतः एक छोटे [[स्तूप]] की तरह थी, हालांकिहालाँकि ये अब खाली हैं। चट्टानों को काटकर बनाए गए ये कक्ष [[अशोक]] (आर. 273 ईसा पूर्व से 232 ईसा पूर्व) और उनके पुत्र [[दशरथ मौर्य|दशरथ]] के मौर्य काल<ref name="brit">[http://www.collectbritain.co.uk/personalisation/object.cfm?uid=019PHO0000125S1U00056000 स्कल्पचर्ड डोरवे, लोमस ऋषि केव, बराबर, गया] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20090408210434/http://www.collectbritain.co.uk/personalisation/object.cfm?uid=019PHO0000125S1U00056000 |date=8 अप्रैल 2009 }} ''[[ब्रिटिश पुस्तकालय|ब्रिटिश लाइब्रेरी]]'' .</ref>, तीसरी सदी ईसा पूर्व से संबंधित हैं। यद्यपि अशोक स्वयं बौद्ध थे लेकिन एक धार्मिक सहिष्णुता की नीति के तहत उन्होंने<ref name="flo">[http://www.flonnet.com/stories/20080912251806500.htm कल्चर ऑफ पीस]{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }} ''फ्रंटलाइन'', वॉल्यूम 25 - अंक 18 :: 30 अगस्त - 12 सितम्बर [[२००८|2008]].</ref> विभिन्न [[जैन धर्म|जैन]] संप्रदायों की पनपने का अवसर दिया| इन गुफाओं का उपयोग [[आजीविक|आजीविका संप्रदाय]]<ref name="ent">[http://www.collectbritain.co.uk/personalisation/object.cfm?uid=019PHO000001003U0045A000 एंट्रेंस टू वन ऑफ दी बराबर हिल केव्स] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20120214225416/http://www.collectbritain.co.uk/personalisation/object.cfm?uid=019PHO000001003U0045A000 |date=14 फ़रवरी 2012 }} ''[[ब्रिटिश पुस्तकालय|ब्रिटिश लाइब्रेरी]]'' .</ref> के संन्यासियों द्वारा किया गया था जिनकी स्थापना [[मक्खलि गोसाल]] द्वारा की गयी थी, वे बौद्ध धर्म के संस्थापक सिद्धार्थ गौतम और [[जैन धर्म]] के अंतिम एवं 24वें तीर्थंकर [[महावीर]] के समकालीन थे।<ref>[http://www.buddhanet.net/e-learning/pilgrim/pg_01.htm बराबर हिल्स: व्हेयर दी बुद्धिस्ट एम्पेरियर अशोक बिल्ट केव्स फॉर दी अजिवाक्स] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20020602190011/http://www.buddhanet.net/e-learning/pilgrim/pg_01.htm |date=2 जून 2002 }} www.buddhanet.net.</ref> इसके अलावा इस स्थान पर चट्टानों से निर्मित कई बौद्ध और [[सनातन धर्म|हिंदू]] मूर्तियांमूर्तियाँ भी पायी गयी हैं।<ref>[http://www.collectbritain.co.uk/personalisation/object.cfm?uid=019PHO000001003U00046000 रॉक स्कल्प्चर्स एट बराबर] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20120214225522/http://www.collectbritain.co.uk/personalisation/object.cfm?uid=019PHO000001003U00046000 |date=14 फ़रवरी 2012 }} ''[[ब्रिटिश पुस्तकालय|ब्रिटिश लाइब्रेरी]]'' .</ref>
 
