"जीवनचरित" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
686 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
पौंठी विकास समिति की स्थापना 2017 में दिल्ली में हुआ था यह समाजिक संस्था है ।इस के अध्यक्ष सावन सिंह राणा. उपाध्यक्ष उमेद सिंह राणा ,सचिव .दिलबर सिंह कुंवर .महसचिव .उमेद सिंह कन्डारी
(Rescuing 1 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1)
(पौंठी विकास समिति की स्थापना 2017 में दिल्ली में हुआ था यह समाजिक संस्था है ।इस के अध्यक्ष सावन सिंह राणा. उपाध्यक्ष उमेद सिंह राणा ,सचिव .दिलबर सिंह कुंवर .महसचिव .उमेद सिंह कन्डारी)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
प्रसिद्ध इतिहासज्ञ और जीवनी-लेखक टामस कारलाइल ने अत्यंत सीधी सादी और संक्षिप्त परिभाषा में इसे "एक व्यक्ति का जीवन" कहा है। इस तरह किसी व्यक्ति के जीवन वृत्तांतों को सचेत और कलात्मक ढंग से लिख डालना '''जीवनचरित''' कहा जा सकता है। यद्यपि इतिहास कुछ हद तक, कुछ लोगों की राय में, महापुरुषों का जीवनवृत्त है तथापि जीवनचरित उससे एक अर्थ में भिन्न हो जाता है। जीवनचरित में किसी एक व्यक्ति के यथार्थ जीवन के इतिहास का आलेखन होता है, अनेक व्यक्तियों के जीवन का नहीं। फिर भी जीवनचरित का लेखक इतिहासकार और कलाकार के कर्त्तव्य के कुछ समीप आए बिना नहीं रह सकता। जीवनचरितकार एक ओर तो व्यक्ति के जीवन की घटनाओं की यथार्थता इतिहासकार की भाँति स्थापित करता है; दूसरी ओर वह साहित्यकार की प्रतिभा और रागात्मकता का तथ्यनिरूपण में उपयोग करता है। उसकी यह स्थिति संभवत: उसे उपन्यासकार के निकट भी ला देती है।
{{स्रोत हीन}}
 
प्रसिद्ध इतिहासज्ञ और जीवनी-लेखक टामस कारलाइल ने अत्यंत सीधी सादी और संक्षिप्त परिभाषा में इसे "एक व्यक्ति का जीवन" कहा है। इस तरह किसी व्यक्ति के जीवन वृत्तांतों को सचेत और कलात्मक ढंग से लिख डालना '''जीवनचरित''' कहा जा सकता है। यद्यपि इतिहास कुछ हद तक, कुछ लोगों की राय में, महापुरुषों का जीवनवृत्त है तथापि जीवनचरित उससे एक अर्थ में भिन्न हो जाता है। जीवनचरित में किसी एक व्यक्ति के यथार्थ जीवन के इतिहास का आलेखन होता है, अनेक व्यक्तियों के जीवन का नहीं। फिर भी जीवनचरित का लेखक इतिहासकार और कलाकार के कर्त्तव्य के कुछ समीप आए बिना नहीं रह सकता। जीवनचरितकार एक ओर तो व्यक्ति के जीवन की घटनाओं की यथार्थता इतिहासकार की भाँति स्थापित करता है; दूसरी ओर वह साहित्यकार की प्रतिभा और रागात्मकता का तथ्यनिरूपण में उपयोग करता है। उसकी यह स्थिति संभवत: उसे उपन्यासकार के निकट भी ला देती है।
पौंठी विकास समिति की स्थापना
 
17may2017 को हुआ है समाजिक सस्था है.
 
पौंठी विकास समिति की स्थापना 2017 में दिल्ली में हुआ था यह समाजिक संस्था है ।इस के अध्यक्ष सावन सिंह राणा. उपाध्यक्ष उमेद सिंह राणा ,सचिव .दिलबर सिंह कुंवर .महसचिव .उमेद सिंह कन्डारी
 
जीवनचरित की सीमा का यदि विस्तार किया जाय तो उसके अंतर्गत [[आत्मकथा|(आत्मकथा)]] भी आ जायगी। यद्यपि दोनों के लेखक पारस्परिक रुचि और संबद्ध विषय की भिन्नता के कारण घटनाओं के यथार्थ आलेखन में सत्य का निर्वाह समान रूप से नहीं कर पाते। आत्मकथा के लेखक में सतर्कता के बावजूद वह आलोचनात्मक तर्कना चरित्र विश्लेषण और स्पष्टचारिता नहीं आ पाती जो जीवनचरित के लेखक विशिष्टता होती है। इस भिन्नता के लिये किसी को दोषी नहीं माना जा सकता। ऐसा होना पूर्णत: स्वाभाविक है।
 
== इतिहास ==
बेनामी उपयोगकर्ता

दिक्चालन सूची