"राजसूय" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
86 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
106.210.188.81 (वार्ता) के 1 संपादन वापस करके 2409:4063:429F:208B:C552:6140:C1AC:A40Cके अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (106.210.188.81 (वार्ता) के 1 संपादन वापस करके 2409:4063:429F:208B:C552:6140:C1AC:A40Cके अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
जब वह अश्व किसी राज्य से होकर जाता और उस राज्य का राजा उस अश्व को पकड़ लेता था तो उसे उस अश्व के राजा से युद्ध करना होता था और अपनी वीरता प्रदर्शित करनी होती थी और यदि कोई राजा उस अश्व को नहीं पकड़ता था तो इसका अर्थ यह था की वह राजा उस राजसूय अश्व के राजा को नमन करता है और उस राज्य के राजा की छत्रछाया में रहना स्वीकार करता है।
 
[[रामायण]] काल में [[राम|श्रीराम]] और [[महाभारत]] काल में महाराज [[युधिष्ठिर]] द्वारा यह यज्ञ किया गया था।
 
== इन्हें भी देखें ==

दिक्चालन सूची