== बराबर पहाड़ी की गुफाएं ==
बराबर पहाड़ी में चार गुफाएं शामिल हैं - कर्ण चौपङ, लोमस ऋषि, सुदामा गुफा और विश्व झोपड़ी . ''सुदामा'' और ''लोमस ऋषि गुफाएं'' भारत में चट्टानों को काटकर बनायी जाने वाली गुफाओं की वास्तुकला के सबसे आरंभिक उदाहरण हैं<ref name="brit"/><ref>[http://www.indian-architecture.info/ आर्किटेक्च्रल हिस्ट्री] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20080914144426/http://www.indian-architecture.info/ |date=14 सितंबर 2008 }} www.indian-architecture.info.</ref> जिनमें मौर्य काल में निर्मित वास्तुकला संबंधी विवरण मौजूद हैं और बाद की सदियों में<ref>[http://yac.bih.nic.in/Da-01.htm एन ऑवरव्यू ऑफ आर्कियोलॉजीक्ल इम्पोर्टेंस ऑफ बिहार] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20160303181914/http://yac.bih.nic.in/Da-01.htm |date=3 मार्च 2016 }} [[पुरातत्वशास्त्र|पुरातत्व]] निदेशालय बिहार सरकार.</ref> यह [[महाराष्ट्र]] में पाए जाने वाले विशाल बौद्ध [[चैत्य]] की तरह एक चलन बन गया है, जैसा कि अजंता और कार्ला गुफाओं में है और इसने चट्टानों को काटकर बनायी गयी दक्षिण एशियाई वास्तुकला की परंपराओं को काफी हद तक प्रभावित किया है।<ref name="ent"/>
 
* '''लोमस ऋषि गुफा''' : मेहराब की तरह के आकार वाली ऋषि गुफाएं लकड़ी की समकालीन वास्तुकला की नक़ल के रूप में हैं। द्वार के मार्ग पर हाथियों की एक पंक्ति [[स्तूप]] के स्वरूपों की ओर घुमावदार दरवाजे के ढांचोंढाँचों के साथ आगे बढ़ती है।<ref>[http://www.collectbritain.co.uk/personalisation/object.cfm?uid=019WDZ000001767U00000000 पार्ट्स ऑफ दी एलिफेंट फ्रीज़ ऑवर दी डूर्वे एट दी बराबर केव्स.] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20120214225709/http://www.collectbritain.co.uk/personalisation/object.cfm?uid=019WDZ000001767U00000000 |date=14 फ़रवरी 2012 }}[http://www.collectbritain.co.uk/personalisation/object.cfm?uid=019WDZ000001767U00000000 1790] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20120214225709/http://www.collectbritain.co.uk/personalisation/object.cfm?uid=019WDZ000001767U00000000 |date=14 फ़रवरी 2012 }} ''[[ब्रिटिश पुस्तकालय|ब्रिटिश लाइब्रेरी]]'' .</ref>
 
* '''सुदामा गुफा''' : यह गुफा 261 ईसा पूर्व में मौर्य सम्राट [[अशोक]] द्वारा समर्पित की गयी थी और इसमें एक आयताकार मण्डप के साथ वृत्तीय मेहराबदार कक्ष बना हुआ है।<ref>[http://www.collectbritain.co.uk/personalisation/object.cfm?uid=019PHO0000125S1U00055000 सुदामा एंड लोमस ऋषि केव्स एट बराबर हिल्स, गया] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20090408210429/http://www.collectbritain.co.uk/personalisation/object.cfm?uid=019PHO0000125S1U00055000 |date=8 अप्रैल 2009 }} ''[[ब्रिटिश पुस्तकालय|ब्रिटिश लाइब्रेरी]]'' .</ref>
* '''करण चौपर''' (कर्ण चौपङ)<ref>[http://www.collectbritain.co.uk/personalisation/object.cfm?uid=019PHO0000125S1U00099000 कर्ण कॉपर केव, बराबर हिल्स.] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20090408210444/http://www.collectbritain.co.uk/personalisation/object.cfm?uid=019PHO0000125S1U00099000 |date=8 अप्रैल 2009 }} ''[[ब्रिटिश पुस्तकालय|ब्रिटिश लाइब्रेरी]]'' .</ref>: यह पॉलिश युक्त सतहों के साथ एक एकल आयताकार कमरे के रूप में बना हुआ है जिसमें ऐसे शिलालेख मौजूद हैं जो 245 ई.पू. के हो सकते हैं।
 
* '''विश्व झोपड़ी ''' : इसमें दो आयताकार कमरे मौजूद हैं जहांजहाँ चट्टानों में काटकर बनाई गई ''अशोका सीढियों'' द्वारा पहुंचा जा सकता है।
 
