"समाज" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
1 बैट् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
विभिन्न विद्वानों ने समाज की भिन्न-भिन्न परिभाषा की है-
 
''''ग्रीन''' ने समाज की अवधारणा की जो व्याख्या की है उसके अनुसार समाज एक बहुत बड़ा समूह है जिसका को भी व्यक्ति सदस्य हो सकता है। समाज जनसंख्या, संगठन, समय,स्थान और स्वार्थों से बना होता है।
 
'''एडम स्मिथ'''- ''मनुष्य ने पारस्परिक लाभ के निमित्त जो कृत्रिम उपाय किया है वह समाज है।

दिक्चालन सूची