"अवोगाद्रो का नियम": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
107 बाइट्स जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
छो
बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
}}
 
: ''समान [[तापमान|ताप]] व [[दाब]] पर सभी [[आदर्श गैस|आदर्श गैसों]] के समान [[आयतन]] में कणों या अणुओं की संख्या समान होती है। ''
 
(Equal volumes of ideal or perfect gases, at the same temperature and pressure, contain the same number of particles, or molecules.)
:''k'' एक नियतांक है।
 
अवोगाद्रो के नियम का सबसे महत्वपूर्ण निष्कर्ष यह है कि [[सार्वत्रिक गैस नियतांक|आदर्श गैस नियतांक]] (ideal gas constant) का मान सभी गैसों के लिये समान होता है। अर्थात्
 
:<math>\frac{p_1\cdot V_1}{T_1\cdot n_1}=\frac{p_2\cdot V_2}{T_2 \cdot n_2} = constant</math>
:''T'' गैस का ताप है।
 
किसी आदर्श गैस का एक [[मोल (इकाई)|मोल]] [[मानक ताप व दाब]] (standard temperature and pressure / STP) पर २२.४ [[लीटर]] स्थान घेरता है। इस आयतन को प्राय: आदर्श गैस का [[मोलर आयतन]] (molar volume) कहते हैं।
 
==इन्हें भी देखें==
85,949

सम्पादन

नेविगेशन मेन्यू