"उत्तराखण्ड का इतिहास" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
छो
Pywikibot 3.0-dev
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
छो (Pywikibot 3.0-dev)
इस क्षेत्र को देव-भूमि व तपोभूमि माना गया है। मानसखण्ड का कुर्मांचल व कुमांऊँ नाम चन्द राजाओं के शासन काल में प्रचलित हुआ। कुर्मांचल पर चन्द राजाओं का शासन कत्यूरियों के बाद प्रारम्भ होकर सन १७९० तक रहा। सन १७९० में [[नेपाल]] की गोरखा सेना ने [[कुमाऊँ मण्डल|कुमांऊँ]] पर आक्रमण कर कुमांंऊँ राज्य को अपने आधीन कर दिया।
 
[[गोरखा|गोरखाओं]] का कुमांऊँ पर सन १७९० से १८१५ तक शासन रहा। सन १८१५ में अंग्रजो से अन्तिम बार परास्त होने के उपरान्त गोरखा सेना नेपाल वापिस चली गई किन्तु अंग्रजों ने कुमांऊँ का शासन चन्द राजाओं को न देकर कुमांऊॅंकुमांऊँ को ईस्ट इण्ड़िया कम्पनी के अधीन कर किया। इस प्रकार कुमांऊँ पर अंग्रेजो का शासन १८१५ से प्रारम्भ हुआ।
 
ऐतिहासिक विवरणों के अनुसार केदार खण्ड कई गढों (किले) में विभक्त था। इन गढों के अलग राजा थे और राजाओं का अपने-अपने आधिपत्य वाले क्षेत्र पर साम्राज्य था। इतिहासकारों के अनुसार पंवार वंश के राजा ने इन गढो को अपने अधीनकर एकीकृत गढ़वाल राज्य की स्थापना की और [[श्रीनगर, उत्तराखण्ड|श्रीनगर]] को अपनी राजधानी बनाया। केदारखण्ड का गढवाल नाम तभी प्रचलित हुआ। सन १८०३ में नेपाल की गोरखा सेना ने गढ़वाल राज्य पर आक्रमण कर गढ़वाल राज्य को अपने अधीन कर लिया। महाराजा गढ़वाल ने नेपाल की गोरखा सेना के अधिपत्य से राज्य को मुक्त कराने के लिए अंग्रजो से सहायता मांगी।
 
== मध्यकाल में उत्तराखण्ड ==
कत्यूरी राजा वीर देव के पश्चात कत्युरियों के साम्राज्य का पूर्ण विभाजन हो गया तथा यह न केवल अपनी जाति के अपितु कुछ बाहरी कबीलों के भी अधीन बट गया। गढ़वाल का एक बहुत बड़ा भाग कत्युरियों के हाथों से निकल गया तथा शेष कुमांऊॅंकुमांऊँ क्षेत्र छह कबीलों में बँट गया। तत्पश्चात कतुरिस साम्राज्य को नेपाली राजाओं अहोकछला ([[११९१]] ईस्वी) तथा कराछला देव ([[१२२३]] ईस्वी) ने अपने राज्य में मिला लिया। यह दोनों आक्रमण विभिन्न कबीलों में परस्पर शत्रुता के कारण निर्णायक सावित हुए। तत्पश्चात संपूर्ण साम्राज्य ६४ अथवा कुछ मतों के अनुसार ५२ गढ़ों में विभाजित हो गया। इन सभी गढ़ों के सरदार अक्सर आपस में झगड़ते रहते थे। सोलहवी शताब्दी के प्रारंभ में कनक पाल के वंशज अजय पाल ने जो की चांदपुर गढ़ी कबीलों का सरदार था, सम्पूर्ण गढ़वाल को एक कर दिया।
 
पांडुकेश्वर की तांबे की प्लेटें (ताम्रपत्र) दर्शाती हैं कि इस बेराज की राजधानी कार्तिकेयपुरा नीति-माना घाटी में और आगे चलकर कात्यूर घाटी में स्थित थी। एटकिंशन ने काबुल की घाटी से इस वंशज की उत्पत्ति का पता लगाया तथा उनकों काटोरों से जोड़ा।
710

सम्पादन

दिक्चालन सूची