"हिन्दी व्याकरण" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
35 बैट्स् जोड़े गए ,  9 माह पहले
EatchaBot (वार्ता) द्वारा सम्पादित संस्करण 4583691 पर पूर्ववत किया। (ट्विंकल)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
(EatchaBot (वार्ता) द्वारा सम्पादित संस्करण 4583691 पर पूर्ववत किया। (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
== वर्ण विचार ==
{{main|वर्ण विभाग}}
वर्ण विचार हिंदी व्याकरण का पहला khandखंड है, जिसमें भाषा की मूल इकाई ध्वनि तथा वर्ण पर विचार किया जाता है। वर्ण विचार तीन प्रकार के होते हैं। इसके अंतर्गत हिंदी के मूल अक्षरों की परिभाषा, भेद-उपभेद, उच्चारण, संयोग, वर्णमाला इत्यादि संबंधी नियमों का वर्णन किया जाता है।
 
=== वर्ण ===
'''पुरुषवाचक सर्वनाम'''
 
जिस सर्वनाम का प्रयोग वक्ता या लेखक द्वारा स्वयं अपने लिए अथवा किसी अन्य के लिए किया जाता है, hfjjवह 'पुरुषवाचक (व्यक्तिवाचक्) सर्वनाम' कहलाता है। पुरुषवाचक (व्यक्तिवाचक) सर्वनाम तीन प्रकार के होते हैं-
 
* उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम- जिस सर्वनाम का प्रयोग बोलने वाला स्वयं के लिए करता है, उसे उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम कहा जाता है। जैसे - मैं, हम, मुझे, हमारा आदि।

दिक्चालन सूची