"मानवता मंदिर" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
918 बैट्स् जोड़े गए ,  1 माह पहले
Rescuing 5 sources and tagging 4 as dead.) #IABot (v2.0.1
छो (बॉट: date प्रारूप बदला।)
(Rescuing 5 sources and tagging 4 as dead.) #IABot (v2.0.1)
[[चित्र:Manavta Mandir-1.jpg|thumb|right|300px|मानवता मंदिर, होशियारपुर, भारत.]]
'''मानवता मंदिर''' या '''मनुष्य बनो मंदिर''' की स्थापना [[बाबा फकीर चंद]] (१८८६- १९८१) ने [[होशियारपुर]], [[पंजाब (भारत)|पंजाब]], [[भारत]] में वर्ष १९६२ में की थी।<ref>[http://books.google.co.in/books?id=slX3eRycszMC&pg=PA154&lpg=PA154&dq=david+lane+m+r+bhagat&source=bl&ots=YCGfCjI4xC&sig=BIFNBv2u0XwE3op6hEnuKvXDtuk&hl=en&ei=oDfUSur3FtCV8AaP24yLDQ&sa=X&oi=book_result&ct=result&resnum=2&ved=0CA8Q6AEwAQ#v=onepage&q=david%20lane%20m%20r%20bhagat&f=false.|गूगल बुक्स] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20121022074406/http://books.google.co.in/books?id=slX3eRycszMC&pg=PA154&lpg=PA154&dq=david+lane+m+r+bhagat&source=bl&ots=YCGfCjI4xC&sig=BIFNBv2u0XwE3op6hEnuKvXDtuk&hl=en&ei=oDfUSur3FtCV8AaP24yLDQ&sa=X&oi=book_result&ct=result&resnum=2&ved=0CA8Q6AEwAQ#v=onepage&q=david%20lane%20m%20r%20bhagat&f=false.{{!}}गूगल |date=22 अक्तूबर 2012 }} पृ..154</ref> अपने मानवता धर्म के मिशन को फैलाने के लिए फकीर ने सेठ दुर्गा दास की वित्तीय सहायता से मंदिर की स्थापना की जो वर्ष १९८१ में उनके निधन तक उनका कार्यक्षेत्र बना रहा।<ref>{{cite web |url=http://bhagatshaadi.com/megh/Sant%20Satguru%20Vaqt%20Ka%20Vasiyatnama.pdf. |title=संत सत्गुरु वक्त का वसीयतनामा |publisher=भगतशादी.कॉम |accessdate=8 नवंबर 2009 }}{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }} पृ.11,</ref><ref>{{cite book |title=संत सत्गुरु वक्त का वसीयतनामा |author=भगत मुंशीराम
|url=http://bhagatshaadi.com/megh/Sant%20Satguru%20Vaqt%20Ka%20Vasiyatnama.pdf. |title=संत सत्गुरु वक्त का वसीयतनामा |publisher=भगतशादी.कॉम |accessdate=8 नवंबर 2009}} पृ.11,</ref><ref>{{cite book |title=संत सत्गुरु वक्त का वसीयतनामा |author=भगत मुंशीराम
|publisher=कश्यप पब्लीकेशन
|year=2007
|language=
|ISBN=9788190550116}}</ref> इस मंदिर में फकीर के [[गुरु]] [[शिव ब्रत लाल]] की मूर्ति स्थापित है और साथ ही [[संत मत]], [[राधास्वामी मत]] और [[सूफ़ी]] मत के अन्य प्रमुख गुरुओं की तस्वीरें भी लगी हैं। मंदिर के परिसर में फकीर की समाधि उस स्थान पर बनाई गई है जहाँ उनके वसीयतनामे के अनुसार उनकी अस्थियाँ को समाधि दी गई है। इस पर मानवता का झंडा लहराया गया है। यद्यपि फकीर के संत मत (दयाल फकीर मत) में समाधि आदि का कोई स्थान नहीं है, तथापि इस संबंध में की गई उनकी वसीयत का तात्पर्य मानवता की नि:स्वार्थ सेवा से रहा है।<ref>{{cite web
|url=http://bhagatshaadi.com/megh/Sant%20Satguru%20Vaqt%20Ka%20Vasiyatnama.pdf.
|title=संत सत्गुरु वक्त का वसीयतनामा
|publisher=भगतशादी.कॉम
|accessdate=8 नवंबर 2009}} पृ.67, 71 और 72</ref><ref>{{cite book
}}{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }} पृ.67, 71 और 72</ref><ref>{{cite book
|title=संत सत्गुरु वक्त का वसीयतनामा
|author=भगत मुंशीराम
|page=173, 183, 184
|language=
|ISBN=9788190550116}}</ref> फकीर लाइब्रेरी चैरीटेबल ट्रस्ट इस मंदिर का कामकाज देखता है। मंदिर में ही शिव देव राव एस.एस.के. हाई स्कूल चलाया जा रहा है जहाँ विद्यार्थियों से कोई फीस नहीं ली जाती। तथापि उनके माता-पिता को एक वचन-पत्र देना पड़ता है कि वे तीन से अधिक बच्चे पैदा नहीं करेंगे।<ref>{{cite web|url=http://bhagatshaadi.com/megh/Sant%20Satguru%20Vaqt%20Ka%20Vasiyatnama.pdf.|title=संत सत्गुरु वक्त का वसीयतनामा|publisher=भगतशादी.कॉम |accessdate=8 नवंबर 2009}}{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }} पृ.61-62,</ref><ref>{{cite book |title=संत सत्गुरु वक्त का वसीयतनामा |author=भगत मुंशीराम |publisher=कश्यप पब्लिकेशन |year=2007 |page=161 |language= |ISBN=9788190550116}}</ref> इस प्रकार 'मानवता मंदिर' मानवता और [[देश]] के कल्याण के लिए फकीर की इस विचारधारा का प्रचार-प्रसार कर रहा है कि परिवार कल्याण़ कार्यक्रम को [[धर्म]] में ही शामिल किया जाए.