 
== इन्हें भी देखें ==
1.पशुओं और अलंकरणों का चित्रण
लोमश ॠषि गुफा के घरमुख पर उत्तकिर्ण उन अलंकरणों में सबसे उपर की पट्टिका जालीनुमा (मेहराब) प्रतीत होती है किन्तु जो छिद्र बने हैं वह आर-पर नहीं बल्कि अल्प उत्तकिर्ण हैं। उपर से दुसरे पट्टिका में हाथियों का अंकन है जो दोनों तरफ से केन्द्र की तरफ जाते दिखते हैं। मौर्य कालिन स्थापत्य तथा मूर्ति कला में हाथियों का प्रचुर अंकन देखा जा सकता है। हाथियों का अंकन भगवान बुद्ध के जन्म से काफी निकटता रखता है, जिसे जातक कथाओं में देखा जा सकता है। हाथी स्तूप को दोनों तरफ से केन्द्र की ओर ले जाते अंकित किए गए हैं। यह अंकन बौद्ध धर्म को प्रशारित करने के लिए किए गए प्रयासों को बखूबी दर्शाता है। इस पंक्ति के अंत में निचे दोनों तरफ एक-एक अलग आकृति का अंकन है, जो मगरमच्छ के जैसा दिखाया गया है हालांकिहालाँकि कई किताबों में इसका जिक्र आया है और मैने खुद जाकर देखा पर कुछ भी स्पष्ट नहीं लगा है। यहाँ यह अंकन मुझे एक सवालिया निशान की तरह लगता है। कई अलग कला शैलीयों में मगरमच्छ का अंकन है पर मौर्य कालिन कला में और कहीं भी मगरमच्छ का अंकन नहीं मिलता है, यहाँ इस आकृति का होना मेरे लिए शोध का विषय है।
पटना के निकटवर्ती क्षेत्रों में कुछ पाल कालिन मूर्तियांमूर्तियाँ प्राप्त हुई है जिसमें मगरमच्छ का अंकन है,यह पौराणिक कथाओं से संबंधित है।
2.एक अन्य वास्तु से संबंध
लोमश ऋषि गुफा के बारे में अध्ययन करते समय एक शब्द टोडा का आना एक नए रास्ते की तरह था जो मुझे एक नए आयाम से जोड़ने का काम करती है। टोडा एक दक्षिण भारतीय कबिलाई जनजाति है जो निलगीरी के पहाड़ीयों में निवास करते हैं। यहाँ टोडाओं के आवासीय परिसर का संबंध जोड़ने का प्रयास किया गया है, हालांकिहालाँकि इनके बाड़े में जानकारी नहीं दिया गया है । इनके झोपड़ी की बनावट बराबर की गुफाओं से और आजिवकों के जिवन शैली से टोडास काफी सामान्यता रखती है।
टोडा झोपड़ी के घरमुख और आंतरिक बनावट एक जैसी नजर आती है किन्तु इनके अवयव और बनाने का तरिका पूर्णतः भिन्न है। जिस तरह इन झोपड़ों का द्वार चौकोर,छोटा तथा गुम्बदाकार अलंकृत है वैसे हीं लोमश ॠषि गुफा द्वार भी है। इन झोपड़ों के आंतरिक भाग में एक चबुतरा बना होता था जो करण चौपड़ गुफा के जैसा हीं है, जिसका उपयोग बिस्तर के तौर पर किया जाता था। झोपड़ों के बाहर कुछ फासले पर एक रक्षा प्राचीर बना होता था जो उसी पहाड़ी से प्राप्त पत्थरों से बनाया जाता था।
टोडा जनजाति आजिवकों के तरह हीं पूर्णतः प्राकृतिक पर निर्भर थे और कठिन नियमों का पालन करते थे। यही कारण है कि समय के साथ इनकी संख्या घटती चली गई। 1960 के दशक में इनकी संख्या लगभग 800 हीं रह गई थी। इनका निवास भी सर्वदा पहाड़ीयों पर हीं देखा गया है।

दिक्चालन सूची