"भक्ति काल" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
38 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
2405:205:1385:5F75:914E:FA25:132A:BAC4 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव को 2405:204:A780:7BF6:0:0:235F:28B0 के बदलाव से पूर्ववत किया: पूर्ण रूप से बकवास सामग्री।
छो (2405:205:1385:5F75:914E:FA25:132A:BAC4 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव को 2405:204:A780:7BF6:0:0:235F:28B0 के बदलाव से पूर्ववत किया: पूर्ण रूप से बकवास सामग्री।)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना SWViewer [1.3]
 
== प्रेमाश्रयी शाखा ==
[[मुसलमान]] [[सूफ़ीवाद|सूफी]] कवियों की इस समय की काव्य-धारा को प्रेममार्गी माना गया है क्योंकि प्रेम से ईश्वर प्राप्त होते हैं ऐसी उनकी मान्यता थी। ईश्वर की तरह प्रेम भी सर्वव्यापी तत्व है और ईश्वर का जीव के साथ प्रेम का ही संबंध हो सकता है, यह उनकी रचनाओं का मूल तत्व है। उन्होंने प्रेमगाथाएं लिखी हैं। ये प्रेमगाथाएं [[फ़ारसी भाषा|फारसी]] की मसनवियों की शैली पर रची गई हैं। इन गाथाओं की भाषा [[अवधी]] है और इनमें [[दोहा]]-[[चौपाई]] छंदों का प्रयोग हुआ है। मुसलमान होते हुए भी उन्होंने हिंदू-जीवन से संबंधित कथाएं लिखी हैं। खंडन-मंडन में न पड़कर इन फकीर कवियों ने भौतिक प्रेम के माध्यम से ईश्वरीय प्रेम का वर्णन किया है। ईश्वर को माशूक माना गया है और प्रायः प्रत्येक गाथा में कोई राजकुमार किसी राजकुमारी को प्राप्त करने के लिए नानाविध कष्टों का सामना करता है, विविध कसौटियों से पार होता है और तब जाकर माशूक को प्राप्त कर सकता है। इन कवियों में [[मलिक मोहम्मद जायसी|मलिक मुहम्मद जायसी]] प्रमुख हैं। आपका '[[पद्मावत]]' महाकाव्य इस शैली की सर्वश्रेष्ठ रचना है।jaTहै। अन्य कवियों में प्रमुख हैं - [[मंझन]], [[कुतुबन]] और [[उस्मान बिन अफ़्फ़ान|उसमान]]।
 
== इन्हें भी देखें ==
253

सम्पादन

दिक्चालन सूची