"पुस्तक" के अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  1 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
(47.29.67.210 (वार्ता) के अवतरण 4706939पर वापस ले जाया गया (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
No edit summary
डेहरी : आदिवासी चेतना की कविताएं, '''पुस्तक''' या '''किताब''' लिखित या मुद्रित पन्नो के संग्रह को कहते हैं। डिजिटल पुस्तकों को [[ई-पुस्तक]] (ई-बुक) कहते हैं जबकि हस्तलिखित पुस्तकोँपुस्तकों को [[पाण्डुलिपि|पांडुलिपियां]] कहते हैँ।हैं। एक स्थूल पदार्थ के रूप में पुस्तक सामान्यतः आयताकार पृष्ठों का एक पुलिंदा है जिसे कागज़, पेपिरस, चर्मपत्र या भोजपत्र से निर्मित किया जाता है और जिसे एक ओर से बाँधकरबांधकर (दायीं या बायीं ओर से) या सीं कर या फिर किसी अन्य माध्यम से एक साथ इस प्रकार से दृढ कर दिया जाता है कि उसे सरलता से पढ़ा जा सके।
 
आज पुस्तकें सिर्फ स्थूल रूप में ही उपलब्ध नहीं हैं, बल्कि संचार क्रांति के फलस्वरूप वह ई-पुस्तकों और दूसरे रूपों में भी उपलब्ध हैं। जिस स्थान पर बहुत सी पुस्तकों को व्यवस्थित और क्रमबद्ध ढंग से रखा जाता है, उसे [[पुस्तकालय]] कहते हैं।
248

सम्पादन

दिक्चालन सूची