"मंडी, हिमाचल प्रदेश" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
6,283 बैट्स् नीकाले गए ,  9 माह पहले
सम्पादन सारांश रहित
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
{{खराब अनुवाद|date=दिसम्बर 2014}}
{{Infobox Indian Jurisdiction |
| नगर का नाम = मण्डी
| प्रकार = जिला
| latd = 31.43
| longd= 76.58
| प्रदेश = हिमाचल प्रदेश
| जिला = [[मण्डी जिला]]
| शासक पद = [[जिलाधिकारी|जिलाधीक्षक]]
| शासक का नाम = श्री रुगवेद ठाकुर
| शासक पद 2 = [[जिला पुलिस अधीक्षक|पुलिस अधीक्षक]]
| शासक का नाम 2 =
| ऊँचाई =
| जनगणना का वर्ष = २००१
| जनगणना स्तर =
| जनसंख्या = २६८५८
| घनत्व = २२८
| क्षेत्रफल =
| दूरभाष कोड = 91-1905
| पिनकोड = 175001
| वाहन रेजिस्ट्रेशन कोड = एचपी ३३
| unlocode =
| वेबसाइट =
| skyline = Mandi town.jpg
| skyline_caption = मंडी शहर का दृश्य
| टिप्पणियाँ = |
}}
'''मंडी''' या '''मण्डी''', ({{lang-en|Mandi}}, {{lang-pa|ਮੰਡੀ}}), पूर्व में मांडव नगर के रूप में भी जाना जाता है। यह भारतीय राज्य हिमाचल प्रदेश का एक नगर है। जनसंख्या की दृष्टि से काँगड़ा के बाद यह राज्य का दूसरा सबसे बड़ा जिला है। आधिकारिक तौर पर जिला मंडी और जोनल मुख्यालय अर्थात् जिलों कुल्लू, बिलासपुर और हमीरपुर, एक सहित मध्य क्षेत्र के मुख्यालय शहर और एक नगरपालिका परिषद में मंडी के रूप में जाना जाता है जिले में . मंडी का दूसरा सर्वोच्च लिंग अनुपात प्रति हजार पुरुषों 1013 महिलाओं की। एक पर्यटन स्थल के रूप में, मंडी अक्सर "वाराणसी ऑफ हिल्स" या "छोटी काशी" या "हिमाचल की काशी" के रूप में जाना जाता है। मंडी के लोग गर्व से दावा है कि जबकि बनारस (काशी) केवल 80 मंदिर है, मंडी 81 है !
मंडी रियासत (अजबर सेन) के समय से तथा आज के समय में एक तेजी से विकसित होता हुआ शहर है तथा अभी भी अपने मूल आकर्षण और चरित्र का एक विशेष स्थान रखता है। यह 145 किलोमीटर (90 मील) राज्य की राजधानी के उत्तर में स्थित है शिमला . शहर का कुल क्षेत्रफल 23 2 किमी है। शहर अजबर सेन, 1527 में द्वारा स्थापित किया गया था [3] की सीट के रूप में मंडी राज्य, एक रियासत 1948 तक. शहर के फाउंडेशन हिमाचल प्रदेश की स्थापना पर जल्दी 1948 में रखी गई थी। मुख्य शहर से पुरानी मंडी (पुरानी मंडी) नई मंडी में स्थानांतरित किया गया।
आज, यह इंटरनेशनल के लिए व्यापक रूप से जाना जाता है मंडी शिवरात्रि मेले. उत्तर - पश्चिम में स्थित हिमालय 1044 मीटर (3425 फुट) के एक औसत ऊंचाई पर, शहर मंडी के सुखद गर्मी और ठंड सर्दियों अनुभव. शहर में भी पुराने महलों और 'औपनिवेशिक वास्तुकला का उल्लेखनीय उदाहरण के अवशेष है। शहर के सबसे पुराने भवनों में से एक ने हिमाचल प्रदेश.
मंडी से जुड़ा है पठानकोट के माध्यम से राष्ट्रीय राजमार्ग 20 जो लगभग 220 (140 मील) किमी लंबे और मनाली और चंडीगढ़ के माध्यम से राष्ट्रीय राजमार्ग 21 है जो 323 किमी (201 मील) लंबे है। मंडी से लगभग 184.6 किमी (114.7 मील) चंडीगढ़, निकटतम प्रमुख शहर है और से 440.9 किमी (273.9 मील) नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी .
महान साधु ऋषि माण्डव जो इस क्षेत्र में प्रार्थना के बाद शहर का नाम है और चट्टानों उसकी तपस्या की गंभीरता के कारण काला हो गया, तो शहर में उनके सम्मान है जो बाद में के रूप में जानते हो आया माण्डव्य नगरी के रूप में भेजा गया था मंडी.
 
== परिचय ==
व्‍यास नदी के किनारे बसा हिमाचल प्रदेश का ऐतिहासिक नगर मंडी लंबे समय से व्‍यवसायिक गतिविधियों का केन्‍द्र रहा है। समुद्र तल से 760 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह नगर हिमाचल के तेजी से विकसित होते शहरों में एक है। कहा जाता है महान संत मांडव ने यहां तपस्‍या की और उनके पास अलौकिक शक्तियां थी। साथ ही उन्‍हें अनेक ग्रन्‍थों का ज्ञान था। माना जाता है कि वे कोल्‍सरा नामक पत्‍थर पर बैठकर व्‍यास नदी के पश्चिमी तट पर बैठकर तपस्‍या किया करते थे। यह नगर अपने 81 ओल्‍ड स्‍टोन मंदिरों और उनमें की गई शानदार नक्‍कासियों के लिए के प्रसिद्ध है। मंदिरों की बहुलता के कारण ही इसे पहाड़ों के वाराणसी नाम से भी जाना जाता है। मंडी नाम संस्‍कृत शब्‍द मंडोइका से बना है जिसका अर्थ होता है खुला क्षेत्र।
7

सम्पादन

दिक्चालन सूची