"हीरामन" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
45 बैट्स् नीकाले गए ,  8 माह पहले
छो
2401:4900:41B4:EBA6:2034:7566:A116:94E8 (Talk) के संपादनों को हटाकर DAYARAM MEENA GOMLADU के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (2401:4900:41B4:EBA6:2034:7566:A116:94E8 (Talk) के संपादनों को हटाकर DAYARAM MEENA GOMLADU के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
[[श्रेणी:लोककथा]]
 
पशुओं एवं दुधारों जानवरों के रूप में प्रसिद्ध हीरामन बाबा को लोक-देवता के रूप मे पूजा जाता है । हर छोटे मोटे त्योहार पर बाबा को भोग लगाया जाता है। गाँव में जानवरों के दूध एवं घी से बाबा को ही सबसे पहले पूजा जाता है क्योंकि पशुओं के देवताओं के रूप मे हीरामन बाबा को विशेष स्थान प्राप्त है। हीरामन बाबा की कृपा से पशु दुध अच्छा देते है और सभी रोगों से मुक्त रहते है। जानवरों के खुशहाल एवं अच्छे दुधारों रहने के लिए गाँव के लोग बाबा हीरामन से कहीं रखते है और मनौतियाँ पूरी होने पर बाबा को पूजा जाता है और घी चढ़ाया जाता है। विशेषकर गाय एवं भैंसे बाबा की कृपा से अच्छी तरह से दूध देती है और धीना की घर में बरकत बनी रहती है।जय हो हीरामन बाबाहै।

दिक्चालन सूची