"गवरी" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
107 बैट्स् नीकाले गए ,  4 माह पहले
छो
2409:4052:2398:9C1A:0:0:1B26:38B1 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव को संजीव कुमार के बदलाव से पूर्ववत किया: बर्बरता हटाई।
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (2409:4052:2398:9C1A:0:0:1B26:38B1 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव को संजीव कुमार के बदलाव से पूर्ववत किया: बर्बरता हटाई।)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना SWViewer [1.4]
[[मेवाड़]] क्षेत्र में किया जाने वाला यह नृत्य [[भील]] जनजाति का प्रसिद्ध नृत्य है। इस नृत्य को [[श्रावण|सावन]]<nowiki/>-[[भाद्रपद|भादो]] माह में किया जाता है। इस में मांदल और थाली के प्रयोग के कारण इसे ' [[राई नृत्य|राई]] नृत्य' के नाम से जाना जाता है। इसे केवल पुरुषों के दुवारा किया जाता है।
वादन संवाद, प्रस्तुतिकरण और लोक-संस्कृति के प्रतीकों में [[मेवाड़]] की [[गवरी]] निराली है। गवरी का उदभव शिव-भस्मासुर की कथा से माना जाता है। इसका आयोजन रक्षाबंधन के दुसरे दिन से शुरू होता है। गवरी सवा महीने तक खेली जाती है। इसमें भील संस्कृति की प्रमुखता रहती है। यह पर्व आदिवासी जाती पर पौराणिक तथा सामाजिक प्रभाव की अभिव्यक्ति है। गवरी में मात्र पुरुष पात्र होते हैं। इसके खेलों में गणपति काना-गुजरी, जोगी, लाखा बणजारा इत्यादि के खेल होते हैैं।
इसमें शिव को "पुरिया" कहा जाता है। इसे लोकनाट्य का मेरु नाट्य भी कहा जाता है
 
{{आधार}}
107

सम्पादन

दिक्चालन सूची