<ref>{{cite web |url=http://bhagatshaadi.com/megh/Sant%20Satguru%20Vaqt%20Ka%20Vasiyatnama.pdf. |title=संत सत्गुरु वक्त का वसीयतनामा |publisher=भगतशादी.कॉम |accessdate=२००९-११-२००८ }}{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }} पृ.66</ref><ref>{{cite book|title=संत सत्गुरु वक्त का वसीयतनामा |author=भगत मुंशीराम |publisher=कश्यप पब्लिकेशन |year=2007 |page=172 |language=|ISBN=9788190550116}}</ref> मंदिर के कार्यकलापों में एक द्विमासिक पत्रिका 'मानव-मंदिर' का प्रकाशन भी है।<ref name="novelguideguide.com">http://www.novelguide.com/a/discover/ear_01/ear_01_00174.html {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20090701072549/http://www.novelguide.com/a/discover/ear_01/ear_01_00174.html |date=1 जुलाई 2009 }}. अभिगमन तिथि 1 नवंबर 2009</ref> ट्रस्ट एक मुफ्त डिस्पेंसरी के साथ-साथ मुफ्त लंगर भी चलाता है। ट्रस्ट के द्वारा रखरखाव किए जा रहे पुस्तकालय में बहुत पुस्तकें है जिनमें शिव ब्रत लाल, फकीर चंद और कई अन्य संतों की दुर्लभ पुस्तकें संग्रहित हैं। विश्व में बाबा फकीर चंद के अनुयायियों और उनके आगे अनुयायियों की संख्या लाखों में है। संयुक्त राज्य अमेरिका में और कनाडा में भी इनके कुछ अनुयायी हैं।
|ISBN=9788190550116}}</ref> फकीर लाइब्रेरी चैरीटेबल ट्रस्ट इस मंदिर का कामकाज देखता है। मंदिर में ही शिव देव राव एस.एस.के. हाई स्कूल चलाया जा रहा है जहाँ विद्यार्थियों से कोई फीस नहीं ली जाती। तथापि उनके माता-पिता को एक वचन-पत्र देना पड़ता है कि वे तीन से अधिक बच्चे पैदा नहीं करेंगे।<ref>{{cite web
|url=http://bhagatshaadi.com/megh/Sant%20Satguru%20Vaqt%20Ka%20Vasiyatnama.pdf.|title=संत सत्गुरु वक्त का वसीयतनामा|publisher=भगतशादी.कॉम |accessdate=8 नवंबर 2009}} पृ.61-62,</ref><ref>{{cite book |title=संत सत्गुरु वक्त का वसीयतनामा |author=भगत मुंशीराम |publisher=कश्यप पब्लिकेशन |year=2007 |page=161 |language= |ISBN=9788190550116}}</ref> इस प्रकार 'मानवता मंदिर' मानवता और [[देश]] के कल्याण के लिए फकीर की इस विचारधारा का प्रचार-प्रसार कर रहा है कि परिवार कल्याण़ कार्यक्रम को [[धर्म]] में ही शामिल किया जाए.<ref>{{cite web |url=http://bhagatshaadi.com/megh/Sant%20Satguru%20Vaqt%20Ka%20Vasiyatnama.pdf. |title=संत सत्गुरु वक्त का वसीयतनामा |publisher=भगतशादी.कॉम |accessdate=२००९-११-२००८}} पृ.66</ref><ref>{{cite book|title=संत सत्गुरु वक्त का वसीयतनामा |author=भगत मुंशीराम |publisher=कश्यप पब्लिकेशन |year=2007 |page=172 |language=|ISBN=9788190550116}}</ref> मंदिर के कार्यकलापों में एक द्विमासिक पत्रिका 'मानव-मंदिर' का प्रकाशन भी है।<ref name="novelguideguide.com">http://www.novelguide.com/a/discover/ear_01/ear_01_00174.html. अभिगमन तिथि 1 नवंबर 2009</ref> ट्रस्ट एक मुफ्त डिस्पेंसरी के साथ-साथ मुफ्त लंगर भी चलाता है। ट्रस्ट के द्वारा रखरखाव किए जा रहे पुस्तकालय में बहुत पुस्तकें है जिनमें शिव ब्रत लाल, फकीर चंद और कई अन्य संतों की दुर्लभ पुस्तकें संग्रहित हैं। विश्व में बाबा फकीर चंद के अनुयायियों और उनके आगे अनुयायियों की संख्या लाखों में है। संयुक्त राज्य अमेरिका में और कनाडा में भी इनके कुछ अनुयायी हैं।
== इन्हें भी देखें ==
* [[बाबा फकीर चंद]]
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
* [https://web.archive.org/web/20100712161604/http://sites.google.com/site/faqirchandlibrary/ An Evolving Collection on the Life and Work of Faqir Chand]
* [https://web.archive.org/web/20090804235649/http://www.manavtamandir.com/ मंदिर का आधिकारिक जालस्थल]
* [https://web.archive.org/web/20090915182205/http://www.babafaqirchand.com/baba.html बाबा फकीरचंद]
 
== सन्दर्भ ==
81,801

सम्पादन

दिक्चालन सूची