"ज्वालामुखी विस्फोटों के प्रकार": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
छो
2401:4900:51C7:B36B:E9DF:A708:E3C5:AE1B (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
No edit summary
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (2401:4900:51C7:B36B:E9DF:A708:E3C5:AE1B (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
 
=== ज्वालामुखी विस्फोट सूचकांक(Volcanic Explosivity Index) ===
विस्फोटक की ताकत को मापने के लिए ज्वालामुखीय विस्फोट [[G|सूचकांक (आमतौर पर वीईआई VEI) 0 से 8 तक स्केल होता है। इसका उपयोग ऐतिहासिक और प्रागैतिहासिक लावा प्रवाह के प्रभाव का आकलन करने में स्मिथसोनियन इंस्टीट्यूशन के ग्लोबल ज्वालामुखी कार्यक्रम द्वारा किया जाता है। यह भूकंप के लिए रिचटर स्केल के समान तरीके से संचालित होता है, जिसमें मूल्य में प्रत्येक अंतराल परिमाण में दस गुना बढ़ता है (यह लॉगरिदमिक है)। ज्वालामुखीय विस्फोटों का विशाल बहुमत 0 और 2 के बीच वीईआई का है। ज्वालामुूखी कभी कभी तो जब अपने मुख्य मार्ग पर कोई अवरोध आ जाता है तो वह कोई अन्य मार्ग अपना लेता है ज्वालामुखी विस्फोट इतना तेज गति से होता है कि आस पास मे जान-माल की बहुत हानि होती है।]]
 
====== [[G|मैग्माकृत  विस्फोट-Magmatic eruptions]] ======
[[G|मैग्मैटिक विस्फोट गैस रिलीज से विस्फोटक डिकंप्रेशन के दौरान किशोर समूहों(Clasts)  का उत्पादन करते हैं। वे अपेक्षाकृत छोटे लावा (हवाई फव्वारे)  से लेकर 30 किमी]] (19 मील) ऊंचे से अधिक अल्ट्रा-प्लिनियन विस्फोट,  जो कि पोम्पेई को दफनाने वाले 79 में माउंट वेसुवियस के विस्फोट से बड़ा है, के बीच  के आकार के हो सकते हैं.  
 
'''हवाईयन विस्फोट''' ज्वालामुखीय विस्फोट का एक प्रकार है, जिसका नाम हवाई ज्वालामुखी के नाम पर रखा गया है जिसके साथ यह विस्फोटक नाम एक  प्रकार हॉलमार्क है। हवाईयन विस्फोट ज्वालामुखीय घटनाओं के सबसे शांत प्रकार हैं, जो कम गैसीय सामग्री वाले बहुत तरल बेसाल्ट-प्रकार वाले लावा,  के प्रभावशाली विस्फोट से विशेषित है। हवाईयन विस्फोट से निकली  सामग्री की मात्रा अन्य ज्वालामुखी प्रकारों में निकली मात्रा से आधे से कम है। लावा की स्थिर मात्रा का उत्पादन व्यापक ढाल वाले व बड़े ज्वालामुखी पर्वत का निर्माण करता है। विस्फोटक  मुख्य शिखर स्थान पर केंद्रित नहीं रहते, जैसा कि  अन्य ज्वालामुखीय प्रकारों के साथ होते हैं, और अक्सर शिखर (summit)  के आस पास और केंद्र से बाहर निकलने वाले फिशर वेंट्स (fissure vents) से होते हैं। [4]

नेविगेशन मेन्यू