"रेडियो खगोलशास्त्र" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
छो
बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है
छो (186.126.251.118 (Talk) के संपादनों को हटाकर Addbot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
[[चित्र:USA.NM.VeryLargeArray.02.jpg|thumb|230px|[[संयुक्त राज्य अमेरिका|अमेरिका]] के [[न्यू मेक्सिको]] राज्य के रेगिस्तान में लगी रेडियो दूरबीनों की एक शृंखला]]
'''रेडियो खगोलशास्त्र''' (<small>Radio astronomy</small>) [[खगोल शास्त्र|खगोलशास्त्र]] की वह शाखा है जिसमें [[खगोलीय वस्तुओंवस्तु]]ओं का अध्ययन [[रेडियो आवृत्ति]] (फ़्रीक्वॅन्सी) पर आ रही [[रेडियो तरंगोंतरंग]]ों के ज़रिये किया जाता है। इसका सबसे पहला प्रयोग १९३० के दशक में कार्ल जैन्सकी (<small>Karl Jansky</small>) नामक [[संयुक्त राज्य अमेरिका|अमेरिकी]] खगोलशास्त्री ने किया था जब उन्होंने [[आकाशगंगा]] (हमारी [[मन्दाकिनी|गैलेक्सी]]) से [[विकिरण]] (रेडियेशन) आते हुए देखा। उसके बाद [[तारा|तारों]], गैलेक्सियों, [[पल्सरोंपल्सर]]ों, क्वेज़ारों और अन्य खगोलीय वस्तुओं का रेडियो खगोलशास्त्र में अध्ययन किया जा चुका है। [[महाविस्फोट सिद्धान्त|बिग बैंग सिद्धांत]] की पुष्ठी भी [[खगोलीय पार्श्व सूक्ष्मतरंगी विकिरण]] (कॉस्मिक माइक्रोवेव बैकग्राउंड रेडियेशन) का अध्ययन करने से की गई है।<ref name="ref00fuxid">[http://books.google.com/books?id=YhfjygAACAAJ Radio Telescopes, Including: Wilkinson Microwave Anisotropy Probe, Cosmic Background Explorer, Australia Telescope Compact Array, Cosmic Background Imager, Boomerang Experiment, Arcminute Microkelvin Imager, Very Small Array, Clover (Telescope), Quad], Hephaestus Books, Hephaestus Books, 2011, ISBN 978-1-244-89478-5</ref><ref name="ref65qamom">[http://books.google.com/books?id=jsw7AAAAIAAJ Radio Astronomy], Sir Francis Graham-Smith, CUP Archive, 1952</ref>
 
रेडियो खगोलशास्त्र में भीमकाय [[एन्टेना|रेडियो एन्टेना]] के ज़रिये रेडियो तरंगों को पकड़ा जाता है और फिर उनपर अनुसन्धान किया जाता है। इन रेडियो एन्टेनाओं को रेडियो दूरबीन (रेडियो टेलिस्कोप) कहा जाता है। कभी-कभी रेडियो खगोलशास्त्र किसी अकेले एन्टेना से किया जाता है और कभी एक पूरे रेडियो दूरबीनों के गुट का प्रयोग किया जाता है जिसमें इन सबसे मिले रेडियो संकेतों को मिलकर एक ज़्यादा विस्तृत तस्वीर मिल सकती है। क्योंकि रेडियो दूरबीनों का आकार बड़ा होता है इसलिए अक्सर ऐसी दूरबीनों की शृंखलाएँ शहर से दूर रेगिस्तानों और पहाड़ों जैसे बीहड़ इलाकों में मिलती हैं।<ref name="ref04rudid">[http://books.google.com/books?id=mFVRWG9Xf4QC The Radio Sky and How to Observe It], Jeff Lashley, Springer, 2010, ISBN 978-1-4419-0882-7</ref>
 
== इन्हें भी देखें ==
* [[खगोल शास्त्र|खगोलशास्त्र]]
* [[रेडियो तरंग]]
* [[दूरदर्शी|दूरबीन]]
 
== सन्दर्भ ==
85,616

सम्पादन

दिक्चालन सूची